Today astchalgami surya arghya and read what auspicious time news about Chhath Maha Parv - आज अस्ताचलगामी सूर्यदेवता को व्रती देंगे अर्घ्य, पढ़ें क्या है शुभ समय, पढ़ें छठ महापर्व से जुड़ी खबरें DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

आज अस्ताचलगामी सूर्यदेवता को व्रती देंगे अर्घ्य, पढ़ें क्या है शुभ समय, पढ़ें छठ महापर्व से जुड़ी खबरें

हे छठ मइया हमें बेटी दो ताकि घर में रौनक आये

आज घाटों पर अस्ताचलगामी सूर्यदेवता को व्रती अर्घ्य देंगे और कल उदीयमान सूर्य की उपासना करेंगे। सोमवार की शाम को खरना पूजा के साथ ही छठव्रतियों का 36 घंटे का निर्जला उपवास शुरू हो गया है। मंगलवार को शाम का अर्घ्य व बुधवार को सुबह के अर्घ्य के बाद व्रती महिलाएं पारण करेंगी। पढ़ें पूरी खबर

chhath puja 2018: इन चीजों के बिना अधूरी है छठ पूजा

11 नवंबर को नहाय-खाय के साथ चार दिनों के छठ महापर्व की शुरुआत हो चुकी है। यह पर्व उत्तर-पूर्वी भारत में मुख्यतः बिहार, यूपी, झारखंड आदि में बड़ी आस्था से मनाया जाता है। छठ की पूजा में साफ-सफाई और..पढ़ें पूरी खबर

 जिस यमुना में आप छठ पूजा करने जा रहे हैं, उसका पानी आपकी सेहत के लिए खतरा भी हो सकता है। दूषित पानी से कई तरह की बीमारियां हो सकती हैं।

आस्था की डुबकी आपको बीमार न कर दे

महापर्व छठ बहुत ही उत्साह के साथ मनाया जाता है। छठ के मौके पर छठ मैया के भोजपुरी पारंपरिक छठ गीत बहुत ही पसंद किए जाते हैं। केलवा जे फरेले घवद से उहे पर सुगा मंड़राए...Chhath puja 2018: छठ महापर्व पर सुने जा रहे हैं ये छठ मैया के गीत

सूर्यदेव साक्षात दिखाई देने वाले भगवान हैं। कहा जाता है सूर्यदेव को साध लेने से बाकी सभी ग्रह सध जाते हैं। सूर्यदेव को प्रसन्न करने के लिए कुछ विशेष उपाय बताए गए हैं। घर में नहीं पहुंचता सूर्य का प्रकाश तो यह करें उपाय

मंगलवार की शाम अस्ताचलगामी सूर्य को पश्चिम की ओर रुख कर व्रती अर्घ्य देंगे तो बुधवार की सुबह पूरब दिशा में उगते सूर्य को अर्घ्य अर्पित करेंगे। आस्था है, पश्चिम और पूरब दोनों दिशाएं अधिक कल्याणकारी हैं। उत्तर और दक्षिण दोनों बाजू हैं। व्रती जब अर्घ्य अर्पित करते हैं तो सगे-संबंधी और घर-परिवार के लोग शरीर के बाजुओं की तरह उनके अगल-बगल खड़े होते हैंछठ पर सूर्य से विनती: चूक हो जाए तो माफ करना

लंका पर विजय प्राप्त कर अयोध्या लौटने के बाद छठे दिन छठ का पर्व पड़ा था। इस मौके पर राम और सीता ने व्रत रखा था। ऐसी भी मान्यता है कि वन में महर्षि वाल्मीकि के आश्रम में निवास के दौरान भी मां सीता छठ का व्रत रखती थीं। chhath puja 2018: मां सीता भी रखती थीं व्रत, हर मां करती है बच्चों के लिए ये मनोकामनाएं

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Today astchalgami surya arghya and read what auspicious time news about Chhath Maha Parv