ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ धर्मसगुण ब्रह्म की अभिव्यक्ति है यह सृष्टि

सगुण ब्रह्म की अभिव्यक्ति है यह सृष्टि

ब्रह्म से पहले कुछ भी अस्तित्व में नहीं था। यह सृष्टि सगुण ब्रह्म का विभिन्न रूपों में प्रकटीकरण है। इस तरह ब्रह्म संपूर्ण सृष्टि का कारण हैं और ब्रह्म सामूहिक नाम हैं- प्रकृति और पुरुष का। इस सृष्टि...

सगुण ब्रह्म की अभिव्यक्ति है यह सृष्टि
Pankaj Vijayश्री श्री आनंदमूर्ति,नई दिल्लीTue, 14 Dec 2021 05:15 PM
ऐप पर पढ़ें

ब्रह्म से पहले कुछ भी अस्तित्व में नहीं था। यह सृष्टि सगुण ब्रह्म का विभिन्न रूपों में प्रकटीकरण है। इस तरह ब्रह्म संपूर्ण सृष्टि का कारण हैं और ब्रह्म सामूहिक नाम हैं- प्रकृति और पुरुष का। इस सृष्टि का निर्माण पुरुष करता है और प्रकृति उसे निर्देशित करती है।

सगुण ब्रह्म को भी ब्रह्मांड बनाने के लिए कुछ सामग्री की आवश्यकता होती है, जैसे कुम्हार को अपने बर्तन बनाने के लिए मिट्टी की आवश्यकता होती है। कुम्हार अपनी मिट्टी पृथ्वी से प्राप्त करता है। तो क्या सगुण ब्रह्म ने भी किसी और से सामग्री प्राप्त की है? जिस सामग्री और उसके मालिक से सगुण ब्रह्म ने उधार लिया था, वह सगुण ब्रह्म के अस्तित्व में आने से पहले ही अस्तित्व में रहा होगा, और यह कि यह स्वामी सगुण ब्रह्म से बड़ा है, को स्वीकार करना होगा। अन्यथा यह सगुण ब्रह्म के लिए उपलब्ध नहीं हो सकता था।

यह पहले ही स्वीकार किया जा चुका है कि ब्रह्म अकारण है। ब्रह्म से पहले कुछ भी अस्तित्व में नहीं था और इसलिए जिस सामग्री से ब्रह्मांड बना है, वह ब्रह्म से पहले अस्तित्व में नहीं हो सकती थी। वह कौन-सी सामग्री हो सकती है, जिससे सगुण ब्रह्म ने इस ब्रह्मांड का निर्माण किया, यदि इसके पहले या उसके बाहर कुछ भी नहीं था? ब्रह्मांड, जो इतना स्पष्ट रूप से अस्तित्व में है, शून्य से नहीं बनाया जा सकता था। सृष्टि के लिए सगुण ब्रह्म के पास उपलब्ध एकमात्र सामग्री उसका अपना स्वरूप था। इसलिए यह स्वीकार करना होगा कि यह सृष्टि केवल सगुण ब्रह्म है, जिसे हम ब्रह्मांड में पाते हैं। सगुण ब्रह्म से समस्त सृष्टि की रचना हुई है। केवल सगुण ब्रह्म ही इस सृष्टि के रूप में प्रकट हुए हैं। तो क्या यह कथन सही नहीं है कि सगुण ब्रह्म सर्वव्यापी है?

यह कहना कि ब्रह्म एक पुस्तक में मौजूद हैं, इसका मतलब है कि पुस्तक एक अलग इकाई है और ब्रह्म उस इकाई में रहते हैं। यह दो अलग-अलग संस्थाओं का आभास देता है- ब्रह्म और वह पुस्तक, जो सगुण ब्रह्म के बाहर प्रतीत होती है। यह पूरी तरह से गलत है, क्योंकि यह पहले ही स्थापित हो चुका है कि सब कुछ ब्रह्म से बना है; इसने हर चीज का रूप धारण कर लिया है। इसलिए सही बात यह होगी कि पुस्तक ब्रह्म है या इसने पुस्तक का रूप भी धारण कर लिया है। इससे पता चलता है कि पुस्तक और ब्रह्म दो अलग-अलग संस्थाएं नहीं हैं और यह कि पुस्तक ब्रह्म से पहले मौजूद नहीं थी। यही सही अभिव्यक्ति है, क्योंकि ब्रह्म अनंत और शाश्वत हैं और इससे परे या उससे पहले कुछ भी मौजूद नहीं हो सकता है। पुस्तक ब्रह्म के पहले अस्तित्व में नहीं हो सकती थी। वास्तव में ब्रह्म से पहले कुछ भी अस्तित्व में नहीं हो सकता था। धूल का हर कण ब्रह्म ही है।

ब्रह्म संपूर्ण सृष्टि का कारण हैं और ब्रह्म, प्रकृति और पुरुष का सामूहिक नाम हैं। फिर दोनों में से कौन सृष्टि का निर्माण करता है? हमें यह निर्धारित करना होगा कि क्या पुरुष या प्रकृति वह सामग्री हैं, जिससे सृष्टि बनी है। प्रकृति एक अद्वितीय शक्ति है- एक सिद्धांत, जिसका एकमात्र कार्य पुरुष को योग्य बनाना है। चूंकि प्रकृति केवल एक शक्ति है, वह आकार नहीं ले सकती। अन्यथा वह योग्यता के अपने कार्य को खो देगी। इसके अलावा, अगर प्रकृति सृष्टि बन जाती है, तो आकार और रूप देने के लिए एक बल या सिद्धांत होना चाहिए। ब्रह्म में एकमात्र अन्य इकाई, जो प्रकृति को एक रूप दे सकती है, वह पुरुष है। पुरुष, जो प्रकृति के योग्य हुए बिना अपने अस्तित्व का एहसास भी नहीं कर सकता, वह प्रकृति को सृष्टि का रूप देने का जबरदस्त कार्य नहीं कर सकता। इससे यह स्पष्ट होता है कि प्रकृति सृष्टि के आकार को ग्रहण नहीं करती है और यह कार्य पुरुष के लिए छोड़ देती है, जो इन रूपों को ले सकता था। इसलिए जिस चीज से पूरी सृष्टि बनी है वह पुरुष है।

प्रकृति विभिन्न रूप देने के लिए पुरुष को उसके योग्य बनाती है और पुरुष को प्रकृति के दिशानिर्देशोंका पालन करना पड़ता है। उदाहरण के लिए, एक कुम्हार अपनी योजना के अनुसार, मिट्टी के एक ढेले को आकार देता है। मिट्टी के ढेले की तुलना पुरुष और शक्ति प्रदान करने वाले कुम्हार की तुलना प्रकृति से की जा सकती है। इसी तरह, प्रकृति इस ब्रह्मांड को बनाने के लिए अपनी इच्छा के अनुसार ये सभी आकार पुरुष को देती है। इस सृष्टि को बनाने में पुरुष केवल प्रकृति के निर्देशों का पालन करता है।

सृष्टि के सभी विभिन्न रूपों में अकेले पुरुष को प्रक्षेपित किया गया है। पुरुष वह चीज है, जिससे सब कुछ बना है। पुरुष चेतना है; इसलिए इस सृष्टि में हर चीज में चेतना है। ऐसा कुछ भी नहीं है, जो कच्चा, निर्जीव या चेतना रहित हो। प्रकृति का प्रभाव इसे निर्जीव, कच्चे पदार्थ जैसा दिखाता है, हालांकि इसमें चेतना होती है। इसलिए इस दुनिया में कुछ भी कच्चा नहीं है; सब चेतना या पुरुष का कायांतरित रूप है। 

प्रस्तुति: दिव्यचेतनानन्द अवधूत

epaper