ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ धर्मइस नदी में मौजूद है हजारों शिवलिंग, कोई नहीं जानता इसका राज

इस नदी में मौजूद है हजारों शिवलिंग, कोई नहीं जानता इसका राज

भारत में कई मान्यताएं है और कई अचंभे है जिन पर भरोसा करना मुश्किल है। वैसे ही कर्नाटक के कन्नड

Meenakshi.naiduलाइव हिन्दुस्तान ,नई दिल्ली Thu, 20 Jul 2017 01:12 PM

इस नदी में मौजूद है हजारों शिवलिंग

इस नदी में मौजूद है हजारों शिवलिंग1 / 3

भारत में कई मान्यताएं है और कई अचंभे है जिन पर भरोसा करना मुश्किल है। वैसे ही कर्नाटक के कन्नडा जिले का सहस्त्रलिंगा है। यहां पर बहने वाली शामला नदी में प्राकृतिक तौर पर ही हज़ारों की संख्या में शिवलिंग पाए जाते हैं। यह नदी यहां बने शिवलिंगों का निरन्तर अभिषेक करती रहती है। यहां की चट्टानों में शिवलिंगो के साथ-साथ नंदी, सांप आदी भगवान शिव के प्रियजनों की भी आकृतियां भी बनी हुई हैं। हजारों शिवलिंग एक साथ होने की वजह से इस स्थान का नाम सहस्त्रलिंग पड़ा।

इस नदी में मौजूद है हजारों शिवलिंग

इस नदी में मौजूद है हजारों शिवलिंग2 / 3

कर्नाटक की शामला नदी को यहां के लोग गंगा की तरह पवित्र नदी मानते हैं। विज्ञानियों के मुताबिक नदी के पानी की धारा से ये शिवलिंग और अन्य आकृतियां अस्तित्व में आई हैं। बता दें कि गर्मियों में जब पानी का लेवल कम होने लगता है तो नदी का नज़ारा देखने लायक होता है। 

जानें क्या है मान्यता 

मान्यता है कि..

मान्यता है कि..3 / 3

मान्यता है कि इन शिवलिंगों का निर्माण सत्रहवीं सदी में राजा सदाशिव राय ने करवाया था। ये शिवलिंग नदी में स्थित चट्टानों पर ही बनाए गए हैं। कहा जाता कि राजा भगवान शिव के बड़े भक्त थे। शिव भक्ति में डूबे रहने की वजह से वे भगवान शिव की अद्भुत रचना का निर्माण करवाना चाहते थे। इसलिए राजा सदाशिवाराय ने शलमाला नदी के बीच में भगवान शिव और उनके प्रियजनों की हजारों आकृतियां बनवा दीं।

अनजाने में की पूजा का फल भी प्रदान करते हैं भोले भंडारी