ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ धर्मSuccess Mantra: लंबे समय के लिए चाहते हैं सफलता तो बाधाओं से डरे नहीं करें सामना

Success Mantra: लंबे समय के लिए चाहते हैं सफलता तो बाधाओं से डरे नहीं करें सामना

सफल होना कोई बड़ी बात नहीं लेकिन सफलता को लंबे समय तक बनाए रखना  ये जरूर बड़ी बात हो सकती है। ऐसा तब होता है जब व्यक्ति वास्तव में सफलता पाने के लिए भीतर से तैयार हो जाता है। मतलब जब जीवन की...

Success Mantra: लंबे समय के लिए चाहते हैं सफलता तो बाधाओं से डरे नहीं करें सामना
Manju Mamgainलाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीTue, 16 Feb 2021 05:44 AM
ऐप पर पढ़ें

सफल होना कोई बड़ी बात नहीं लेकिन सफलता को लंबे समय तक बनाए रखना  ये जरूर बड़ी बात हो सकती है। ऐसा तब होता है जब व्यक्ति वास्तव में सफलता पाने के लिए भीतर से तैयार हो जाता है। मतलब जब जीवन की बाधाए उसके रास्ते का रोड़ा नहीं उसकी हिम्मत बनने लगती है। ऐसी ही कुछ प्रेरणा देती है यह कहानी। 

एक व्यक्ति एक दिन समुद्र-स्नान करने के लिए गया। मगर वह समुद्र में नहाने के स्थान पर किनारे बैठा रहा। उसे इस तरह बैठा हुआ देखकर किसी ने उससे पूछा, स्नान करने आए हो तो किनारे पर ही क्यों बैठे हो? स्नान कब करोगे?

उस व्यक्ति ने कहा, इस समय समुद्र अशान्त है। उसमें ऊंची-ऊंची लहरे उठ रही हैं, जब लहरें बंद होगी और जब उपयुक्त समय आएगा तब मैं स्नान कर लूंगा।

पूछने वाले को हंसी आ गई। वह बोला, भले आदमी! समुद्र की लहरे क्या कभी किसी के लिए रुकती हैं? ये तो आती-जाती रहती हैं। समुद्र में स्नान तो लहरों के थपेड़े सहकर ही करना पड़ता है। नहीं तो स्नान कभी नहीं हो सकता।

यह हम सभी की बात है। हम सोचते हैं कि जब समय हर तरह से हमारे अनुकूल होगा, तभी हम फलां काम करेंगे। मगर ऐसा मौका बहुत कम मिलता है। हमारा जीवन भी तो समुद्र के समान है, जिसमें बाधा रूपी तरंगे तो हमेशा उठती ही रहेंगी। एक परेशानी दूर होने पर दूसरी आएगी। जैसे वह व्यक्ति स्नान किए बिना ही रह गया, उसी प्रकार सभी प्रकार की अनुकूलता की राह देखने वाले व्यक्ति से कभी सफलता का स्वाद नहीं चख पाते हैं। ऐसे लोग किसी न किसी बात पर असफलताओं का रोना रोने लगते हैं। 

इस कहानी से हमें सीख मिलती है 
-किसी अच्छे या बड़े काम के लिए उपयुक्त समय की राह मत देखो। बड़े और अहम काम के लिए हर दिन और  हर क्षण अच्छा है।

-विघ्न के भय से जो कार्य की शुरुआत ही नहीं करते वे कभी अपनी मंजिल पर नहीं पहुंच पाते हैं। इसके विपरीत जो लोग बार-बार विघ्न आने पर भी अपना निश्चित किया कार्य नहीं छोड़ते, वही सफलता का स्वाद चख पाते हैं।

epaper