ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News AstrologyWhen is Pradosh Note down the date auspicious time and Puja vidhi

प्रदोष व्रत आज, नोट कर लें शुभ मुहूर्त और पूजा की विधि

Pradosh December: 1 महीने में दो बार प्रदोष की तिथि पड़ती है। वहीं, दिसंबर के महीने में पहला प्रदोष व्रत दूसरे सप्ताह में ही रखा जाएगा।

प्रदोष व्रत आज, नोट कर लें शुभ मुहूर्त और पूजा की विधि
Shrishti Chaubeyलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीSun, 10 Dec 2023 10:05 AM
ऐप पर पढ़ें

प्रदोष कब है: हिन्दू मान्यताओं में प्रदोष व्रत विशेष तौर पर महत्वपूर्ण माना जाता है, जो भगवान शिव को समर्पित है। ऐसी मान्यता है कि जो व्यक्ति प्रदोष के दिन व्रत रख भोलेनाथ की उपासना करता है, उसकी हर मनोकामना पूरी हो जाती है। 1 महीने में दो बार प्रदोष की तिथि पड़ती है। वहीं, दिसंबर के महीने में पहला प्रदोष व्रत दूसरे सप्ताह में ही रखा जाएगा। इसलिए आइए जानते हैं दिसंबर के पहले प्रदोष व्रत की सही डेट, पूजा की विधि और उपाय- 

गुरु, शनि, सूर्य समेत 3 ग्रहों की 2024 में उल्टी चाल, इन राशियों की लगाएंगे नैया पार

कब है प्रदोष?
हिंदू पंचांग के अनुसार, मार्गशीर्ष महीने के कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी तिथि की शुरुआत 10 दिसंबर 2023, रविवार के दिन हो रही है, जो अगले दिन 11 दिसंबर 2023 की सुबह तक रहेगी। ऐसी में उदया तिथि के अनुसार, पहले प्रदोष का व्रत 10 दिसंबर को रखा जाएगा। रविवार के दिन पड़ने के कारण ये रवि प्रदोष व्रत कहलाएगा। 

शुभ मुहूर्त- 
शुक्ल त्रयोदशी तिथि की शुरुआत- सुबह 07 बजकर 13 मिनट, 10 दिसंबर 
शुक्ल त्रयोदशी तिथि की समाप्ति- 07 बजकर 10 मिनट पर, 11 दिसंबर 
संध्या पूजा मुहूर्त- शाम 05 बजकर 24 मिनट - रात 08 बजकर 08 मिनट तक

उत्पन्ना एकादशी पर कर लें ये 6 उपाय, जागेगा भाग्य, बढ़ेगा सुख-सौभाग्य

शिवलिंग पर क्या चढ़ाएं?
घी
दही
फूल
फल
अक्षत
बेलपत्र
धतूरा
भांग
शहद
गंगाजल
सफेद चंदन
काला तिल
कच्चा दूध
हरी मूंग दाल
शमी का पत्ता

प्रदोष पूजा विधि
स्नान करने के बाद साफ वस्त्र धारण कर लें। शिव परिवार सहित सभी देवी-देवताओं की विधिवत पूजा करें। अगर व्रत रखना है तो हाथ में पवित्र जल, फूल और अक्षत लेकर व्रत रखने का संकल्प लें। फिर संध्या के समय घर के मंदिर में गोधूलि बेला में दीपक जलाएं। फिर शिव मंदिर में भगवान शिव का अभिषेक करें और शिव परिवार की विधिवत पूजा-अर्चना करें। अब प्रदोष व्रत की कथा सुनें। फिर घी के दीपक से पूरी श्रद्धा के साथ भगवान शिव की आरती करें। अंत में ओम नमः शिवाय का मंत्र-जाप करें। अंत में क्षमा प्रार्थना भी करें।

डिस्क्लेमर: इस आलेख में दी गई जानकारियों पर हम यह दावा नहीं करते कि ये पूर्णतया सत्य एवं सटीक हैं। विस्तृत और अधिक जानकारी के लिए संबंधित क्षेत्र के विशेषज्ञ की सलाह जरूर लें। 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें