Hindi Newsधर्म न्यूज़Surya Grahan 2024 October Date and Time Solar Eclipse Sutak Kaal and where to see

साल के दूसरे सूर्य ग्रहण में दिखेगा 'रिंग ऑफ फायर' का नजारा, जानें ग्रहण डेट, टाइमिंग व सूतक काल

  • Surya Grahan 2024 Date: जब चंद्रमा, पृथ्वी और सूर्य के बीच से गुजरता है तब सूरज की रोशनी धरती पर नहीं पहुंच पाती है। इस खगोलीय घटना को सूर्य ग्रहण कहते हैं।

Saumya Tiwari लाइव हिन्दुस्तानTue, 18 June 2024 05:19 AM
हमें फॉलो करें

Surya Grahan 2024: साल 2024 का पहला सूर्यग्रहण अप्रैल महीने में लगा था, जो कि एक विशेष पूर्ण ग्रहण था। अब साल का दूसरा सूर्यग्रहण अक्टूबर में लगेगा। यह एक वलयाकार ग्रहण होगा, जिसे रिंग ऑफ फायर के नाम से भी जानते हैं। खगोल शास्त्र के जानकारों के लिए यह एक महत्वपूर्ण घटना होता है।

क्या होता है वलयाकार सूर्यग्रहण: वैज्ञानिकों के अनुसार, वलयाकार सूर्यग्रहण तब होता है जब चंद्रमा सूर्य को पूरी तरह से ढक नहीं पाता है। जिससे सूर्य का बाहरी किनारा एक चमकदार रिंग के रूप में नजर आता है।

कब लगेगा साल का दूसरा सूर्यग्रहण: साल का दूसरा सूर्यग्रहण 2 अक्टूबर 2024, बुधवार को लगेगा। हिंदू कैलेंडर के अनुसार, यह ग्रहण रात 09 बजकर 13 मिनट पर शुरू होगा और सुबह 03 बजकर 17 मिनट पर समाप्त होगा। यह वलयाकार सूर्यग्रहण कुल 6 घंटे 04 मिनट का रहेगा।

क्या भारत में दिखेगा सूर्यग्रहण- जिस तरह से साल का पहला सूर्यग्रहण भारत में नहीं दिखाई पड़ा था, ठीक उसी तरह से साल का दूसरा सूर्यग्रहण भी देश में नजर नहीं आएगा। हालांकि यह ग्रहण दक्षिणी अमेरिका के उत्तरी इलाकों अर्जेंटीना और पेरू, फिजी, चिली, ब्राजील, मेक्सिको, न्यूजीलैंड और प्रशांत महासागर में देखा जा सकेगा।

क्या भारत में मान्य होगा सूतक काल- भारत में ग्रहण नजर नहीं नजर आने के कारण देश में सूर्यग्रहण का सूतक भी मान्य नहीं होगा।

साल 2025 में कब लगेगा साल का पहला और दूसरा सूर्यग्रहण- साल 2025 का पहला सूर्यग्रहण 29 मार्च 2025, शनिवार को लगेगा। इसके बाद साल का दूसरा सूर्यग्रहण 21 सितंबर 2025 को लगेगा।

ग्रहण के दौरान क्या करें-

1.ग्रहण शुरू होने से पहले स्नान आदि कर लेना शुभ माना जाता है।

2. ग्रहण काल में मन ही मन भगवान का ध्यान करना चाहिए।

3. सूर्य ग्रहण में दान करना बेहद शुभ माना जाता है। ग्रहण समाप्त होने के बाद घर में गंगा जल का छिड़काव करना चाहिए।

4. ग्रहण खत्म होने के बाद एक बार फिर स्नान करना चाहिए।

5. ग्रहण काल के दौरान खाने-पीने की चीजों में तुलसी का पत्ता डालना चाहिए।

ऐप पर पढ़ें