ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News AstrologyTulsi Vivah 2021 This auspicious yoga is being made on the day of Tulsi Vivah know its importance and auspicious time Astrology in Hindi

Tulsi Vivah 2021: तुलसी विवाह के दिन बन रहा ये शुभ योग, जानिए महत्व और शुभ मुहूर्त

हिंदू धर्म में तुलसी विवाह का विशेष महत्व है। इस दिन माता तुलसी और भगवान विष्णु के शालीग्राम अवतार के विवाह का विधान है। हिंदू पंचांग के अनुसार, कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि को तुलसी...

Tulsi Vivah 2021: तुलसी विवाह के दिन बन रहा ये शुभ योग, जानिए महत्व और शुभ मुहूर्त
लाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीSun, 14 Nov 2021 05:26 AM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

हिंदू धर्म में तुलसी विवाह का विशेष महत्व है। इस दिन माता तुलसी और भगवान विष्णु के शालीग्राम अवतार के विवाह का विधान है। हिंदू पंचांग के अनुसार, कार्तिक मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी तिथि को तुलसी विवाह किया जाता है। इस दिन भगवान विष्णु चार माह की योग निद्रा के बाद जाग्रत होते हैं। 

तुलसी विवाह का महत्व-

कहा जाता है कि तुलसी विवाह करने से कन्यादान के समान पुण्य की प्राप्ति होती है। इसलिए अगर किसी ने कन्या दान न किया हो तो उसे जीवन में एक बार तुलसी विवाह करके कन्या दान पुण्य अवश्य प्राप्त करना चाहिए। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार, तुलसी विवाह विधि-विधान से संपन्न कराने वाले भक्तों को अंत में मोक्ष की प्राप्ति होती है और भगवान विष्णु की कृपा से मनोकामना पूरी होती है। वैवाहिक जीवन में आ रही बाधाओं से मुक्ति मिलने की भी मान्यता है।

कार्तिक पूर्णिमा कब है? जानिए पूजन का शुभ मुहूर्त, इस दिन क्या करना चाहिए और क्या नहीं

तुलसी विवाह 2021 शुभ मुहूर्त-

एकादशी तिथि 15 नवंबर को सुबह 06 बजकर 29 मिनट तक रहेगी। इसके बाद द्वादशी तिथि शुरू हो जाएगी। द्वादशी तिथि 15 नवंबर को सुबह 06 बजकर 39 मिनट से प्रारंभ होगी, जो कि 16 नवंबर को सुबह 08 बजकर 01 मिनट तक रहेगी। तुलसी विवाह 14 और 15 नवंबर दोनों दिन किया जा सकेगा। कुछ लोग तुलसी विवाह एकादशी तिथि और कुछ लोग द्वादशी तिथि में करते हैं।

14 या 15 नवंबर कब है देवउठनी एकादशी? जानिए इस दिन क्यों नहीं खाए जाते चावल, पढ़िए व्रत नियम

हर्षण योग का शुभ संयोग-

तुलसी विवाह के दिन हर्षण योग का शुभ संयोग बन रहा है। हिंदू पंचांग के अनुसार, हर्षण योग 15 नवंबर की देर रात 1 बजकर 44 मिनट तक रहेगा। ज्योतिष शास्त्र में शुभ व मांगलिक कार्यों के लिए हर्षण योग को उत्तम माना जाता है।
 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें