ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ धर्मधनु, मिथुन और तुला राशि को मिलेनी वाली है शनि की महादशा से मुक्ति, जानें 2050 तक कैसा रहेगा सभी राशियों का हाल

धनु, मिथुन और तुला राशि को मिलेनी वाली है शनि की महादशा से मुक्ति, जानें 2050 तक कैसा रहेगा सभी राशियों का हाल

शनि के राशि परिवर्तन को ज्योतिष में बहुत अधिक महत्वपूर्ण माना जाता है। शनि के राशि परिवर्तन से किसी राशि पर शनि की साढ़ेसाती और ढैय्या शुरू हो जाती है तो किसी राशि से शनि की साढ़ेसाती और ढैय्या का...

धनु, मिथुन और तुला राशि को मिलेनी वाली है शनि की महादशा से मुक्ति, जानें 2050 तक कैसा रहेगा सभी राशियों का हाल
Yogesh Joshiलाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीSun, 04 Jul 2021 05:55 AM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

शनि के राशि परिवर्तन को ज्योतिष में बहुत अधिक महत्वपूर्ण माना जाता है। शनि के राशि परिवर्तन से किसी राशि पर शनि की साढ़ेसाती और ढैय्या शुरू हो जाती है तो किसी राशि से शनि की साढ़ेसाती और ढैय्या का प्रभाव खत्म हो जाता है। शनि ढाई साल में एक बार राशि परिवर्तन करते हैं। अब शनिदेव अप्रैल 2022 में राशि परिवर्तन करेंगे। इस कुंभ, मकर व धनु राशि पर शनि की साढ़ेसाती और मिथुन, तुला राशि पर शनि की ढैय्या चल रही है। शनि के राशि परिवर्तन करने से धनु राशि से शनि की साढ़ेसाती हट जाएगी और मिथुन, तुला राशि के जातकों को शनि की ढैय्या से मुक्ति मिल जाएगी। ज्योतिष मान्यताओं के अनुसार हर व्यक्ति पर जीवन में एक न एक बार शनि की साढ़ेसाती और ढैय्या जरूर लगती है। आइए जानते हैं किस राशि में कब शुरू होगी शनि की साढ़ेसाती और ढैय्या...

  • मेष राशि

साढे़साती - 29 मार्च 2025 से 31 मई 2032 तक

ढैय्या- 13 जुलाई 2034 से 27 अगस्त 2036 तक
   - 12 दिसंबर 2043 से 8 दिसंबर 2046 तक

  • वृषभ राशि

साढे़साती - 3 जून 2027 से 13 जुलाई 2034 तक

ढैय्या- 
27 अगस्त 2036 से 22 अक्टूबर 2038 तक

इन राशियों के लोगों को आता है सबसे अधिक गुस्सा, जानें क्या आप भी हैं इस लिस्ट में शामिल

  • मिथुन राशि

साढ़ेसाती - 8 अगस्त 2029 से 27 अगस्त 2036 तक

ढैय्या-  24 जनवरी 2020 से 29 अप्रैल 2022 तक
          - 22 अक्टूबर 2038 से 29 जनवरी 2041 तक

  • कर्क राशि 

साढ़ेसाती - 31 मई 2032 से 22 अक्टूबर 2038 तक

ढैय्या- 29 अप्रैल 2022 स 29 मार्च 2025 तक
        - 29 जनवरी 2041 से 12 दिसंबर 2043 तक

  • सिंह राशि

साढ़ेसाती - 13 जुलाई 2034 से 29 जनवरी 2041 तक

ढैय्या- 29 मार्च 2025 से 3 जून 2027 तक

       -12 दिसंबर 2043 से 8 दिसंबर 2046 तक

इन लोगों पर कभी नहीं पड़ती है शनि की बुरी नजर, हमेशा रहते हैं शनिदेव मेहरबान

  • कन्या राशि 

साढ़ेसाती - 27 अगस्त 2036 से 12 दिसंबर 2043 तक

ढैय्या- 3 जून 2027 से 8 अगस्त 2029 तक

  • तुला राशि 

साढ़ेसाती - 22 अक्टूबर 2038 से 8 दिसंबर 2046 तक

ढैय्या- 24 जनवरी 2020 से 29 अप्रैल 2022 तक

       - 8  अगस्त 2029 से 31 मई 2033 तक

  • वृश्चिक राशि 

साढे़साती - 28 जनवरी 2041 से 3 दिसंबर 2049

ढैय्या- 29 अप्रैल 2022 से 29 मार्च 2025 तक

   - 31 मई 2032 से 13 जुलाई 2034 तक

Chanakya Niti : इन आदतों की वजह से जीवनभर रहती है गरीबी, आया हुआ धन भी पानी की तरह बह जाता है

धनु राशि 

साढ़ेसाती - 12 दिसंबर 2043 से 3 दिसंबर 2049 तक

ढैय्या- 29 मार्च 2025 से 3 जून 2027 तक

   - 13 जुलाई 2034 से 27 अगस्त 2036 तक

मकर राशि

साढ़ेसाती - 26 जनवरी 2017 से 29 मार्च 2025 तक

ढैय्या- 3 जून 2027 से 8 अगस्त 2029 तक

   - 27 अगस्त 2036 से 22 अक्टूबर 2038 तक

  • कुंभ राशि 

साढ़ेसाती - 24 जनवरी 2020 से 3 जून 2027 तक

ढैय्या- 8 अगस्त 2029 से 31 मई 2032 तक

  - 22 अक्टूबर 2038 से 29 जनवरी 2041 तक

दो मित्र ग्रहों के ही एक राशि में आने से इन राशियों को होगा महालाभ, भाग्योदय होने के संकेत

  • मीन राशि 

साढ़ेसाती - 29 अप्रैल 2022 से 8 अगस्त 2029 तक

ढैय्या - 31 मई 2032 से 13 जुलाई 2034 तक

        - 29 जनवरी 2041 से 12 दिसंबर 2043 तक