ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News AstrologyWhat will be the results of Ketu in the twelve houses If Ketu is good then the person will be knowledgeable in secret knowledge

केतु के बारह भावों में क्या फल होंगे?, केतु अच्छा हो तो व्यक्ति गुप्त विद्याओं का जानकार, भाग्यशाली, पिता का सम्मान करने वाला होता है

नवम भाव भाग्यशाली, पिता का सम्मान करने वाला होगा। नीच हो तो व्यक्ति अविश्वासी, परनिंदा करने वाला और पिता को हानि पहुंचाने वाला होगा। जुए में भी रुचि होगी। दशम भाव अच्छा व्यवसायी, अच्छे चिंतन वाला होग

केतु के बारह भावों में क्या फल होंगे?, केतु अच्छा हो तो व्यक्ति गुप्त विद्याओं का जानकार, भाग्यशाली, पिता का सम्मान करने वाला होता है
Anuradha Pandeyडॉ संजीव कुमार शर्मा,नई दिल्लीTue, 27 Feb 2024 08:32 PM
ऐप पर पढ़ें

केतु के बारह भावगत फल

प्रथम भाव ऐसा व्यक्ति छोटे कद का, चपल स्वभाव, व्यवहार कुशल, चंचल होगा। अकारक हो तो व्यक्ति शरीर से पीड़ित होगा।

द्वितीय भाव व्यक्ति का वाणी पर संयम होगा। कुटुंब से बनाने वाला होगा। मारक या नीच हो तो कटु वक्ता, वाणी और धन से हीन होगा।

तृतीय भाव व्यक्ति भ्रमणशील, साहसी, बुद्धिमान और कला-प्रेमी होगा। नीच या मारक हो तो व्यक्ति भूत-प्रेत में विश्वास रखने वाला, वात रोगी होगा।

चतुर्थ भाव मातृ भक्त। पर्यटन का शौकीन और गृह सुख प्राप्त करने वाला। मारक या नीच हो तो निर्बल स्वास्थ्य और पैतृक संपत्तिविहीन होगा।

पंचम भाव व्यक्ति गुप्त विद्याओं का जानकार, मनोविज्ञान, शेयर मार्केट के कार्यों में रुचि। नीच या मारक है तो संतान पक्ष से दुखी, कपटी होगा।

छठा भाव व्यक्ति भोगी, वात रोग से पीड़ित, झगड़ालू होगा। भूत-प्रेत में विशेष ध्यान करने वाला परंतु मितव्ययी होगा।

सप्तम भाव दाम्पत्य जीवन अच्छा। पार्टनरशिप में कार्य कर सकता है। नीच या अकारक हो तो वैवाहिक जीवन हमेशा दुखी रहेगा। पार्टनरशिप में धोखा मिलेगा।

अष्टम भाव कलुषित हृदय, दंत रोगी, रक्त विकार हो सकता है। चिंतित रहनेवाला, आत्मघाती प्रवृत्ति का होगा।

नवम भाव भाग्यशाली, पिता का सम्मान करने वाला होगा। नीच हो तो व्यक्ति अविश्वासी, परनिंदा करने वाला और पिता को हानि पहुंचाने वाला होगा। जुए में भी रुचि होगी।

दशम भाव अच्छा व्यवसायी, अच्छे चिंतन वाला होगा। मारक या नीच हो तो काम-धंधे में हानि और पिता से वैचारिक मतभेद रखेगा।

एकादश भाव व्यक्ति बुद्धिमान, उपकारी, विनोदी, समृद्धिशाली होगा। मारक हो तो व्यक्ति संतान पक्ष से चिंतित और वात रोगी होगा।

द्वादश भाव व्यक्ति खर्चीला, चंचल स्वभाव का और अध्यात्म में रुचि रखने वाला होगा। अकारक हो तो धूर्त अथवा ठग भी हो सकता है।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें