ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News AstrologyWhen is Basant Panchami in 2024 Know Maa Saraswati puja time vidhi and importance of the vasant panchami

Basant Panchami 2024: 2024 में बसंत पंचमी कब है? जानें मां सरस्वती पूजन मुहूर्त, विधि व इस दिन का महत्व

Basant Panchami Subh Muhurat 2024: बसंत पंचमी के दिन मां सरस्वती की पूजा का विधान है। कहते हैं कि बसंत पंचमी के दिन पूजा-अर्चना करने से वैवाहिक जीवन खुशहाल होता है।

Basant Panchami 2024: 2024 में बसंत पंचमी कब है? जानें मां सरस्वती पूजन मुहूर्त, विधि व इस दिन का महत्व
Saumya Tiwariलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीFri, 08 Dec 2023 05:26 AM
ऐप पर पढ़ें

 Saraswati Puja 2024 Date, Basant Panchami 2024: हिंदू धर्म में बसंत पंचमी का पर्व बहुत ही धूमधाम से मनाया जाता है। इस दिन मां सरस्वती की विधिवत पूजा-अर्चना की जाती है। पौराणिक मान्यताओं के अनुसार, इस दिन ज्ञान की देवी मां सरस्वती का अवतरण हुआ था। हिंदू पंचांग के अनुसार, हर साल बसंत पंचमी का पर्व माघ मास के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि को मनाया जाता है। इस दिन देश में बसंत (वसंत) ऋतु की शुरुआत मानी जाती है।

बसंत पंचमी 2024 शुभ मुहूर्त- द्रिकपंचांग के अनुसार, पंचमी तिथि 13 फरवरी को दोपहर 02 बजकर 41 मिनट पर प्रारंभ होगी और 14 फरवरी 2024 को दोपहर 12 बजकर 09 मिनट पर समाप्त होगी।

 दिसंबर में ये 5 प्रमुख ग्रह बदल रहे अपनी चाल, सिंह समेत ये राशि वाले होंगे मालामाल

बसंत पंचमी सरस्वती पूजन मुहूर्त- बसंत पंचमी के दिन सरस्वती पूजन का शुभ मुहूर्त सुबह 07 बजे से दोपहर 12 बजकर 35 मिनट तक रहेगा। पूजन की कुल अवधि 05 घंटे 35 मिनट है।

बसंत पंचमी का महत्व: मान्यता है कि इस पावन दिन मां सरस्वती की पूजा करने से बुद्धि व ज्ञान की प्राप्ति होती है। इसके साथ ही यह दिन सभी शुभ कार्यो के लिए बहुत ही शुभ माना जाता है। इस दिन अबूझ मुहूर्त होने के कारण बिना किसी मुहूर्त के विचार किए नए कार्य की शुरुआत उत्तम मानी जाती है।

बसंत पंचमी पूजा विधि-

1. मां सरस्वती की प्रतिमा या मूर्ति को पीले रंग के वस्त्र अर्पित करें।
2. अब रोली, चंदन, हल्दी, केसर, चंदन, पीले या सफेद रंग के पुष्प, पीली मिठाई और अक्षत अर्पित करें।
3. अब पूजा के स्थान पर वाद्य यंत्र और किताबों को अर्पित करें।
4. मां सरस्वती की वंदना का पाठ करें
5. विद्यार्थी चाहें तो इस दिन मां सरस्वती के लिए व्रत भी रख सकते हैं।

15 जनवरी 2024 को सूर्य का महागोचर, मेष व कुंभ समेत इन 5 राशि वालों के लिए एक महीना वरदान समान

सरस्वती वंदना- या कुन्देन्दुतुषारहारधवला या शुभ्रवस्त्रावृता।
या वीणावरदण्डमण्डितकरा या श्वेतपद्मासना॥
या ब्रह्माच्युत शंकरप्रभृतिभिर्देवैः सदा वन्दिता।
सा मां पातु सरस्वती भगवती निःशेषजाड्यापहा॥१॥

शुक्लां ब्रह्मविचार सार परमामाद्यां जगद्व्यापिनीं।
वीणा-पुस्तक-धारिणीमभयदां जाड्यान्धकारापहाम्॥
हस्ते स्फटिकमालिकां विदधतीं पद्मासने संस्थिताम्।
वन्दे तां परमेश्वरीं भगवतीं बुद्धिप्रदां शारदाम्॥२॥