DA Image
16 जनवरी, 2021|1:23|IST

अगली स्टोरी

काम की बात: नहीं आती नींद तो काम आएगा एक लोटा जल का यह उपाय

water pot

यदि आप अनिंद्रा के शिकार हैं। तमाम उपाय करके थक गए हैं। दवाएं बेअसर हो रही हैं तो आप धार्मिक उपचार भी करके देख लीजिए। यूं मुसीबत और बीमारी में हर कोई किसी न किसी रूप में ईश्वर की शरण में जाता ही है। उसको लगता है कि कुछ भी हो, बस..मुझे आराम हो जाना चाहिए। व्यस्त जीवनशैली और तनाव के चलते इस वक्त ज्यादातर लोग अनिद्रा के शिकार हैं। अनिद्रा को दूर करने के लिए एक धार्मिक उपचार भी है। आइये, बताते हैं..

क्या करें
1. रात को एक लोटा जल अपने सिरहाने रख लें
2. जिस जगह लोटा रखा हो, उसी दिशा में सोएं। यानी सोने की दिशा न बदलें
3. लोटे में जल पूरा रखें। इतनी दूरी अवश्य रखें कि सोते हुए हाथ नहीं लगे।
4. एक लोटा जल रखने के बाद तीन, पांच या ग्यारह बार गायत्री मंत्र पढ़ लें (एच्छिक)
5. सवेरे उठकर लोटे का जल किसी गमले में डाल दें।
6. ध्यान रखें कि गमले में फूलवाला, कांटेवाला और तुलसी का पौधा न हो
7. यह उपाय आप नियमित करते रहिए। ब्रेक न करें।
8. प्रात:काल हनुमान चालीसा और रात को बजरंगबाण का पाठ भी आपको राहत देगा। (एच्छिक)  
9. बजरंगबाण का पाठ बिस्तर पर बैठकर नहीं करें । ( एच्छिक)
 
क्यों है लाभकारी
1.   जल हमारी नकारात्मक ऊर्जा को शांत करता है।
2.   जल हमारा जीवन मंत्र है
3.   गायत्री मंत्र पढ़ने से हमारे अंदर ऊर्जा का संचार होता है
4.   गायत्री मंत्र से तनाव से मुक्ति मिलती है
5.   सूर्य और चंद्र की युति मिलने से हम अनिंद्रा से दूर हो जाते हैं।
 
इससे शरीर की नकारात्मक ऊर्जा समाप्त होगी। मानसिक शांति मिलेगी और जल्द ही आपको अनिंद्रा से मुक्ति मिल जाएगी।

 

नोट-
इस आलेख में दी गई जानकारियों पर हम यह दावा नहीं करते कि ये पूर्णतया सत्य व सटीक हैं तथा इन्हें अपनाने से अपेक्षित परिणाम मिलेगा। इन्हें अपनाने से पहले संबंधित क्षेत्र के विशेषज्ञ की सलाह जरूर लें।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:you can get relief in sleeplessness by these tips