ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ धर्मSheetla Mata Mandir: दिल्ली से बहुत ही पास है यह मंदिर, मंदिर में बांधते है मन्नत का धागा, रोगों को दूर करती हैं माता

Sheetla Mata Mandir: दिल्ली से बहुत ही पास है यह मंदिर, मंदिर में बांधते है मन्नत का धागा, रोगों को दूर करती हैं माता

 देशभर में विधिविधान से आज लोगों ने शारदीय नवरात्रि पर मां अम्बे की पूजा की। नवरात्र के पहले दिन लोगों ने कलश पर आम के पल्लव, चावल और उस पर मां की ज्योति प्रज्जवलित की। इसके अलावा मां सप्तशती का पाठ क

Sheetla Mata Mandir: दिल्ली से बहुत ही पास है यह मंदिर, मंदिर में बांधते है मन्नत का धागा, रोगों को दूर करती हैं माता
Anuradha Pandeyलाइव हिंदुस्तान टीम,नई दिल्लीTue, 27 Sep 2022 05:17 AM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

देशभर में विधिविधान से आज लोगों ने शारदीय नवरात्रि पर मां अम्बे की पूजा की।  नवरात्रि में शीतला माता (Sheetla Mata) मंदिर में भी भारी भीड़ रहती है, देश से ही नहीं विदेशों से भी यहां लोग माता के दर्शन करने आते हैं। हम बात कर रहे हैं हरियाणा के गुड़गांव के शीतला माता (Sheetla Mata) के मंदिर की। आपको बता दें कि चैत्र नवरात्रि में यहां बड़ा चैत्र मेला लगता है। यहां  श्रद्धालुओं की मान्यता है कि जो भी मंदिर में सच्ची श्रद्धा से आता है, माता शीतला उन्हें कभी निराश नहीं करती और उनकी मांगी हुई हर मन्नत पूरी होती है।

बताया जाता है कि यह मंदिर करीब चार सौ साल पुराना है। इस मंदिर के बारे में मान्यता है कि यहां माता एक व्यक्ति सिंघा जाट के सपनों में आईं थी और उसे दर्शन देकर उससे मंदिर बनाने के लिए कहा था।  इस मंदिर के बारे में यह भी कहा जाता है कि माता यहां साक्षात वास करती हैं। इतना ही नहीं माता के इस मंदिर में दर्शन मात्र से चेचक, खसरा और नेत्र रोग जड़ से खत्म हो जाते हैं। यही नहीं इस मंदिर में एक बरगद का पेड़ भी है। इस पेड़ के बारे में कहा जाता है कि जो भी यहां मन्नत का दागा बांधते हैं उनकी मन्नत यहां पूरी होती है। इसके अलावा संतान के लिए भी यहां मन्नता का धागा बांधा जाता है।


मंदिर के पुजारी की मानें तो चैत्र मेले में माता शीतला की पूजा आर्चना करने से चेचक जैसी बीमारी खत्म हो जाती है। श्रद्धालुओं में शीतलता भी आती है। लोग यहां अपने छोटे बच्चों का मुंडन भी करवाते हैं। यहां अष्टमी पर भक्तों का तांता लगा रहता है। 
 

epaper