shani pradosh vrat date importance and puja vidhi - Shani Pradosh Vrat 2019: इस बार खास है ये व्रत, जानें महत्व और पूजा विधि DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

Shani Pradosh Vrat 2019: इस बार खास है ये व्रत, जानें महत्व और पूजा विधि

भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए किए जाने वाले समस्त व्रतों में प्रदोष व्रत अपेक्षाकृत जल्दी शुभ फल प्रदान करने वाला कहा गया है। इस दिन भगवान शिव एवं माता पार्वती की पूजा की जाती है। प्रत्येक महीने में दो प्रदोष व्रत (शुक्ल पक्ष एवं कृष्ण पक्ष) होते हैं। शनिवार को आने वाले प्रदोष व्रत को शनि प्रदोषम कहा जाता है जो कि 2 फरवरी को है। 

जानें महत्व

शास्त्रों के अनुसार प्रदोष व्रत करने से व्यक्ति के जीवन के सारे कष्ट दूर हो जाते हैं। इस व्रत को करने से भगवान शिव की कृपा सदैव आप पर बनी रहती है।

शनि प्रदोष व्रत विधि 

शनि प्रदोष व्रत के दिन व्रती को प्रात:काल उठकर नित्य क्रम से निवृत हो स्नान कर शिव जी का पूजन करना चाहिये। पूरे दिन मन ही मन “ऊँ नम: शिवाय ” का जप करें। पूरे दिन निराहार रहें। त्रयोदशी के दिन प्रदोष काल में यानी सुर्यास्त से तीन घड़ी पूर्व, शिव जी का पूजन करना चाहिये। शनि प्रदोष व्रत की पूजा शाम 4:30 बजे से लेकर शाम 7:00 बजे के बीच की जाती है।

ये जानकारियां धार्मिक आस्थाओं और लौकिक मान्यताओं पर आधारित हैं, जिसे मात्र सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर प्रस्तुत किया गया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:shani pradosh vrat date importance and puja vidhi