DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   धर्म  ›  Surya Grahan 2021: समाप्त हुआ साल का पहला सूर्य ग्रहण, दिखा रिंग ऑफ फायर का अद्भुत नजारा, देखें तस्वीरें

पंचांग-पुराणSurya Grahan 2021: समाप्त हुआ साल का पहला सूर्य ग्रहण, दिखा रिंग ऑफ फायर का अद्भुत नजारा, देखें तस्वीरें

लाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीPublished By: Anuradha Pandey
Thu, 10 Jun 2021 07:15 PM
Surya Grahan 2021: समाप्त हुआ साल का पहला सूर्य ग्रहण, दिखा रिंग ऑफ फायर का अद्भुत नजारा, देखें तस्वीरें

साल का पहला सूर्य ग्रहण आज 10 जून को लगा था। यह ग्रहण 5 घंटे तक रहा। नॉर्थ अमेरिका, यूरोप और एशिया में इस ग्रहण को साफ-साफ देखा जा सका। भारत में यह ग्रहण सूर्यास्त के पहले लद्दाख और अरुणाचल प्रदेश में  दिखाई दिया। हालांकि यह ग्रहण भारत में आंशिक तौर पर ही दिखाई दिया। असली रिंग ऑफ फॉयर का नजारा तो विदेशों में ही दिखाई दिया। अरुणाचल प्रदेश में दिबांग वन्यजीव अभयारण्य के पास से शाम करीब 5 बजकर 52 मिनट पर सूर्य ग्रहण देखा गया। वहीं लद्दाख के उत्तरी हिस्से में सूर्य ग्रहण शाम 06 बजे देखा गया। शाम को 06 बजकर 41 मिनट पर यह ग्रहण समाप्त हो गया। आज रिंग ऑफ फायर का शानदार नजारा भी देखने को मिला। शाम के लगभग 4 बजकर 52 मिनट पर आसमान में रिंग ऑफ फायर का अद्भुत नजारा दिखाई दिया। चंद्रमा की छाया के कारण सूर्य के बीच का भाग ढक जाता है। लेकिन उसके किनारों से रोशनी निकलती दिखाई पड़ती है। इस स्थिति में सूर्य के चारों ओर एक रिंग जैसी आकृति नजर आती है। इसी घटना को रिंग ऑफ फायर कहा जाता है।

यहां देखें सूर्य ग्रहण की तस्वीरें

 

 

 

 

यहां देखें उत्तरी गोलार्ध में सूर्य ग्रहण का टेलीस्कोर व्यू

नासा अपने यूट्यूब चैनल पर सूर्य ग्रहण की लाइव स्ट्रीमिंग कर रहा है। आप nasa.gov/nasalive पर जाकर इसे देख सकते हैं।

Surya grahan 2021: सूर्य ग्रहण के दौरान नहीं करने चाहिए ये काम, गर्भवती महिलाओं के लिए भी नियम, जानें क्या कहती हैं मान्यताएं

आपको बता दें कि आज शनि जयंती पर सूर्य ग्रहण का योग 148 साल बाद बन रहा है। आपको बता दें कि साल 2021 में कुल मिलाकर 4 ग्रहण हैं। पहला सूर्य ग्रहण आज लग गया है और दूसरा सूर्य ग्रहण 04 दिसंबर को लगेगा। वहीं पहला चंद्र ग्रहण 26 मई को लग चुका है और दूसरा चंद्र ग्रहण 19 नवंबर 2021 को है।

ज्योतिषियों की मानें तो यह ग्रहण भारत में नहीं लग रहा है इसलिए इसका कोई सूतक काल मान्य नहीं होगा। इसलिए इस ग्रहण के कारण पूजा पाठ, दान पुण्य पर कोई रोक नहीं होगी। हिंदू पंचांग के अनुसार, साल के पहले सूर्यग्रहण के दिन ज्येष्ठ मास की अमावस्या, शनि जयंती और वट सावित्री व्रत भी है। सूर्यग्रहण के दिन धृति और शूल योग भी बनेगा।

 

 

संबंधित खबरें