ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News AstrologyShattila Ekadashi 2024 When is Shattila Ekadashi note down the correct date auspicious time worship method and fasting time

षटतिला एकादशी व्रत आज, नोट कर लें शुभ मुहूर्त, पूजा-विधि और व्रत पारण टाइम

Shattila Ekadashi 2024: 6 फरवरी को पड़ रही है फरवरी की पहली एकादशी। मंगलवार को पूरे विधि-विधान से विष्णु भगवान की उपासना की जाएगी।

षटतिला एकादशी व्रत आज, नोट कर लें शुभ मुहूर्त, पूजा-विधि और व्रत पारण टाइम
Shrishti Chaubeyलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीTue, 06 Feb 2024 08:39 AM
ऐप पर पढ़ें

Shattila Ekadashi 2024: फरवरी के महीने में पड़ने वाली पहली एकादशी को षटतिला एकादशी कहते हैं। षटतिला एकादशी माघ मास के कृष्ण पक्ष की एकादशी तिथि को मनाई जाती है। पंचांग के अनुसार, यह पर्व 6 फरवरी को पड़ रहा है। मंगलवार को पूरे विधि-विधान से विष्णु भगवान की उपासना की जाएगी। श्रीहरि को प्रसन्न करने के लिए यह दिन बहुत ही खास और महत्वपूर्ण माना जाता है। मान्यताओं के अनुसार, षटतिला एकादशी का व्रत रखने से जातक की सभी मनोकामनाएं पूर्ण हो जाती हैं। इसलिए आइए जानते हैं षटतिला एकादशी की सही तिथि, शुभ मुहूर्त, पूजा विधि और व्रत पारण का समय-

कब है षटतिला एकादशी?
इस साल षटतिला एकादशी फरवरी 6, 2024 को मनाई जाएगी। पंचांग के अनुसार, 5 फरवरी के दिन 05:24 पी एम से एकादशी तिथि की शुरुआत होगी, जो 06 फरवरी के दिन 04:07 पी एम मिनट तक रहेगी।

मुहूर्त-
एकादशी तिथि प्रारम्भ - फरवरी 05, 2024 को 05:24 पी एम बजे
एकादशी तिथि समाप्त - फरवरी 06, 2024 को 04:07 पी एम बजे
पारण (व्रत तोड़ने का) समय - 06:49 ए एम से 09:01 ए एम, 7 फरवरी 
पारण तिथि के दिन द्वादशी समाप्त होने का समय - 02:02 पी एम, 7 फरवरी

पूजा-विधि 
स्नान आदि कर मंदिर की साफ सफाई करें
भगवान श्री हरि विष्णु का जलाभिषेक करें
प्रभु का पंचामृत सहित गंगाजल से अभिषेक करें
अब प्रभु को पीला चंदन और पीले पुष्प अर्पित करें
मंदिर में घी का दीपक प्रज्वलित करें
संभव हो तो व्रत रखें और व्रत लेने का संकल्प करें
षटतिला एकादशी की व्रत कथा का पाठ करें
ॐ नमो भगवते वासुदेवाय मंत्र का जाप करें
पूरी श्रद्धा के साथ भगवान श्री हरि विष्णु और लक्ष्मी जी की आरती करें
प्रभु को तुलसी दल सहित भोग लगाएं
अंत में क्षमा प्रार्थना करें

डिस्क्लेमर: इस आलेख में दी गई जानकारियों पर हम यह दावा नहीं करते कि ये पूर्णतया सत्य एवं सटीक हैं। विस्तृत और अधिक जानकारी के लिए संबंधित क्षेत्र के विशेषज्ञ की सलाह जरूर लें। 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें