Special coincidence on Karwachauth after 70 years - करवाचौथ पर 70 साल बाद बन रहा विशेष संयोग DA Image
17 नबम्बर, 2019|5:40|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

करवाचौथ पर 70 साल बाद बन रहा विशेष संयोग

हिंदू पंचांग के अनुसार करवाचौथ का व्रत कार्तिक मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी को रखा जाता है। इस वर्ष करवाचौथ का व्रत 17 अक्टूबर को पड़ रहा है। ये व्रत सुहागिन औरतें अपने पति की लंबी आयु की कामना के लिए रखती हैं। खास बात यह है कि करवाचौथ पर इस बार करीब 70 वर्ष बाद बेहद शुभ संयोग बन रहा है। रोहिणी नक्षत्र के साथ मंगल का योग होने के कारण करवाचौथ को अधिक मंगलकारी बना रहा है।

 सक्सेस मंत्र : जीवन में कभी भी निराशा हावी हो, तो स्टीव जॉब्स की जिंदगी से जुड़े इन 5 सबक से लें प्रेरणा

ज्योतिषाचार्य पूनम वार्ष्णेय ने बताया कि करवाचौथ पर रोहिणी नक्षत्र और चंद्रमा में रोहिणी का योग होने से मार्कण्डेय और सत्यभामा योग बन रहा है। यह योग चंद्रमा की 27 पत्नियों में सबसे प्रिय पत्नी रोहिणी के साथ होने से बन रहा है। पति के लिए व्रत रखने वाली सुहागिनों के लिए यह बेहद फलदायी होगा। ऐसा योग भगवान श्रीकृष्ण और सत्यभामा के मिलन के समय भी बना था।

ज्योतिषाचार्या शानू मेल्होत्रा ने बताया कि करवा चौथ की पूजा से पहले और बाद में भजन-कीर्तन जरूर करें। इससे वातावरण में सकारात्मकता आती है और पूजन का पूर्ण फल मिलता है।

लाल रंग के कपड़े पहनें, मिलेगा पति का प्यार
करवाचौथ के दिन व्रत रखने वाली महिलाएं यदि लाल रंग के कपड़े पहनती हैं तो उन्हें जिंदगी भर पति का प्यार मिलेगा। माना जाता है कि लाल रंग गर्मजोशी का  प्रतीक है और मनोबल भी बढ़ाता है। साथ ही लाल रंग प्यार का प्रतीक भी माना जाता है। लाल रंग में महिलाएं अधिक सुंदर और आकर्षित दिखती हैं एवं सबके आकर्षण का केंद्र बिंदू बनती हैं। नीले, भूरे और काले रंग के कपड़े न पहनें, क्योंकि ये अशुभता के प्रतीक हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Special coincidence on Karwachauth after 70 years