DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सावन महीने को क्यों दिया गया है सबसे ज्यादा महत्व, जानें खास बातें

हिंदू धर्म में श्रावण मास का बहुत बड़ा महत्व है। यह बहुत ही पवित्र माना गया है। शास्त्रों में भी श्रावण मास को काफी महत्व दिया गया है। यह अंग्रेजी कैलेंडर के मुताबिक जुलाई और अगस्त के बीच का महीना होता है। अगर इस महीने की विशेषताओं की बात करें तो कई अहम बातें सामने आती हैं। आइये डालतें हैं एक नजर...

श्रावण मास में भगवान शिव की पूजा-अर्चना की जाती है। इस मास में भोले शंकर की पूजा का विशेष महत्व दिया गया है। यह हिंदू पंचांग का पांचवां महीना है, जिसे सावन के नाम से भी जाना जाता है। वहीं अंग्रेजी कैलेंडर के मुताबिक यह जुलाई और अगस्त में आता है। इसी महीने में आने वाले सोमवार के व्रत को अहमियत दी गई है। 

दरअसल सावन का महीना भगवान शंकर को काफी पसंद है। इसलिए भक्तजन इस महीने में व्रत रखते हैं। इस महीने में सावन स्नान की परंपरा है, जिसे पिछले कई दशकों से लोग निभाते हुए आ रहे हैं। सावन के महीने में भगवान शिव की पूजा के दौरान बेल पत्र से पूजा-अर्चना की जाती है और जल चढ़ाया जाता है। 

अमावस्या के दिन नहीं करने चाहिए ये काम, देखें 2019 कब-कब आयेगा ये दिन

हिंदू धार्मिक ग्रंथ शिव पुराण के मुताबिक जो व्यक्ति सावन के महीने में सोमवार का व्रत रखता है, उसी मनोकामना भगवान शिव पूरी करते हैं।  यही वजह है कि सावन के महीने में शिव भक्त ज्योर्तिलिंगों के दर्शन करने के लिए जाते हैं। इसमें  हरिद्वार, काशी, नासिक और उज्जैन समेत कई धार्मिक स्थान शामिल हैं। 

सक्सेस मंत्र: आपकी बेहतर सोच और नजरिया आपके कामों में भी दिखना चाहिए

श्रावण मास शिव भक्तों के लिए काफी अहम है। इसी महीने में भक्त कांवड़ यात्रा पर निकलते है। इस साल कांवड़ यात्रा की शुरुआत 17 जुलाई से होगी। शिव भक्त इस दौरान लाखों की संख्या में हरिद्वार और गंगोत्री समेत अनेक धामों की यात्रा करेंगे। 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:shravan mahina 2019 kawad yatra importance
Astro Buddy