DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   धर्म  ›  Vat Savitri vrat 2021: इस तरह की जाती है वट सावित्री व्रत की पूजा, ये चीजें करें पूजा में शामिल

पंचांग-पुराणVat Savitri vrat 2021: इस तरह की जाती है वट सावित्री व्रत की पूजा, ये चीजें करें पूजा में शामिल

लाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीPublished By: Anuradha Pandey
Tue, 01 Jun 2021 03:13 PM
Vat Savitri vrat 2021: इस तरह की जाती है वट सावित्री व्रत की पूजा, ये चीजें करें पूजा में शामिल

ज्येष्ठ कृष्ण पक्ष अमावस्या को वट सावित्री व्रत रखा जाता है। इस दिन महिलाएं पने पति की लंबी आयु व सुख-समृद्धि की कामना वट सावित्री की पूजा-अराधना करती हैं। ज्येष्ठ कृष्ण पक्ष त्रयोदशी से अमावस्या यह व्रत किया जाता है। कई महिलाएं बड़ साते यानी सप्तमी को भी व्रत रखती हैं।  महिलाएं इस दिन व्रत रखकर वट वृक्ष के पास धूप-दीप, नैवेद्य से पूजा करती हैं। पूजा के समय वट वृक्ष पर रोली और अक्षत चढ़ाकर कलावा बांधती हैं। महिलाएं हाथ जोड़कर वट वृक्ष की परिक्रमा करती हैं।

10 जून को हैं वट सावित्री व्रत, शनि जयंती, अमावस्या और सूर्य ग्रहण

इस दिन महिलाएं पूजन सामग्री के तौर पर सिंदूर, दर्पण, मौली, काजल, मेहंदी, चूड़ी, माथे की बिंदी, साड़ी और सात तरह का अनाज और सत्यवान सावित्री की प्रतिमा को शामिल करती हैं।कहा जाता है कि वट वृक्ष के नीचे देवी सावित्री ने अपने पति व्रत के प्रभाव से मृत पड़े सत्यवान को पुन: जीवित कर दिया था। तभी से इस व्रत को वट सावित्री के नाम से जाना जाता है। ये सभी चीजें वट वृक्ष के नीचे रखी जाती हैं। इसके बाद पेड़ की जड़ में जल अर्पित किया जाता है। कई जगह महिलाएं सुहाग का सामान और खाने की सामग्री रखकर साड़ी के साथ सास को बायना देती हैं। 

 

संबंधित खबरें