DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   धर्म  ›  शनि राशि परिवर्तन: 2022 में शनि दो बार बदलेंगे राशि, कर्क व कुंभ समेत इन 5 राशियों पर पड़ेगा अशुभ प्रभाव

पंचांग-पुराणशनि राशि परिवर्तन: 2022 में शनि दो बार बदलेंगे राशि, कर्क व कुंभ समेत इन 5 राशियों पर पड़ेगा अशुभ प्रभाव

लाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीPublished By: Saumya Tiwari
Tue, 01 Jun 2021 11:13 AM
शनि राशि परिवर्तन: 2022 में शनि दो बार बदलेंगे राशि, कर्क व कुंभ समेत इन 5 राशियों पर पड़ेगा अशुभ प्रभाव

नौ ग्रहों में शनि ग्रह का विशेष महत्व है। शनि देव को ज्योतिष शास्त्र में कर्म फलदाता माना जाता है। यानी शनिदेव व्यक्ति को उसके कर्मों के हिसाब से फल देते हैं। अच्छे कार्य करने वालों को शुभ और बुरे कार्यों को करने वालों पर अशुभ प्रभाव डालते हैं। शनिदेव के राशि परिवर्तन से भी कुछ राशियों पर अशुभ प्रभाव पड़ता है। शनि राशि परिवर्तन के साथ ही कुछ राशियों पर शनि की साढ़े साती और कुछ राशियों पर शनि ढैय्या शुरू हो जाती है।

साल 2022 में शनि बदलेंगे दो बार राशि-

शनि हर ढाई साल में एक राशि से दूसरी राशि में गोचर करते हैं। 29 अप्रैल 2022 को शनि अपनी स्वराशि मकर से निकलकर कुंभ राशि में प्रवेश करेंगे। इसके बाद 12 जुलाई 2022 को शनि वक्री होकर अपनी राशि मकर में गोचर करेंगे। यह शनि का राशि परिवर्तन नहीं बल्कि शनि का वक्री यानी उल्टी चाल चलना कहा जाता है। शनि के वक्री होने की अवस्था पर शनि की साढ़े साती और शनि ढैय्या से पीड़ित राशियों को मुक्ति मिल जाएगी। हालांकि यह स्थिति कुछ समय के लिए ही रहेगी। फिर शनि 17 जनवरी 2023 को मार्गी होकर कुंभ राशि में गोचर कर जाएंगे।

10 जून को आसमान में दिखेगा 'रिंग ऑफ फायर' का अद्भुत नजारा, जानें कब और कहां दिखेगा

शनि राशि परिवर्तन का किन राशियों पर पड़ेगा असर-

शनि राशि परिवर्तन से कुंभ, मकर और मीन राशि वालों पर असर पड़ेगा। वर्तमान में कुंभ, मकर और धनु राशि वालों पर शनि की साढ़े साती चल रही है। 29 अप्रैल 2022 को शनि के कुंभ राशि में गोचर करने से धनु राशि वालों को शनि की साढ़े साती से मुक्ति मिल जाएगी और इसकी चपेट में मीन राशि के जातक आ जाएंगे।

जून में सूर्य और शुक्र समेत ये बड़े ग्रह करेंगे राशि परिवर्तन, इन 5 राशि वालों की चमकेगी किस्मत

वर्तमान में तुला और मिथुन राशि वालों पर शनि ढैय्या चल रही है। शनि के राशि परिवर्तन करने से कर्क और वृश्चिक राशि वालों पर शनि ढैय्या शुरू होगी। इस तरह से शनि के एक राशि से दूसरे राशि में गोचर करने से कुंभ, मीन, मकर, कर्क व वृश्चिक राशि वालों पर असर पड़ेगा।

संबंधित खबरें