ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ धर्म2022 में शनि की महादशा से इन राशि वालों को मिल जाएगी मुक्ति, तरक्की मिलने के साथ बनेंगे बिगड़े काम

2022 में शनि की महादशा से इन राशि वालों को मिल जाएगी मुक्ति, तरक्की मिलने के साथ बनेंगे बिगड़े काम

शनि का ढाई साल बाद 2022 में राशि परिवर्तन होगा। शनि मकर राशि से निकलकर कुंभ राशि में गोचर करेंगे। शनि के कुंभ राशि में प्रवेश करते ही कुछ राशियों को शनि की महादशा से छुटकारा मिल जाएगा। शनि की साढ़े...

2022 में शनि की महादशा से इन राशि वालों को मिल जाएगी मुक्ति, तरक्की मिलने के साथ बनेंगे बिगड़े काम
Saumya Tiwariलाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीThu, 01 Jul 2021 09:21 AM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

शनि का ढाई साल बाद 2022 में राशि परिवर्तन होगा। शनि मकर राशि से निकलकर कुंभ राशि में गोचर करेंगे। शनि के कुंभ राशि में प्रवेश करते ही कुछ राशियों को शनि की महादशा से छुटकारा मिल जाएगा। शनि की साढ़े साती और शनि ढैय्या से मुक्ति मिलने पर इन राशि वालों के बिगड़े काम बन सकते हैं। इसके साथ ही इन्हें करियर में सफलता भी प्राप्त हो सकती है।

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, शनि की महादशा से पीड़ित राशि वालों को कष्टों का सामना करना पड़ता है। शनि की महादशा के दौरान जातक को शारीरिक, आर्थिक और मानसिक परेशानियां आ सकती हैं। इस दौरान किसी भी कार्य में सफलता पाने के लिए ज्यादा मेहनत करनी पड़ती है। कहा जाता है कि शनि की महादशा के दौरान बनते काम भी बिगड़ सकते हैं।

शनि की महादशा से इन राशियों को मिलेगी मुक्ति-

29 अप्रैल 2022 को शनि कुंभ राशि में गोचर करेंगे। शनि राशि परिवर्तन के साथ ही धनु राशि वालों को शनि की साढ़े साती से मु्क्ति मिल जाएगी। जबकि मीन राशि वालों पर शनि की साढ़े साती शुरू होगी। शनि ढैय्या से मिथुन व तुला राशि वालों को मुक्ति मिलेगी। जबकि कर्क व वृश्चिक राशि वालों पर शनि ढैय्या शुरू होगी।

शनि की महादशा के होते हैं तीन चरण-

शनि की महादशा के तीन चरण होते हैं। पहले चरण में शनि की साढ़े साती और शनि ढैय्या से पीड़ित राशि वालों को शारीरिक, मानसिक कष्टों और दूसरे चरण में आर्थिक कष्टों का सामना करना पड़ सकता है। तीसरे चरण में शनि बाकी दोनों चरणों के नुकसान की भरपाई करते हैं।

शनि की साढ़ेसाती कब लगती है?

जब शनि राशि परिवर्तन करते हैं तब तीन राशियों पर शनि की साढ़ेसाती और दो राशियों पर शनि की ढैय्या लग जाती है। शनि जिस राशि में राशि परिवर्तन करते हैं उस पर और उससे एक राशि आगे और एक राशि पीछे पर शनि की साढ़ेसाती शुरू हो जाती है। 

शनि की ढैय्या कब लगती है?

शनि ढाई साल में एक बार राशि परिवर्तन करते हैं। शनि के राशि परिवर्तन के समय शनि जिस राशि से चौथे या आठवें भाव में होते हैं, तब उस राशि पर शनि की ढैय्या शुरू हो जाती है। 

इस आलेख में दी गई जानकारियों पर हम यह दावा नहीं करते कि ये पूर्णतया सत्य एवं सटीक हैं। इन्हें अपनाने से पहले संबंधित क्षेत्र के विशेषज्ञ की सलाह जरूर लें।  

 

epaper