Vishvakarman Vishwakarma Puja know puja vidhi and biswakarma puja muhurata - Vishwakarma puja 2019: ये है विश्वकर्मा पूजा का अभिजीत मुहूर्त और ऐसे करें पूजा तो फले फूलेगा कारोबार DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

Vishwakarma puja 2019: ये है विश्वकर्मा पूजा का अभिजीत मुहूर्त और ऐसे करें पूजा तो फले फूलेगा कारोबार

vishwakarma puja  vishwakarma puja 2019  vishwakarma  biswakarma puja date

निर्माण के देवता भगवान विश्वकर्मा की पूजा आज होगी। ज्योतिषी राकेश झा शास्त्री ने बताया कि आश्विनी नक्षत्र एवं ध्रुव योग के युग्म संयोग में पूजा की जाएगी। भगवान विश्वकर्मा को निर्माण का देवता माना जाता है।

पूजा शुभ मुहूर्त
संक्रांति काल मुहूर्त: प्रात:  05:54 बजे से 12:00 बजे तक                                                                                            अभिजीत मुहूर्त: दोपहर 11:20 बजे से 12:08 बजे तक
गुली काल मुहूर्त: दोपहर 11:44 बजे से 01:16 बजे तक 

Vishwakarma puja: ऊर्जा का संचार करती है भगवान विश्वकर्मा की उपासना

हिन्दू मान्यताओं के अनुसार पौराणिक काल में देवताओं के अस्त्र-शस्त्र व सोने की लंका, पुष्पक विमान, इंद्र का व्रज, भगवान शिव का त्रिशूल, पांडवों की इंद्रप्रस्थ नगरी, भगवान कृष्ण की द्वारिका नगरी को भी बनाया था। इस वजह से निर्माण और सृजन से जुड़े लोग विश्वकर्मा जयंती को श्रद्धा भाव से पूजा करते हैं।

Vishwakarma puja 2019: विश्वकर्मा ने बनाई थी सोने की लंका और स्वर्गलोक, पूजन से कारोबारियों को मिलती है तरक्की

ऐसे करें पूजा 
भगवान विश्वकर्मा की पूजा के लिए सबसे पहले पूजा के लिए जरूरी सामग्री जैसे अक्षत, फूल, चंदन, धूप, अगरबत्ती, दही, रोली, सुपारी, रक्षा सूत्र, मिठाई, फल सभी पूजा की चीजें एकत्र कर लें। इसके बाद कलश को स्थापित करें और फिर विधि—विधान से पंडितजी के माध्यम से पूजा करें। इसके बाद बिजनेसमेन को अपने ऑफिस, दुकान या फैक्टरी के साथियों व परिवार के साथ प्रसाद ग्रहण करने के बाद ही पूजा स्थान को छोड़ें।

इस आलेख में दी गई जानकारियां धार्मिक आस्थाओं और लौकिक मान्यताओं पर आधारित हैं, जिसे मात्र सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर प्रस्तुत किया गया है।

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Vishvakarman Vishwakarma Puja know puja vidhi and biswakarma puja muhurata