फोटो गैलरी

Hindi News ऑटोइस पर बम भी बेअसर! G-20 में दुनिया की सबसे सेफ कार से आएंगे यूएस प्रेसिडेंट बाइडेन, कार की खासियत जान उड़ जाएंगे होश

इस पर बम भी बेअसर! G-20 में दुनिया की सबसे सेफ कार से आएंगे यूएस प्रेसिडेंट बाइडेन, कार की खासियत जान उड़ जाएंगे होश

G-20 शिखर सम्मेलन में अमेरिका के राष्ट्रपति जो बाइडेन दुनिया की सबसे सुरक्षित कार द-बीस्ट से आएंगे। इस पर गोली-बम सब बेअसर है। इस कार में दुनिया के सबसे सुरक्षित ऑटो पार्ट्स और टेक का यूज किया गया है।

इस पर बम भी बेअसर! G-20 में दुनिया की सबसे सेफ कार से आएंगे यूएस प्रेसिडेंट बाइडेन, कार की खासियत जान उड़ जाएंगे होश
Sarveshwar Pathakलाइव हिंदुस्तान,नई दिल्लीMon, 28 Aug 2023 02:00 PM
ऐप पर पढ़ें

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन G-20 शिखर सम्मेलन में हिस्सा लेने के लिए भारत आ रहे हैं। बाइडेन नई दिल्ली में 7 सितंबर से 10 सितंबर तक होने वाले समिट में हिस्सा लेने भारत आ रहे हैं। राष्ट्रपति बाइडेन भारत दौरे पर आने वाले 8वें अमेरिकी राष्ट्रपति होंगे। वैसे तो G20 की बैठक में विदेशी मेहमानों की सुरक्षा के लिए CRPF ने ग्रेटर नोएडा स्थित, वीआईपी सिक्योरिटी ट्रेनिंग सेंटर में 1000 रक्षकों की स्पेशल 50 टीम तैनात की गई है। लेकिन, दुनिया के सबसे ताकतवर देश अमेरिका के प्रेसीडेंट जो बाइडेन जिस देश में भी यात्रा करते हैं, वहां उनकी सुरक्षा में लोकल सिक्योरिटी के अलावा पर्सनल सिक्योरिटी भी रहती है। लेकिन, जो सबसे खास रहता है, वो है उनके साथ चलने वाली दुनिया की सेफेस्ट कार, 'द-बीस्ट'। आज हम अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन के इस खास कार के बारे जानेंगे, जिसे न कोई गोली भेद सकती है और न ही कोई बम-बारूद इसे उड़ा सकता है। मतलब कि इस पर सब बेअसर है। 

यह भी पढ़ें- इन दो कारों के दम पर फॉक्सवैगन ने गाड़ दिए झंडे, हासिल की 95% बिक्री; स्कोडा के इस मॉडल पर टूट पड़े लोग

दिल्ली में हो रहे G-20 शिखर सम्मेलन में अमेरिका के राष्ट्रपति भी शामिल होने के लिए पहुंच रहे हैं। जानकारी के मुताबिक अमेरिका से 'द-बीस्ट' कार को भी लाया जा रहा है, जिसमें बैठकर अमेरिकी प्रेसीडेंट G-20 शिखर सम्मेलन में हिस्सा लेने पहुंचेंगे। आयोजन स्थल प्रगति मैदान तक जाने वाले हर देश के प्रमुख के काफिले में 14 से ज्यादा कारें नहीं होंगी। लेकिन, अमेरिकी राष्ट्रपति के काफिले में चलने वाली कारों की संख्या 15 से 25 हो सकती है। बाइडेन की लिमोजीन (द-बीस्ट) नाम की कार न केवल सेफ्टी के लिहाज से बेहतरीन है, बल्कि इसमें दुनियाभर के लग्जरी फीचर्स भी दिए गए हैं। इसका व्हील इतना दमदार है कि यह बमबारी होने के बाद भी दौड़ सकता है।

मिलिटरी ग्रेड ऑर्मर- द-बीस्ट

बीस्ट के एक्सटीरियर को मिलिटरी ग्रेड ऑर्मर मिलता है, जो कम से कम 5 इंच मोटा होता है। इसके बख्तरबंद डोर 8 इंच मोटे हैं और उनका वजन बोइंग 757 जेट के केबिन डोर के बराबर है। डोर बंद होने के बाद यह फुल सील हो जाता है, जिसे भेद पाना बड़ा मुश्किल है। इसका सील किसी भी कैमिकल हमले को झेलने के लिए तैयार है। कार की विंडोज काफी मजबूत हैं। इनमें कांच और पॉली कार्बोनेट की पांच परतें हैं। ये कवच-भेदी गोलियों का सामना कर सकती हैं। वाहन को बम हमलों से बचाने के लिए द बीस्ट के चेसिस में स्टील प्लेटों को मजबूत किया गया है। टायर खराब होने की स्थिति में भी कार चल सकेगी।

आंसू गैस और स्मोक-स्क्रीन डिस्पेंसर से लैसे है ये कार

इंटीरियर की बात करें तो द बीस्ट रियर में चार पैसेंजर बैठ सकते हैं और इसमें ग्लास पार्टीशन है। इसे केवल एक स्विच द्वारा ही डिवाइड किया जा सकता है, जो राष्ट्रपति को उपलब्ध कराया जाता है। फ्यूल टैंक बख़्तरबंद है और एक खास फोम से भरा है, जो दुर्घटना होने के बाद भी इसे फटने से बचाता है। कार के बूट हिस्से में अग्निशमन सिस्टम, आंसू गैस और स्मोक-स्क्रीन डिस्पेंसर हैं।

जीपीएस ट्रैकिंग सिस्टम और नाइट-विज़न फीचर कैमरा
इसके अलावा यह खास लिमोसिन पंप-एक्शन शॉटगन और आंसू गैस तोपों से भरी हुई है। इमरजेंसी के लिए इसमें राष्ट्रपति के ब्लड ग्रुप का दो बैग ब्लड बैंक भी रखा जाता है। ड्राइवर के सीट के पास इसमें संचार केंद्र और एक जीपीएस ट्रैकिंग सिस्टम है। सामने की तरफ, ग्रिल के नीचे नाइट-विज़न फीचर कैमरा है।

कौन चलाता है प्रेसीडेंट की कार?

इस खास कार को चलाने के लिए एक विशेष व्यक्ति की आवश्यकता होती है। इसका चालक वह व्यक्ति होता है, जो बहुत उच्च स्तर के कौशल का प्रदर्शन करता है और उसे यह सुनिश्चित करने के लिए कठोर प्रशिक्षण से गुजरना पड़ता है कि वह इस वाहन को संभालने और राष्ट्रपति को सुरक्षित रखने में सक्षम है।

एक दो नहीं बल्कि ये कंपनी लाने जा रही कारों की बाढ़, 19 EVs समेत लॉन्च करेगी 30 धांसू कारें; सब एक से बढ़कर एक

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें