DA Image
29 सितम्बर, 2020|7:57|IST

अगली स्टोरी

Shradh 2019: दक्षिण दिशा में आंसू बहाकर भी कर सकते हैं पितरों को संतृप्त

shradh 2019

14 सितंबर को सूर्य अस्त होते सूर्य की रश्मियों (किरणों) पर बैठकर पितृगण धरती पर आ गए। धराधामवासी 16 दिनों तक तिथियों के अनुसार पितरों को हव्य, कव्य और जल प्रदान कर रहे हैं। लेकिन, जिनके पास पितरों को अर्पित करने के लिए कुछ नहीं है, वह केवल मात्र दक्षिण दिशा में आंसू बहाकर पितरों को संतृप्त कर सकते हैं। क्योंकि गरुड़ पुराण और वास्तुशास्त्र के अनुसार दक्षिण दिशा पितरों को समर्पित मानी गई है।

दो दशक बाद शनिवार को है सर्व पितृ मोक्ष अमावस्या की तिथि

पितृपक्ष में मान्यता है कि तिथि के अनुसार अपने पितृ को मध्याह्न काल में यथा योग्य हव्य, कव्य दिया जाना चाहिए। मध्याह्न काल दोपहर 12 बजे से दो बजे तक माना जाता है। पितृपक्ष में यदि पास में धन है तो कई पंडितों को पितरों के निमित्त जिमाया जाता है। पंडितों के अलावा धेवते को भी पंडित की मान्यता शास्त्रों ने दी है। लेकिन, यदि पास में कुछ न हो तो दक्षिण दिशा की ओर मुख कर आंसू बहाने से भी पितृगण तृप्त हो जाते हैं। ऐसी गरुड़ पुराण में मान्यता है। यदि कोई बहुत ही गरीब हो तो वह केवल पितरों का स्वरूप स्मरण करने से उनको पुत्र और पौत्र का हव्य प्राप्त हो जाता है। पितृपक्ष में प्रतिदिन पितरों को तिथि के अनुसार दक्षिणा द्रव्य दिए जाने की मान्यता है। जिन पितरों की तिथि याद न हो उनका श्राद्ध अमावस्या को किया जाएगा। वहीं पूर्णिमा के दिन मरने वाले पितरों का श्राद्ध भाद्रपद पूर्णिमा को होता है।

पितृ पक्ष की हर तिथि का अलग-अलग है महत्व

 पितृगण वर्षभर सूर्य की किरणों से धरती से संपर्क रखते हैं। उनकी तिथि और कनागत में जो भी दिया जाता है, वह सूर्य की किरणों के माध्यम से पितरों को प्राप्त होता है। यदि किसी के पास अर्पित करने के लिए कुछ न हो तो वह दक्षिण दिशा में पितरों के निमित्त केवल आंसू बहाकर उन्हें संतृप्त कर श्रद्धांजलि अर्पित कर सकते हैं। इसका उल्लेख गरुड़ पुराण और वास्तुशास्त्र में किया गया है। -आचार्य लवकुश शास्त्री, ज्योतिषाचार्य। 

  shradh 2019: पिंडदान करने से बेटे को मिलती है पितृऋण से मुक्ति, जानें क्या है धार्मिक मान्यता

दक्षिण दिशा पितरों को समर्पित है। पितर दक्षिण दिशा से ही श्राद्धपक्ष में धरती पर आते हैं। ऐसा शास्त्रों में उल्लेख किया गया है। मान्यता के अनुसार हम केवल दक्षिण दिशा में पितरों के निमित्त आंसू बहाकर उन्हें संतृप्त कर सकते हैं। -पं. हृदय रंजन शर्मा, ज्योतिषाचार्य।

परोसा भेजने ज्योतिषाचार्य पं. हृदय रंजन शर्मा के अनुसार समय ने बहुत कुछ बदल दिया है। अब पंडित भी जिमने को नहीं मिलते। अधिकतर पंडितों के पुत्र नौकरी पेशे वाले हैं और नगर से बाहर काम पर चले गए हैं। वहीं तमाम पंडितों को बीमारियों ने घेर लिया है। फलस्वरूप उन्हें पक्का भोजन रास नहीं आता। ऐसे में पंडितों के घर परोसा भेजने की परंपरा भी है।

ज्योतिषाचार्य पंडित अरविंद उपाध्याय ने बताया कि श्राद्ध केवल अमावस्या के दिन ही नहीं करने चाहिए। यूं तो तिथियां निर्धारित हैं जिन दिनों में पितरों के श्राद्ध किए जा सकते हैं। माता की तिथि याद न हो तो नवमी के दिन मातृ श्राद्ध होता है। संन्यासियों के भी श्राद्ध द्वादशी तिथि को किए जाते हैं। यदि तिथियां याद हों तो तिथियों के दिन सकल पितरों के श्राद्ध करने चाहिए। याद न हों तो अमावस्या के दिन पितरों का विसर्जन किया जा सकता है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Shradh 2019: pitr can also be santrapt by shedding tears in the south direction if nothing to tarpana