DA Image
25 अक्तूबर, 2020|8:24|IST

अगली स्टोरी

Success Mantra : हमेशा किस्मत को दोष देने से कम होती है ऊर्जा, इन पांच गलतियों से बचें

motivation

कुछ चुनौतियां बड़ी होती हैं, पर कुछ को हम खुद भी बड़ा बना लेते हैं। जहां जरूरत सीधे रास्तों पर चलने की होती है, हम टेढ़ी राह पकड़ लेते हैं। और फिर, कभी दूसरों को तो कभी किस्मत को दोष देने लगते हैं। ये देखना जरूरी है कि कहीं हम ही तो अपने काम और रिश्तों को जटिल नहीं बना रहे! 

दूसरों को जगह ना देना 
अपनी जिंदगी की कहानी के हीरो आप हैं, लेकिन आपकी कहानी को आगे बढ़ने के लिए दूसरों का साथ भी चाहिए होता है। यह साथ तभी मिलता है, जब आप उन्हें अपनी कहानी में शामिल करते हैं। नए पात्रों को अपनाते हैं, उनकी कहानियां सुनते हैं। उनकी समस्याओं में उनके साथ खडे़ होते हैं। इससे एक  समस्या यह होती है कि हम दूसरों से अपेक्षाएं तो रखते हैं, पर उनकी एहमियत मानने को तैयार नहीं होते। उन्हें उनकी भूमिका का श्रेय नहीं देते। उनसे अपनी बातें नहीं कहते। बेकार की तुलनाएं करके अपनी चिंताएं बढ़ाते हैं।  

 

जोखिम ना उठाना 
समस्याओं से भागना और खुद को बदलने की कोशिश ना करना, समस्याएं बढ़ा देता है। बिजनेस कोच व वर्ड स्टाइलिस्ट जूडी स्यूई कहती हैं,‘हम जितनी चिंता करते हैं, उतनी योजनाएं नहीं बनाते। जितनी योजना बनाते हैं, उतना काम नहीं करते। चिंता करने और हल ढूंढने में फर्क होता है। खुद पर भरोसा रखें।’ हर समय दूसरों को खुश करने में रहना हमें जोखिम लेने से रोकता है। अपने मन की सुनें। गलतियां करने से डरे नहीं।’

 

हर समय बुरा ही सोचना 
 कुछ बुरा होता है, तो हम सभी कुछ बुरा होने की आशंका से घिर उठते हैं। मन मेंं बुरे पक्षों की कड़ियां ही जोड़ने लगते हैं। नतीजा, हम खुद को नई चिंताओं और डर में जकड़ लेते हैं। ऐसे में याद रखेें कि सबसे साथ कुछ न कुछ बुरा होता ही है, इसलिए इन बातों को भूलकर पॉजिटिव सोच रखें। 

 

बेकार की अपेक्षाएं रखना 
माना कि आप दूसरों को बहुत प्यार करते हैं। आप सब कुछ उन्हीं को ध्यान में रखकर करते हैं लेेकिन यह जरूरी नहीं कि दूसरे भी ऐसा ही करे। उनकी जिंदगी का विस्तार  कुछ और किनारों पर भी हो सकता है। लाइफ कोच हेनरी जुनटिला, वेक अप क्लाउड में लिखती हैं, ‘दूसरों से अपेक्षाएं जितनी कम होंगी, खुशी उतनी ही ज्यादा होगी। सबकी जरूरतें समय के साथ बदलती हैं। अपनी जरूरतों का भी ध्यान रखें।’ 

 

बीती बातों में अटके रहना 
ऐसा कतई नहीं कि15 साल पहले जैसा दूसरे करते थे, वैसा आज भी करेंगे। या फिर बीते कल में कुछ बुरा हुआ है तो आगे भी बुरा ही होगा। लेखक और वकील टिम होच कहते हैं,‘ जिंदगी की किताब में कई पाठ होते हैं। किताब पूरी पढ़ने के लिए हर चैप्टर को पढ़ना जरूरी है। एक ही पाठ पर अटके ना रहें।’ प्यार, सेहत, रिश्ते और पैसा इनके बारे में अपनी सोच को ठीक रखें। हर चीज को काबू में करने की बजाए, नई चीजों को गले लगाने का साहस रखें।   

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Success Mantra dont blame your luck always