ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ धर्मShani Margi 2022: शनि अगले महीने होने जा रहे मार्गी, इन 5 राशि वालों के जीवन में आएंगी खुशियां

Shani Margi 2022: शनि अगले महीने होने जा रहे मार्गी, इन 5 राशि वालों के जीवन में आएंगी खुशियां

Shani Margi 2022: अक्टूबर महीने में शनि ग्रह की स्थिति में बदलाव होने वाला है। शनि ग्रह की स्थिति में बदलाव होने से कुछ राशि वालों के जीवन में खुशियां आ सकती हैं। जानें क्या आपकी राशि भीहै शामिल-

Shani Margi 2022: शनि अगले महीने होने जा रहे मार्गी, इन 5 राशि वालों के जीवन में आएंगी खुशियां
Saumya Tiwariलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीWed, 28 Sep 2022 11:18 AM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

Shani Margi 2022: वैदिक ज्योतिष शास्त्र में शनि ग्रह को न्याय का देवता कहा गया है। शनिदेव जातक को उसके कर्मों के हिसाब से फल देते हैं। कहा जाता है कि अच्छे कर्म करने वालों को शनिदेव शुभ फल व गलत कार्यों में लिप्त लोगों को दंडित करते हैं। वर्तमान में शनिदेव मकर राशि में वक्री अवस्था में विराजमान हैं। शनि की वक्री अवस्था का अर्थ उल्टी चाल से है। शनि वक्री अवस्था में शनि की साढ़ेसाती व शनि ढैय्या से पीड़ित राशियों के लिए कष्टकारी माने गए हैं। 

इसे भी पढ़ें: मां दुर्गा को अतिप्रिय हैं ये 3 राशियां, कहीं इसमें आपकी राशि भी तो नहीं

शनि कब होंगे मार्गी?

शनि 23 अक्टूबर 2022 को मार्गी होंगे। इस दिन धनतेरस भी है। शनि के मार्गी होने से शनि की महादशा से पीड़ित राशियों पर शनि का अशुभ प्रभाव कम हो जाएगा।

इन राशियों को मिलेगी राहत-

वर्तमान में शनि के मकर राशि में होने से धनु, कुंभ  मकर राशि वालों पर शनि की साढ़ेसाती चल रही है। वहीं मिथुन व तुला राशि वालों पर शनि ढैय्या का प्रभाव है। वक्री अवस्था में शनि ज्यादा कष्टकारी साबित होते हैं। इस दौरान साढ़ेसाती व ढैय्या से पीड़ित राशियों को आर्थिक, शारीरिक व मानसिक परेशानियों का सामना करना पड़ता है। लेकिन शनि के मार्गी होने पर इन राशियों को राहत मिल सकती है।

इसे भी पढ़ें: कुंभ राशि वालों पर चल रहा शनि साढ़ेसाती का सबसे कष्टकारी चरण, जानें कब मिलेगी मुक्ति

शनि के अशुभ प्रभाव से बचाव के उपाय-

1. प्रतिदिन शनि चालीसा का पाठ करें।
2. शनिवार के दिन काले तिल, उड़द व काले वस्त्रों का दान करें।
3. शनिवार को पीपल के पेड़ के समक्ष सरसों के तेल का दीपर जलाएं।
4. हनुमान जी की अराधना करें।
5. शनिवार को मंदिर जाकर शनिदेव के दर्शन करें।

इस आलेख में दी गई जानकारियों पर हम यह दावा नहीं करते कि ये पूर्णतया सत्य एवं सटीक हैं। इन्हें अपनाने से पहले संबंधित क्षेत्र के विशेषज्ञ की सलाह जरूर लें। 

epaper