DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सक्सेस मंत्र: विनम्र रहकर दूसरों के नजरिए से भी चीजों को सोचने-समझने का प्रयास करें

Success

एक छोटे से गांव में विक्रम आनंद नाम का युवक रहा करता था। वह नेत्रहीन था और उसकी उम्र करीब 40 वर्ष थी। लेकिन चौंकने वाली बात यह है कि वह जब भी रात में बाहर निकलता था तो अपने साथ एक लैंप लेकर निकलता था। 

एक रात की बात है। जब वह बाहर से खाना खाकर घर की ओर लौट रहा था तो उसे कुछ पर्यटकों ने देखा। पर्यटकों में कुछ जवान लड़के शामिल थे। सभी की उम्र 20 से 30 वर्ष के बीच रही होगी। उन्होंने देखा कि सामने से एक नेत्रहीन व्यक्ति लैंप लेकर चला आ रहा है। लड़कों ने नेत्रहीन व्यक्ति का मजाक उड़ाना शुरू कर दिया। एक लड़के ने पूछा- आप नेत्रहीन हैं और देख नहीं सकते हैं, तो आप लैंप लेकर क्यों चलते हैं?

नेत्रहीन व्यक्ति ने उत्तर दिया- हां, दुर्भाग्यवश मैं नेत्रहीन हूं, मुझे दिखता नहीं है। लेकिन मैं लैंप आप जैसे लोगों के लिए लेकर चलता हूं जो कि आंखों से भली भांति देख सकते हैं। रात के समय हो सकता है कि मैं किसी को आता हुआ न दिखूं और मेरी किसी से टक्कर हो जाए। इसलिए मैं अपने साथ लैंप लेकर चलता हूं।' 

जवाब सुनकर सभी लड़कों को अपने बर्ताव पर शर्म आ गई और उन्होंने नेत्रहीन व्यक्ति से माफी मांगी। 

इस कहानी से मिलती है ये 3 सीख 
- किसी भी शख्स के बारे में सोच-समझकर ही अपनी राय बनाएं।
- विनम्रता से बात करें। 
- अन्य लोगों की सोच व विचार के हिसाब से भी चीजों की समझने की कोशिश करें। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:success mantra: be polite and learn to see things from others point of view
Astro Buddy