Hindi Newsधर्म न्यूज़Vaishakh Amavasya 2024 Date: When will Vaishakh Amavasya be on 8th or 9th May the date will start from tomorrow

Vaishakh Amavasya 2024 Date : वैशाख अमावस्या आज, जानें कब तक है तिथि

Vaishakh Amavasya 2024 kab hai :वैशाख के महीने में पड़ने वाली अमावस्या को भी महत्वपूर्ण माना जाता है और इसे वैशाख अमावस्या के नाम से जाना जाता है। वैशाख महीने के कृष्ण पक्ष की अमावस्या तिथि को वैशाख अम

Anuradha Pandey लाइव हिन्दुस्तान, नई दिल्लीWed, 8 May 2024 06:09 AM
हमें फॉलो करें

वैशाख के महीने में पड़ने वाली अमावस्या को भी महत्वपूर्ण माना जाता है और इसे वैशाख अमावस्या के नाम से जाना जाता है। वैशाख महीने के कृष्ण पक्ष की अमावस्या तिथि को वैशाख अमावस्या का पावन पर्व मनाया जाता है। इस बार अमावस्या तिथि को लेकर सभी कंफ्यूज हो रहे हैं। दरअसल मंगलवार से अमावस्या तिथि शुरू हो रही है। ऐसे में कुछ लोग मंगलवार को भी अमावस्या तिथि मान रहे हैं, लेकिन ऐसा नहीं है। अमावस्या तिथि 8 तारीख को है। इस दिन उदयातिथि के कारण अमावस्या रहेगी। दान पुण्य इस दिन सुबह 8.51 बजे तक किया जा सकेंगा। इसके अलावा कुछ लोग पितृकर्म 7 मई को भी कर रहे हैं। कई ज्योतिियों के अनुसार दोनों दिन अमावस्या मनाई जा सकती हैं। 7 मई को पितृकर्म करना अच्छा रहेगा, वहीं 8 मई को स्नान और दान शुभ माना जाएगा।इस बार अमावस्या पर तीन शुभ योग्य बन रहे हैं। इस समय किया गया दान- पुण्य सीधा पितरों को मिलता है। आचार्य संजय पाठक ने बताया कि कृष्ण पक्ष की अमावस्या सात मई दिन मंगलवार को सुबह 11 बजकर 40 मिनट से आरंभ होगी।

वैशाख, कृष्ण अमावस्या प्रारम्भ - 11:40 ए एम, मई 07

वैशाख, कृष्ण अमावस्या समाप्त - 08:51 ए एम, मई 08

आपको बता दें कि अमावस्या के दिन पितरों का दीपदान और तर्पण किया जाता है। पितरों के लिए धूप-ध्यान दोपहर 12 बजे किया जाता है।  इसलिए 7 मई का दिन धूप-ध्यान करने के लिए शुभ है। अमावस्या तिथि भगवान विष्णु को समर्पित होती है। इस दिन भगवान विष्णु की विधि-विधान से पूजा की जाती है। इस पावन दिन नदी में स्नान के बाद सूर्य को अर्घ्य देकर पितरों का तर्पण किया जाता है। तर्पण के लिए इस दिन धूप-ध्यान करने के लिए दोपहर में गोबर के कंडे जलाएं और जब कंडों से धुआं निकलना बंद हो जाए तब पितरों का ध्यान करते हुए गुड़ और घी से धूप अर्पित करें। 

 

ऐप पर पढ़ें