Utpanna Ekadashi 2017 vrat vidhi and puja muhurat - Utpanna Ekadashi 2017: उत्तपन्ना एकादशी आज, जानें शुभ मुहूर्त और पूजा विधि 1 DA Image
14 दिसंबर, 2019|8:09|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

Utpanna Ekadashi 2017: उत्तपन्ना एकादशी आज, जानें शुभ मुहूर्त और पूजा विधि

Utpanna Ekadashi 2017: उत्तपन्ना एकादशी आज, जानें शुभ मुहूर्त और पूजा विधि
Utpanna Ekadashi 2017: उत्तपन्ना एकादशी आज, जानें शुभ मुहूर्त और पूजा विधि

हिन्दी महीने मार्गशीर्ष (अगहन) के कृष्णपक्ष की एकादशी को उत्पन्ना एकादशी के नाम से जाना जाता है। मान्यता है कि इसी दिन देवी एकादशी का जन्म हुआ था। देवी एकादशी भगवान विष्णु का ही एक रूप मानी जाती है। पौराणिक कथाओं के अनुसार, आज के दिन भगवान विष्णु ने मुरासुर नामक राक्षस को मारा था। इसी उपलक्ष्य में लोग आज के दिन भगवान विष्णु की पूजा अर्चना करते हैं और व्रत रखते हैं।

मान्यता-
कहा जाता है कि एक बार एक भयानक राक्षस ने अपनी शक्तियों से स्वर्ग पर कब्जा कर लिया था। राक्षस का नाम मुरासुर था। मुरासुर के उत्पात से स्वर्ग के सभी देवता त्रस्त थे। समस्या से निजात पाने के लिए एक दिन सभी देवता भगवान शिव के पास गए और राक्षस से रक्षा करने की गुहार लगाई। इस पर भगवान शिव ने देवताओं को सलाह दी कि वह भगवान विष्णु के पास जाएं। देवताओं के क्षीरसागर जाकर भगवान विष्णु को अपनी व्यथा सुनाई। इसके बाद भगवान विष्णु राक्षस का वध करने निकल पड़े तभी उनके शरीर से एक देवी का जन्म हुआ जिनका नाम उत्पन्ना एकादशी हुआ। देवी उत्पन्ना ने राक्षस का वध किया जिसके बाद से सभी स्वर्गवासी, देवतागण उत्पन्ना एकादशी की पूजा अर्चना की। कहा जाता है कि इस जो भी भक्त व्रत रखता है और भगवान विष्णु की पूजा पूरी निष्ठा के साथ करता है उसकी सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं।

अगल स्लाइड में पढ़ें- व्रत विध्‍ाि और पूजा मुहूर्त

व्रत विध और शुभ मुहूर्त
व्रत विध और शुभ मुहूर्त

ऐसे करें व्रत-

  • सुबह ब्रह्म मुहूर्त उठकर स्नान ध्यान के बाद भगवान विष्णु की पूजा करना चाहिए। जो लोग जल्दी न उठ पाएं वे अपनी सुविधानुसार भी पूजा कर सकते हैं।
  • सुबह की पूजा के साथ ही व्रत शुरू करना चाहिए। व्रत के दौरान फल का सेवन कर सकते हैं।
  • पूरे दिन भगवान विष्णु का स्मरण करना चाहिए या धार्मिक पुस्तके पढ़ना चाहिए या कथा सुननी चाहिए।
  • व्रत रखने से छल कपट की भावना मन से कम हो जाती है और मोहमाया के प्रभाव से मुक्त हो जाता है।


उत्तपन्ना एकादशी का शुभ मुहूर्त
- एकादशी तिथि आरंभ का होने का समय- 13 नवंबर 2017 को 12.24 बजे
- एकादशी तिथि समाप्त होने का समय- 14 नवंबर 2017 12.24 बजे तक
- पारण तिथि- 14 नवंबर  06:44 से 08:55 तक

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Utpanna Ekadashi 2017 vrat vidhi and puja muhurat