DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   धर्म  ›  Surya Grahan Solar Eclipse 2021 : साल का पहला सूर्य ग्रहण समाप्त, तस्वीरों में देखें खूबसूरत नजारा

पंचांग-पुराणSurya Grahan Solar Eclipse 2021 : साल का पहला सूर्य ग्रहण समाप्त, तस्वीरों में देखें खूबसूरत नजारा

लाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीPublished By: Saumya Tiwari
Thu, 10 Jun 2021 07:16 PM
Surya Grahan Solar Eclipse 2021 : साल का पहला सूर्य ग्रहण समाप्त, तस्वीरों में देखें खूबसूरत नजारा

साल का पहला सूर्य ग्रहण समाप्त हो गया है। यह शाम 06 बजकर 41 मिनट तक रहा। सूर्य ग्रहण की शुरुआत भारतीय समयानुसार दोपहर 1 बजकर 42 मिनट से हुई। यह करीब पांच घंटों तक रहा। यह सूर्य ग्रहण वलयाकार था। इस दौरान आसमान में रिंग ऑफ फायर का अद्भुत नजारा भी देखने को मिला। सूर्य ग्रहण को उत्तरी अमेरिका के उत्तरी भाग, यूरोप, एशिया के कई शहरों, उत्तरी कनाडा और रूस के ज्यादातर हिस्सों में देखा गया।

Surya Grahan Solar Eclispe सूर्य ग्रहण की तस्वीरें....

 

06:41 PM- सूर्य ग्रहण समाप्त

साल का पहला सूर्य ग्रहण समाप्त हो गया है। अब साल 2021 का दूसरा और आखिरी सूर्य ग्रहण लगेगा 4 दिसंबर को लगेगा। इस ग्रहण को भारत में नहीं देखा जा सकेगा। यह अंटार्कटिका, दक्षिण अफ्रीका, ऑस्ट्रेलिया और दक्षिण अमेरिका में दिखाई पड़ेगा।

06:30 PM- समाप्त होने वाला है सूर्य ग्रहण

साल का पहला सूर्य ग्रहण कुछ ही देर में समाप्त होने जा रहा है। यह शाम 06 बजकर 41 मिनट तक ही रहेगा।

06: 00 PM- नासा ने शेयर की तस्वीर

 

05: 50 PM-  कुछ समय बाद भारत के इन हिस्सों में दिखेगा सूर्य ग्रहण

देवी प्रसाद दुरई, एमपी बिरला प्लेनटेरियम के डायरेक्टर ने बताया कि लद्दाख और अरुणाचल प्रदेश में यह केवल सूर्यास्त के पहले ही देखा जा सकेगा। अरुणाचल प्रदेश में दिबांग वन्यजीव अभयारण्य के पास से शाम करीब 5 बजकर 52 मिनट पर देखा जा सकेगा। वहीं लद्दाख के उत्तरी हिस्से में सूर्य ग्रहण शाम 06 बजे देखा जा सकेगा। यहां सूर्यास्त शाम को करीब 06 बजकर 15 मिनट पर होगा।

05: 24 PM-  तस्वीरों में  देखें रिंग ऑफ फायर का अद्भुत नजारा

 

05:20 PM- आज दिख रहा है रिंग ऑफ फायर का अद्भुत नजारा

आज सूर्य ग्रहण के दौरान रिंग ऑफ फायर का अद्भुत नजारा दिखाई दे रहा है। चंद्रमा की छाया के कारण सूर्य के बीच का भाग ढक जाता है। लेकिन उसके किनारों से रोशनी निकलती दिखाई पड़ती है। इस स्थिति में सूर्य के चारों ओर एक रिंग जैसी आकृति नजर आती है। इसी घटना को रिंग ऑफ फायर कहा जाता है।

05:09 PM- नासा ने शेयर की आंशिक सूर्य ग्रहण की तस्वीर

04:40 PM- देखें सूर्य ग्रहण की तस्वीरें

 

04:30 PM- कुछ ही देर में दिखेगा 'रिंग ऑफ फायर' का शानदार नजारा

अब से कुछ ही देर बाद रिंग ऑफ फायर का शानदार नजारा देखने को मिलेगा। शाम के लगभग 4 बजकर 52 मिनट पर आसमान में रिंग ऑफ फायर का अद्भुत नजारा दिखाई देगा। इस सूर्य ग्रहण को उत्तरी अमेरिका के उत्तरी भाग, यूरोप, एशिया के कई शहरों, उत्तरी कनाडा और रूस के ज्यादातर हिस्सों में देखा जा रहा है।

04:00 PM -  5 घंटे तक रहेगा सूर्य ग्रहण

साल का पहला सूर्य ग्रहण आज 10 जून को लगना शुरू हो गया है। यह ग्रहण 5 घंटे तक रहेगा। नॉर्थ अमेरिका, यूरोप और एशिया में इस ग्रहण को साफ-साफ देखा जा सकेगा। भारत में यह ग्रहण सूर्यास्त के पहले लद्दाख और अरुणाचल प्रदेश में  दिखाई देगा। हालांकि यह ग्रहण भारत में आंशिक तौर पर ही दिखेगा। असली रिंग ऑफ फॉयर का नजारा तो विदेशों में देखा जा सकेगा।

03:35 PM लंदन में रिचमंड नाम की जगह से सूर्य ग्रहण का नजारा

03:35 PM एडिनबर्ग में सूर्य ग्रहण का नजारा 

देखें सूर्य ग्रहण की तस्वीरें 

 

 

03:12 PM - नासा अपने यूट्यूब चैनल पर सूर्य ग्रहण की लाइव स्ट्रीमिंग कर रहा है। आप nasa.gov/nasalive पर जाकर इसे देख सकते हैं। 

solar eclipse

03:08 PM - एस्ट्रोनोमर और साइंस जर्नलिस्ट विल गेटर ने यूके में आशिंक सूर्य ग्रहण की तस्वीर ट्विटर पर शेयर की। 

3:00 PM- भारत में सूर्यास्त से पहले दिखाई देगा सूर्य ग्रहण

भारत में यह ग्रहण सूर्यास्त के पहले लद्दाख और अरुणाचल प्रदेश में दिखाई देगा। हालांकि यह ग्रहण भारत में आंशिक तौर पर ही दिखेगा। असली रिंग ऑफ फॉयर का नजारा तो विदेशों में देखा जा सकेगा। देवी प्रसाद दुरई, एमपी बिरला प्लेनटेरियम के डायरेक्टर ने बताया कि लद्दाख और अरुणाचल प्रदेश में यह केवल सूर्यास्त के पहले ही देखा जा सकेगा।

2:30 PM- इन स्थानों में दिखेगा सूर्य ग्रहण-

NASA के अनुसार रिंग ऑफ फॉर सूर्य ग्रहण का नजारा कनाडा, ग्रीनलैंड और रूस के लोग देख सकेंगे। वहीं ग्रहण पूर्वी अमेरिका, उत्तरी अलास्का और कनाडा, कैरेबियन, यूरोप, एशिया और उत्तरी अफ्रीका में देखने को मिलेगा। 

2:00 PM- साल का दूसरा सूर्य ग्रहण कब लगेगा?

साल 2021 का दूसरा और आखिरी सूर्य ग्रहण लगेगा। इस ग्रहण को भारत में नहीं देखा जा सकेगा। यह अंटार्कटिका, दक्षिण अफ्रीका, ऑस्ट्रेलिया और दक्षिण अमेरिका में दिखाई पड़ेगा।

1:48 PM- ग्रहण के दौरान क्या करें-

1. ग्रहण शुरू होने से पहले खुद को शुद्ध कर लें। ग्रहण शुरू होने से पहले स्नान आदि कर लेना शुभ माना जाता है।
2. ग्रहण काल में अपने इष्ट देव या देवी की पूजा अर्चना करना शुभ होता है।
3. सूर्य ग्रहण में दान करना बेहद शुभ माना जाता है। ग्रहण समाप्त होने के बाद घर में गंगा जल का छिड़काव करना चाहिए।
4. ग्रहण खत्म होने के बाद एक बार फिर स्नान करना चाहिए। कहते हैं कि ऐसा शुभ फलों की प्राप्ति होती है।
5. ग्रहण काल के दौरान खाने-पीने की चीजों में तुलसी का पत्ता डालना चाहिए।

1:30 PM- कुछ ही देर में लगेगा साल का पहला सूर्य ग्रहण

हिंदू पंचांग अनुसार ये सूर्य ग्रहण ज्येष्ठ महीने की अमावस्या को वृषभ राशि और मृगशिरा नक्षत्र में लगने जा रहा है।

01:16 PM- सौर मंडल का सूर्य मुख्य ग्रह

हमारे सौर मंडल का सूर्य मुख्य ग्रह है। पृथ्वी अपनी धुरी पर घूमती है। इसके साथ-साथ पृथ्वी सूर्य के चारों ओर भी चक्कर लगाती है। जबकि चंद्रमा पृथ्वी के चारों ओर चक्कर लगाता है। पूरे साल घटित होने वाले इस चक्र में जब भी चंद्रमा चक्कर काटते-काटते सूर्य और पृथ्वी के बीच आ जाता है, तब सूर्य ग्रहण लगता है। इस दौरान सूर्य आंशिक या पूर्ण रूप से दिखना बंद हो जाता है।

12:50 PM- वलयाकार सूर्य ग्रहण की लंबी अवधि-

वलयाकार सूर्य ग्रहण की लंबी अवधि 3 मिनट 44 सेकेंड की होगी। भारत में ज्यादातर जगहों पर सूर्य ग्रहण नहीं दिखाई देगा। इस वजह से भारत में सूतक काल मान्य नहीं होगा। इस ग्रहण को अरुणाचल प्रदेश और लद्दाख के कुछ हिस्सों में देखा जा सकेगा। 

12: 35 PM क्या होता है सूर्य ग्रहण?

सूर्य ग्रहण पूरी तरह से एक खगोलीय घटना है। जब कोई खगोलीय पिंड पूर्ण या आंशिक रूप से किसी दूसरे पिंड से ढक जाता है, तो ग्रहण की घटना होती है। ग्रहण में चंद्रमा व सूर्य की भूमिका अहम होती है

12:18 PM वृषभ राशि वालों पर पड़ेगा सबसे ज्यादा असर-

सूर्य ग्रहण का सबसे ज्यादा असर वृषभ राशि पर देखने को मिलेगा। इस दिन चंद्रमा वृषभ राशि पर संचार करेगा। ऐसे में इस राशि के जातकों को अपनी सेहत का ध्यान रखना होगा। इसके अलावा पैसों के मामलों में सावधानी बरतनी होगी। सूर्य ग्रहण के दौरान मृगशिरा नक्षत्र रहेगा। 

12:00 PM- क्या होता है रिंग ऑफ फायर-

चंद्रमा की छाया के कारण सूर्य के बीच का भाग ढक जाता है। लेकिन उसके किनारों से रोशनी निकलती दिखाई पड़ती है। इस स्थिति में सूर्य के चारों ओर एक रिंग जैसी आकृति नजर आती है। इसी घटना को रिंग ऑफ फायर कहा जाता है।

संबंधित खबरें