DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

शीतला सप्तमी 2019: 27 मार्च को है शीतला सप्तमी, जानें इसका महत्व

चैत्र महीने के कृष्णपक्ष की सप्तमी को शीतला सप्तमी मनाई जाती है। इस दिन शीतला माता की पूजा की जाती है। शीतला सप्तमी का वर्णन स्कंद पुराण में भी मिलता है। इसके अनुसार देवी शीतल को दुर्गा और पार्वती का अवतार माना गया है और इन्हें रोगों से उपचार की शक्ति प्राप्त है।

इस दिन लोग सूर्योदय से पहले उठकर ठंडे जल से स्नान करते हैं। इसके बाद शीतला माता के मंदिर में जाकर देवी को ठंडा जल अर्पित करके उनकी विधि-विधान से पूजा करते हैं। श्रीफल अर्पित करते हैं और एक दिन पूर्व पानी में भिगोई हुई चने की दाल चढ़ाते है। शीतला माता को ठंडे भोजन का नैवेद्य लगता है इसलिए भोजन एक दिन पहले रात में बनाकर रख लिया जाता है। शीतला सप्तमी की कथा सुनने के बाद घर आकर मुख्य प्रवेश द्वार के दोनों ओर हल्दी से हाथ के पांच पांच छापे लगाए जाते हैं। जो जल शीतला माता को अर्पित किया जाता है उसमें से थोड़ा सा बचाकर घर लाते हैं और उसे पूरे घर में छींट देते हैं। इससे शीतला माता की कृपा बनी रहती है और रोगों से घर की सुरक्षा होती है। शीतला सप्तमी के दिन घर में चूल्हा नहीं जलाया जाता है।

Chaitra Navratri 2019: चैत्र नवरात्रि के दिन बन रहे हैं शुभ संयोग, ऐसे करें पूजा

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Sheetla Saptami 2019 on 27th march 2019 know its importance