ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News AstrologyShubh Vivah Muhurat After 23 years there will be no weddings in May and June know why

23 साल बाद ऐसा मौका जब इस मई और जून में नहीं होंगी शादी, जानें किस ग्रह के कारण हो रहा ऐसा

Shubh Vivah Muhura  ज्योतिषाचार्य पं. दिवाकर त्रिपाठी पूर्वांचली ने बताया कि गुरु और शुक्र ग्रह अस्त हो रहे हैं। इसलिए मई और जून माह में विवाह कार्य नहीं होगा। ज्योतिषाचार्य एसएस नागपाल ने बताया कि 18

23 साल बाद ऐसा मौका जब इस मई और जून में नहीं होंगी शादी, जानें किस ग्रह के कारण हो रहा ऐसा
Anuradha Pandeyसंवाददाता,लखनऊ Tue, 30 Apr 2024 06:37 AM
ऐप पर पढ़ें

इस बार मई और जून में शहनाई नहीं बजेगी। ज्योतिषाचार्यों की मानें तो करीब 23 साल बाद इस तरह का संयोग बना रहा है कि मई और जून में विवाह नहीं हो सकेंगे। क्योंकि अब शुक्र अस्त हो चुका है। शुक्र या गुरु ग्रह के अस्त होने पर हिन्दू धर्म में किसी प्रकार का मांगलिक कार्य करना शुभ नहीं माना जाता है। जुलाई में कई तिथियों में विवाह के अच्छे मुहूर्त हैं।

मई, जून में अस्त रहेगा गुरु व शुक्र ग्रह ज्योतिषाचार्य पं. दिवाकर त्रिपाठी पूर्वांचली ने बताया कि गुरु और शुक्र ग्रह अस्त हो रहे हैं। इसलिए मई और जून माह में विवाह कार्य नहीं होगा। ज्योतिषाचार्य एसएस नागपाल ने बताया कि 18 से 26 अप्रैल को शुभ मुहूर्त समाप्त हो चुके हैं। हर साल मई और जून काफी विवाह मुहूर्त रहते थे, लेकिन इस बार इन दो माह में कोई भी विवाह मुहूर्त नहीं है। गुरु ग्रह सात मई से छह जून 2024 तक 30 दिन के लिए अस्त रहेगा, जबकि शुक्र ग्रह 27 अप्रैल से 28 जून तक कुल 63 दिन तक अस्त रहेगा।

जुलाई में विवाह मुहूर्त, नवंबर में हो सकेंगे विवाह ज्योतिषाचार्य एसएस नागपाल ने बताया कि इन दो माह के बाद अब जुलाई में विवाह के मुहूर्त मिलेंगे, जो कि हरिशयनी एकादशी 17 जुलाई तक है।

उसके बाद चातुर्मास शुरू हो जाएगा, जिसके बाद फिर से मांगलिक कार्य चार माह तक नहीं हो सकेंगे। फिर 12 नवंबर हरि एकादशी के बाद नवंबर माह में विवाह मुहूर्त होगा। इसलिए जुलाई के बाद अब नवंबर और दिसंबर में ही विवाह होंगै।

वर्ष 2000 में था संयोग
ज्योतिषाचार्य पं. आनंद दुबे ने बताया कि विवाह मुहूर्त में गुरु और शुक्र अस्त का भी विचार किया जाता है। अच्छा शुक्र भोग विलास का नैसर्गिक कारक है। सुख को दर्शाता है। गुरु ग्रह कन्या के लिए पति सुख का कारक है। शास्त्रत्तें के मुताबिक दोनों ग्रहों का उदय होना शुभ विवाह के लिए जरूरी होता है। वर्ष 2000 में भी ग्रह नक्षत्रों की अशुभ स्थिति से मई और जून माह में विवाह कार्य नहीं हो सके थे।

विवाह के लिए शुभ तिथि

जुलाई 9, 10, 11, 12, 13, 14, 15, 16 व 17

नवंबर 17, 18, 22, 23, 24 व 25

दिसंबर 2, 3, 4, 5, 9, 10, 11, 13, 14 व 15