ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ धर्मSurya rashi Parivartan 2022: 13 फरवरी को मकर से कुंभ राशि में जाएंगे सूर्य, मिथुन, कर्क और वृश्चिक समेत कई राशियों पर रहेगी मां लक्ष्मी की कृपा, धन लाभ के योग

Surya rashi Parivartan 2022: 13 फरवरी को मकर से कुंभ राशि में जाएंगे सूर्य, मिथुन, कर्क और वृश्चिक समेत कई राशियों पर रहेगी मां लक्ष्मी की कृपा, धन लाभ के योग

Surya rashi Parivartan 2022: सूर्य देवता 13 फरवरी 2022 को मकर राशि से कुंभ राशि में प्रवेश करेंगे। सूर्य के इस राशि परिवर्तन से जगत के सभी जीवों पर असर पड़ेगा। सूर्य के राशि बदलने से, मिथुन,...

Surya rashi Parivartan 2022: 13 फरवरी को मकर से कुंभ राशि में जाएंगे सूर्य, मिथुन, कर्क और वृश्चिक समेत कई राशियों पर रहेगी मां लक्ष्मी की कृपा, धन लाभ के योग
Alakha Singhलाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीTue, 25 Jan 2022 05:30 AM

Surya rashi Parivartan 2022: सूर्य देवता 13 फरवरी 2022 को मकर राशि से कुंभ राशि में प्रवेश करेंगे। सूर्य के इस राशि परिवर्तन से जगत के सभी जीवों पर असर पड़ेगा। सूर्य के राशि बदलने से, मिथुन, कर्क और वृश्चिक समेत कई राशियों पर मां लक्ष्मी की कृपा रहेगी और धन लाभ के योग बनेंगे। इससे पहले सूर्य 14 जनवरी को धनु राशि से मकर राशि में  आए थे। जानिए सूर्य के कुंभ राशि में गोचर होने से राशियों पर असर-

मेष राशि - आत्मविश्वास में वृद्धि होगी। मान-सम्मान की प्राप्ति होगी। नौकरी के लिए किए गए प्रयासों के सार्थक परिणाम भी मिलेंगे। संतान की ओर से सुखद समाचार भी मिल सकते हैं। 12 अप्रैल से राहू के राशि परिवर्तन से व्यर्थ के भय से परेशान हो सकते हैं। कार्यों में अवांछित व्यवधान आ सकते हैं। 13 अप्रैल से शुभ कार्यों में खर्च बढ़ सकते हैं। घर-परिवार में मांगलिक कार्य हो सकते हैं। भवन के रखरखाव तथा सौन्दर्यीकरण के कार्यों पर खर्च बढ़ सकते हैं। परंतु शैक्षिक कार्यों पर भी ध्यान देना चाहिए। 29 अप्रैल से मन में उतार-चढ़ाव रहेंगे। संतान के स्वास्थ्य का ध्यान रखें। परंतु आय में वृद्धि के साधन भी बन सकते हैं। आय संतोषजनक रहेगी। 

उपाय- प्रतिदिन प्रातः दुर्गा चालीसा का पाठ करें।

वृष राशि - परिश्रम भी अधिक रहेगा। वाणी की मधुरता बनाए रखने के प्रयास करें। 26 फरवरी के बाद कार्यों में कठिनाइयां आ सकती हैं। 27 मार्च से शैक्षिक कार्यों में सुधार होगा। 12 अप्रैल के बाद नौकरी में स्थान परिवर्तन की संभावना बन रही हैं। तरक्की के योग भी बन रहे हैं। आय में वृद्धि होगी। लेखनादि बौद्धिक कार्यों में व्यस्तता बढ़ सकती है। बौद्धिक कार्यों से आय के साधन भी बन सकते हैं। वाहन सुख में वृद्धि हो सकती है। परिवार में सुख-शांति रहेगी। 29 अप्रैल से नौकरी में शासन-सत्ता का सहयोग मिलेगा। 

उपाय-  प्रतिदिन प्रातः सिद्धकुन्जिका स्तोत्र का पाठ करें।

मिथुन राशि -13 फरवरी से कार्यक्षेत्र में सुधार हो सकता है। कारोबार की स्थिति में भी सुधार होगा। 06 अप्रैल के बाद किसी मित्र के सहयोग से नौकरी के अवसर भी मिल सकते हैं। आय में वृद्धि होगी। नौकरी में अफसरों का सहयोग मिलेगा। घर-परिवार में धार्मिक कार्य हो सकते हैं। पारिवारिक जीवन सुखमय रहेगा। 29 अप्रैल से कार्यक्षेत्र में परिवर्तन के योग बन रहे हैं। वाहन सुख में वृद्धि हो सकती है। यात्रा में कमी आएगी। आय का कोई अन्य साधन भी बन सकता है। कुछ रुके हुए कार्य भी पूर्ण होंगे।

उपाय- प्रतिदिन सूर्यास्त के बाद हनुमान चालीसा का पाठ करें। हनुमान जी को अगस्त, सितम्बर, अक्तूबर व नवंबर माह में चोला पहनाएं।

कर्क राशि - मीठे खान-पान के प्रति रुझान बढ़ सकता है। 27 फरवरी से स्वास्थ्य में सुधार होगा। वाहन सुख में वृद्धि हो सकती है। कारोबार में आय की स्थिति में सुधार भी हो सकता है। 12 अप्रैल से राजनैतिक महत्वाकांक्षा की पूर्ति होगी। परंतु रहन सहन अव्यवस्थित हो सकता है। माता के स्वास्थ्य का ध्यान रखें। 13 अप्रैल से शैक्षिक कार्यों में सुधार होगा। धर्म के प्रति श्रद्धा भाव बढ़ेगा। बौद्धिक कार्यों में व्यस्तता बढ़ सकती है। आय में वृद्धि होगी। नौकरी में तरक्की के अवसर मिल सकते हैं। मन प्रसन्न रहेगा। 

उपाय- प्रतिदिन प्रातः दुर्गा चालीसा का पाठ करें।

सिंह राशि - क्रोध पर नियंत्रण रखें। खर्चों में वृद्धि हो सकती है। 26 फरवरी के बाद किसी भवन या सम्पत्ति के रखरखाव पर खर्च बढ़ सकते हैं। नौकरी में तरक्की के मार्ग प्रशस्त भी हो सकते हैं। कारोबार पर ध्यान दें। कुछ कठिनाइयां आ सकती हैं। मित्रों का सहयोग मिल सकता है। एक  अप्रैल से कारोबार में सुधार होगा। पिता के स्वास्थ्य में सुधार होगा। 12 अप्रैल से कोई नया कारोबार शुरू हो सकता है।
उपाय- 

कन्या राशि - आत्मसंयत रहें। व्यर्थ के क्रोध से बचें। सात मार्च से पिता के स्वास्थ्य का ध्यान रखें। कारोबार पर पूरा ध्यान दें। 12 अप्रैल से अपने स्वास्थ्य का भी ध्यान रखें। आय में कठिनाइयां आ सकती हैं। खर्चों में वृद्धि होगी। 13 अप्रैल से कुछ मानसिक शांति मिल सकती है। दाम्पत्य सुख में वृद्धि होगी। कार्यों में व्यस्तता बढ़ेगी। आय में सुधार होगा। 29 अप्रैल के बाद शैक्षिक कार्यों या बौद्धिक कार्यों के लिए विदेश यात्रा पर जा सकते हैं। 
उपाय- प्रतिदिन हनुमान चालीसा का पाठ करें।

तुला  राशि -नौकरी में इच्छा विरुद्ध कोई अतिरिक्त जिम्मेदारी मिल सकती है। परिश्रम अधिक रहेगा। 26 फरवरी के बाद भवन सुख में वृद्धि हो सकती है। परंतु पिता के स्वास्थ्य का ध्यान भी रखें। कारोबार में वृद्धि होगी। 12 अप्रैल के बाद कार्यक्षेत्र में कठिनाई आ सकती हैं। मन अशांत रहेगा। शैक्षिक कार्यों में व्यवधान आ सकते हैं। सचेत रहें। खर्चों में वृद्धि होगी। कुटुम्ब/परिवार में धार्मिक कार्य होंगे। धन की प्राप्ति होगी। मित्रों का सहयोग भी मिलेगा। 29 अप्रैल से शैक्षिक व शोधादि कार्यों में सफलता मिलेगी।
उपाय- मंगलवार के दिन रोटी में गुड़ रखकर गाय को खिलाएं।

वृश्चिक राशि -13 फरवरी से माता के स्वास्थ्य का ध्यान रखें। पिता का सानिध्य मिल सकता है। 12 अप्रैल के बाद से किसी पुराने मित्र से भेंट हो सकती है। आय का नया साधन बन सकता है। भवन या सम्पत्ति सुख में वृद्धि भी हो सकती है। शैक्षिक कार्यों में सफलता मिलेगी। नौकरी में तरक्की के अवसर भी मिल सकते हैं। धर्म के प्रति श्रद्धा भाव भी रहेगा। आय में वृद्धि होगी। 

उपाय- प्रतिदिन प्रातः दुर्गा चालीसा का पाठ किया करें। 

धनु राशि - परिवार में व्यर्थ के वाद-विवाद से बचें। 13 फरवरी के उपरांत नौकरी में तरक्की के अवसर मिल सकते हैं। स्थान परिवर्तन भी संभव है। सात मार्च से कारोबार की स्थिति में सुधार होना चाहिए। 12 अप्रैल से शैक्षिक कार्यों पर ध्यान दें। व्यवधान आ सकते हैं। 13 अप्रैल से माता के सुख में वृद्धि होगी। धार्मिक कार्यों में खर्च बढ़ सकते हैं। भवन के सौंदर्यीकरण के कार्यों में खर्च बढ़ सकते हैं। 29 अप्रैल से शनि की साढ़े साती की समाप्ति होगी। नौकरी में कार्यक्षेत्र की स्थिति में सुधार होगा। 

उपाय- प्रतिदिन प्रातः आदित्य हृदय स्त्रोत्र का पाठ करें।

मकर राशि -परिश्रम अधिक रहेगा। 18 फरवरी से संतान के स्वास्थ्य में सुधार हो सकता है। वाहन सुख में वृद्धि होगी। माता-पिता का सानिध्य मिलेगा। सात मार्च के बाद किसी मित्र से कारोबार का प्रस्ताव मिल सकता है। धन लाभ के अवसर भी मिलेंगे। 12 अप्रैल से माता के स्वास्थ्य का ध्यान रखें। खर्चों में वृद्धि होगी। आय में व्यवधान आ सकते हैं। 13 अप्रैल से बृहस्पति अपनी स्वराशि में प्रवेश कर तृतीय भाव में आ जाएंगे। शिक्षा व बौद्धिक कार्यों में व्यस्तता बढ़ सकती है। धर्म के प्रति श्रद्धा भाव बढ़ेगा। नौकरी में तरक्की के अवसर मिल सकते हैं। आय में वृद्धि हो सकती है। 

उपाय-  प्रतिदिन प्रातः आदित्य हृदय स्त्रोत्र का पाठ करें।

कुंभ राशि - 13 फरवरी से पुनः स्थिति में सुधार होगा। 27 फरवरी के बाद कोई अतिरिक्त जिम्मेदारी नौकरी में मिल सकती है। परिश्रम अधिक रहेगा। अपने स्वास्थ्य का ध्यान रखें। 12 अप्रैल के बाद कार्यक्षेत्र की स्थिति में सुधार होगा। नौकरी में तरक्की के अवसर मिलेंगे। आय में वृद्धि होगी। बंधुबान्धुवों का सहयोग मिलेगा। विदेश यात्रा की योजना बन सकती है। 13 अप्रैल से बृहस्पति के राशि परिवर्तन से धन की स्थिति में सुधार होगा। मित्रों का सहयोग मिलेगा। कुटुम्ब-परिवार में धार्मिक कार्य होंगे।

उपाय- प्रत्येक सोमवार को भगवान शिव का जलाभिषेक करें।

मीन राशि - किसी मित्र के सहयोग से आय में वृद्धि हो सकती है। परिवार में व्यर्थ के वाद-विवाद से बचें। 27 फरवरी से संतान के स्वास्थ्य के प्रति भी सचेत रहें। परंतु किसी सम्पत्ति से धन लाभ हो सकता हैं। सात मार्च के बाद किसी कारोबार में निवेश कर सकते हैं। व्यवसायिक कार्यों में व्यस्तता बढ़ सकती है। रहन-सहन भी अव्यवस्थित रहेगा। पारिवारिक जीवन कष्टमय हो सकता है। 12 अप्रैल के बाद से शैक्षिक कार्यों में सुधार होगा। आत्मविश्वास में वृद्धि होगी। दाम्पत्य सुख में वृद्धि होगी। धर्म के प्रति श्रद्धाभाव रहेगा। 

उपाय-  प्रतिदिन प्रातः दुर्गा चालीसा का पाठ करें।

epaper