Hindi Newsधर्म न्यूज़There will be many big changes due to Saturn transit in 2022 know the effect on Leo Virgo Libra and Scorpio zodiac signs - Astrology in Hindi

2022 में शनि गोचर से होंगे कई बड़े बदलाव, जानें सिंह, कन्या, तुला और वृश्चिक राशियों पर प्रभाव

ज्योतिष शास्त्र में शनि ग्रह को काफी महत्वपूर्ण माना जाता है। शनि ग्रह के राशि परिवर्तन का मेष से लेकर मीन राशि तक पर प्रभाव पड़ता है। ज्योतिष में शनि ग्रह की चाल सबसे धीमी गति मानी गई है। शनि साल...

Saumya Tiwari ज्योतिर्विद पं दिवाकर त्रिपाठी पूर्वांचली, नई दिल्लीThu, 30 Dec 2021 09:52 AM
हमें फॉलो करें

ज्योतिष शास्त्र में शनि ग्रह को काफी महत्वपूर्ण माना जाता है। शनि ग्रह के राशि परिवर्तन का मेष से लेकर मीन राशि तक पर प्रभाव पड़ता है। ज्योतिष में शनि ग्रह की चाल सबसे धीमी गति मानी गई है। शनि साल 2022 में राशि परिवर्तन करेंगे। शनि गोचर से कुछ राशि वालों के करियर, लव लाइफ और आर्थिक स्थिति पर प्रभाव पड़ेगा। जानिए शनि का सिंह, कन्या, तुला और वृश्चिक राशि वालों पर क्या पड़ेगा प्रभाव-

सिंह लग्न :- वर्ष 2022 में सिंह लग्न के लोगों के लिए शनि देव षष्टेश एवं सप्तमेश होकर षष्ट भाव मे स्वगृही होकर विद्यमान रहेंगे। शनि की यह स्थिति सिंह लग्न के लिए जहां रोग ,कर्ज एवं शत्रुओं को पराजित करने के लिए सकारात्मक प्रभाव में रहेंगे तो दाम्पत्य औऱ व्यय की दृष्टि से नकारात्मक प्रभाव भी उत्पन्न करने वाले होंगे। वर्ष 2022 में शनि सिंग लग्न के जातको के लिए प्रतियोगिता में सफलता प्रदान करने के लिए सकारात्मक प्रभाव उत्पन्न करेंगे। पुराने रोगों का शमन करेंगे। कर्ज से भी मुक्ति दिलाने में मददगार साबित होने वाले है।

2022 में शनिदेव की कृपा से मकर, धनु, कुंभ और मीन राशि वालों को होगा जबरदस्त लाभ, जानिए किन चीजों में बरते सावधानी

परंतु पेट और पैर के रोग से परेशान भी करेंगे। अचानक प्रदेश या विदेश की यात्रा धार्मिक या व्यापारिक गतिविधियों के लिए करा सकते है। आंखों के लिए भी समय तनाव पूर्ण है। भाई बंधुओं मित्रो को लेकर भी थोड़ा तनावपूर्ण स्थिति उत्पन्न कर सकते है। दाम्पत्य जीवन ,प्रेम संबंध में खर्च वृद्धि के कारण तनाव भी हो सकता है।
उपाय :-  शनिवार के दिन भगवान भोले नाथ को काला तिल अर्पित करते रहें।

★ कन्या लग्न :- वर्ष 2022 में शनि देव पंचम भाव में ही पंचम एवं षष्ठ भाव के कारक होकर विद्यमान रहेंगे।पंचमेश होकर पंचम भाव मे ही स्वगृही योग कारक होकर विद्यमान रहेंगे। फलतः विद्या अध्ययन के लिए , डिग्री लेने के लिए समय अनुकूलप्रद बना रहेगा। संतान के क्षेत्र में भी सकारात्मक प्रगति प्रदान करेंगे। दाम्पत्य जीवन एवं प्रेम संबंधों के लिए शनि की यह स्थिति थोड़ा प्रतिकूल फल प्रदान करने वाला है। आय एवं लाभ के लिए भी समय उत्तम फल प्रदायक है परंतु तनाव अवश्य होगा। शत्रुओं पर बढ़त बनाने में शनिदेव पूर्ण मदद करेंगे। वाणी में तीव्रता, दाँत की सामान्य समस्या के साथ अचानक खर्च की भी स्थिति उत्पन्न होगी।
उपाय :- सरसों तेल में बनी पूड़ी गाय को शनिवार के दिन खिलाते रहें।

★ तुला लग्न :- तुला लग्न के जातकों के लिए शानिदेव राज योग प्रदाता के रूप में सिद्ध होते है । क्योंकि चतुर्थ एवं पंचम के कारक होते है। वर्ष 2022 में स्वराशि मकर में गोचर करते हुए अपने प्रभाव में संपूर्णता प्रदान करेंगे। गृह एवं वाहन सुख में वृद्धि करेंगे। माता के सुख सानिध्य में वृद्धि की स्थिति उत्पन्न करेंगे। जमीन जायदाद , अचल संपत्ति में वृद्धि करेंगे। सम्मान में, परिश्रम एवं चातुर्यता में वृद्धि करेंगे। शत्रुओं पर विजय प्रदान करेंगे। पुराने रोगों का शमन करेंगे। लग्न भाव पर उच्च की दृष्टि भी डालेंगे यद्यपि की इनकी दृष्टि कष्टकारी होती है परंतु यहाँ राज योग कारक होने के कारण विचारों में उच्चता प्रदान करेंगे। नयी डिग्री के लिए समय अनुकूलप्रद बनाने में सकारात्मक प्रभाव उत्पन्न करेंगे।
उपाय :- मूल कुंडली मे शनि की स्थिति के अनुसार नीलम रत्न धारण करना लाभकारी होगा।

★ वृश्चिक लग्न :- शनिदेव वृश्चिक लग्न में सामान्य फल प्रदायक के रूप में कार्य करते है। वर्ष 2022 में पराक्रम भाव मे स्वगृही रहकर अपने फलों में संपूर्णता प्रदान करेंगे। पराक्रम में वृद्धि होगा। सामाजिक पद प्रतिष्ठा में वृद्धि होगी। भाई, बहनों, मित्रों का सहयोग, सानिध्य प्राप्त होगा। कार्य क्षमता में, नेतृत्व क्षमता में भी सकारात्मक वृद्धि देखने को मिलेगा। शनि की दृष्टि पंचम भाव पर, नवम भाव पर एवं व्यय भाव पर भी होगा । ऐसे में संतान को लेकर थोड़ी चिंता जनक स्थिति उत्पन्न हो सकती है। अध्ययन, अध्यापन के लिए समय थोड़ा तनावपूर्ण होगा। पिता के स्वास्थ्य को लेकर भी तनावपूर्ण स्थिति उत्पन्न होगा। अचानक धार्मिक एवं व्यापारिक यात्रा का भी योग बन सकता है। आँखों की समस्या समस्या भी उत्पन्न हो सकता है।
उपाय :- शनिवार को शमी पुष्प शिव जी को अर्पित करते रहें।

ऐप पर पढ़ें