DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

ग्रहण काल में हावी रहती हैं नकारात्मक शक्तियां, ऐसे करें बचाव

ग्रहण के समय नकारात्मक शक्तियां हावी रहती हैं। इसलिए ग्रहण के समय कई सावधानियां बरतनी चाहिए। कहा जाता है कि ग्रहण के समय किसी भी सुनसान जगह या श्मशान न जाएं। घर में बने पूजास्थल को भी ग्रहण के दौरान ढककर रखें। ग्रहण समाप्ति पर पूजा स्थल को साफ कर गंगाजल का छिड़काव करें। देव मूर्तियों को भी गंगाजल से स्नान कराएं।

ग्रहण के दिन सुबह देर तक न सोएं। सुबह जल्दी उठें और पानी में नमक डालकर नहाएं। सूतक काल से मूर्ति पूजा नहीं करनी चाहिए। ग्रहण के दिन स्त्री-पुरुष को प्रसंग से बचना चाहिए। ग्रहण के समय मन को शांत रखें। इस समय ध्यान करना उपयोगी माना गया है। ग्रहण के समय भूलकर भी वाद-विवाद न करें, न ही किसी का अपमान करें। ग्रहण के बाद दान अवश्य करना चाहिए।  

ग्रहण के समय गर्भवती महिलाओं को विशेष सावधानी बरतनी चाहिए। कोई भी चीज नहीं काटनी चाहिए। सुई-धागे का प्रयोग ग्रहण के दौरान वर्जित है। ग्रहण के समय खाने-पीने से गर्भवती महिलाओं को बचना चाहिए। गर्भवती स्त्रियों को ग्रहण के दौरान घर के बाहर नहीं निकलना चाहिए। ग्रहण के दिन भूलकर भी वृक्ष ना काटें। ग्रहण काल के बाद किसी पवित्र नदी में स्नान करें।

इस आलेख में दी गई जानकारियां धार्मिक आस्थाओं और लौकिक मान्यताओं पर आधारित हैं, जिसे मात्र सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर प्रस्तुत किया गया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Solar eclipse