DA Image
हिंदी न्यूज़ › धर्म › Shardiya Navratri 2021: शारदीय नवरात्रि कब से हो रहे आरंभ? जानें कलश स्थापना विधि, नवमी की डेट और शुभ मुहूर्त
पंचांग-पुराण

Shardiya Navratri 2021: शारदीय नवरात्रि कब से हो रहे आरंभ? जानें कलश स्थापना विधि, नवमी की डेट और शुभ मुहूर्त

लाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीPublished By: Saumya Tiwari
Mon, 20 Sep 2021 10:50 AM
Shardiya Navratri 2021: शारदीय नवरात्रि कब से हो रहे आरंभ? जानें कलश स्थापना विधि, नवमी की डेट और शुभ मुहूर्त

हिंदू धर्म में नवरात्रि का विशेष महत्व है। नवरात्रि का पर्व मां दुर्गा को समर्पित होता है। नवरात्रि के दिनों में मां दुर्गा के नौ स्वरूपों की पूजा और उपासना की जाती है। मान्यता है कि नवरात्रि पर मां दुर्गा की विधि-विधान से पूजा करने से जीवन के सभी दुख दूर होते हैं और सुख-समृद्धि की प्राप्ति होती है। नवरात्रि के दिनों में माता रानी के भक्त मां उनकी विशेष कृपा पाने के लिए व्रत भी रखते हैं।

नवरात्रि कब है?

हिंदू पंचांग के अनुसार, नवरात्रि का पर्व 07 अक्टूबर से आरंभ होगा। इसे शरद या शारदीय नवरात्रि भी कहते हैं। शरद नवरात्रि का पर्व 15 अक्टूबर को समाप्त होगा।

सोमवार के दिन इन राशियों को मिलेगा किस्मत का साथ, पढ़ें मेष से लेकर मीन राशि तक का हाल

दुर्गा पूजा कलश स्थापना 2021 कब है?

नवरात्रि का त्योहार कलश स्थापना से आरंभ होता है। शरद नवरात्रि में कलश स्थापना प्रतिपदा तिथि यानी 07 अक्टूबर को होगी। कलश स्थापना के साथ ही नवरात्रि के त्योहार की विधि-विधान शुरुआत मानी जाती है।

नवरात्रि 2021 की प्रमुख तिथियां-

नवरात्रि प्रारंभ- 07 अक्टूबर 2021, गुरुवार
नवरात्रि नवमी तिथि- 14 अक्टूबर 2021, गुरुवार
नवरात्रि दशमी तिथि- 15 अक्टूबर 2021, शुक्रवार
घटस्थापना तिथि- 07 अक्टूबर 2021, गुरुवार

पितृ पक्ष में इन बातों का रखें खास ध्यान, जानिए श्राद्ध के दिन क्यों जरूरी होता है तर्पण

क्यों करते हैं कलश स्थापना-

पूजा स्थान पर कलश की स्थापना करने से पहले उस जगह को गंगा जल से शुद्ध किया जाता है। कलश को पांच तरह के पत्तों से सजाया जाता है और उसमें हल्दी की गांठ, सुपारी, दूर्वा, आदि रखी जाती है। कलश को स्थापित करने के लिए उसके नीचे बालू की वेदी बनाई जाती है। जिसमें जौ बोये जाते हैं। जौ बोने की विधि धन-धान्य देने वाली देवी अन्नपूर्णा को खुश करने के लिए की जाती है। मां दुर्गा की फोटो या मूर्ति को पूजा स्थल के बीचों-बीच स्थापित करते है। जिसके बाद मां दुर्गा को श्रृंगार, रोली ,चावल, सिंदूर, माला, फूल, चुनरी, साड़ी, आभूषण अर्पित करते हैं। कलश में अखंड दीप जलाया जाता है जिसे व्रत के आखिरी दिन तक जलाया जाना चाहिए। 

संबंधित खबरें