DA Image
हिंदी न्यूज़ › धर्म › सावन का पहला सोमवार: आज बना रहा ये विशेष संयोग, इन मुहूर्त में भूलकर भी न करें भोलेनाथ की पूजा
पंचांग-पुराण

सावन का पहला सोमवार: आज बना रहा ये विशेष संयोग, इन मुहूर्त में भूलकर भी न करें भोलेनाथ की पूजा

लाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीPublished By: Saumya Tiwari
Mon, 26 Jul 2021 06:24 AM
सावन का पहला सोमवार: आज बना रहा ये विशेष संयोग, इन मुहूर्त में भूलकर भी न करें भोलेनाथ की पूजा

सावन का पहला सोमवार आज यानी 26 जुलाई को है। हिंदू पंचांग के अनुसार, श्रावण कृष्ण पक्ष तृतीया और सावन का पहला सोमवार है। हिंदू धर्म में सावन मास के साथ ही इसके सोमवार का भी विशेष महत्व होता है। इस दिन भगवान शिव की विधि-विधान से पूजा की जाती है। श्रावण मास का पहला सोमवार कुंवारी लड़कियों के लिए भी लाभकारी होता है। कहा जाता है कि इस व्रत के प्रभाव से अच्छे और सुयोग्य वर की प्राप्ति होती है।

सावन का महीना भगवान शिव को अत्यंत प्रिय है। सोमवार का दिन भोलेनाथ को समर्पित होता है। ऐसे में श्रावण मास के दौरान पड़ने वाले सोमवार को शिव भक्त भोलेनाथ की कृपा पाने के लिए व्रत आदि भी रखते हैं। जानिए सावन के पहले सोमवार के दिन बनने वाले विशेष संयोग और पूजा मुहूर्त-

 सावन का पहला सोमवार आज, अपनों को भेजें शिवभक्ति से भरें ये खास संदेश

सावन के पहले सोमवार का शुभ मुहूर्त-

सावन के पहला सोमवार को सुबह 10 बजकर 40 मिनट तक सौभाग्य योग रहेगा। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, यह योग अपने नाम के अनुरुप भाग्य और वैवाहिक सुख को बढ़ाने वाला है। इसके अलावा सुबह 10 बजकर 26 मिनट तक धनिष्ठा योग रहेगा। उसके बाद शतभिषा योग लग जाएगा।

सावन माह पूजा- विधि

सुबह जल्दी उठ जाएं और स्नान आदि से निवृत्त होने के बाद साफ वस्त्र धारण करें।
घर के मंदिर में दीप प्रज्वलित करें।
सभी देवी- देवताओं का गंगा जल से अभिषेक करें।
शिवलिंग में गंगा जल और दूध चढ़ाएं।
भगवान शिव को पुष्प अर्पित करें।
भगवान शिव को बेल पत्र अर्पित करें।
भगवान शिव की आरती करें और भोग भी लगाएं। इस बात का ध्यान रखें कि भगवान को सिर्फ सात्विक चीजों का भोग लगाया जाता है। 
भगवान शिव का अधिक से अधिक ध्यान करें।

राशिफल 26 जुलाई: गुरु और चंद्रमा का कुंभ राशि में गोचर, जानें कैसा रहेगा सावन का पहला सोमवार

आज के अशुभ मुहूर्त-

राहुकाल- सुबह 07 बजकर 30 मिनट से 9 बजे तक। 
यमगंड- सुबह 10 बजकर 30 मिनट से 12 बजे तक।
दोपहर- 01 बजकर 30 मिनट से 03 बजे तक गुलिक काल। 
दुर्मुहूर्त काल- दोपहर 12 बजकर 55 मिनट से 01बजकर 49 मिनट तक। इसके बाद 03 बजकर 38 म‍िनट से 04 बजकर 32 म‍िनट तक। 
पंचक- पूरा द‍िन। 
भद्रा- दोपहर 03 बजकर 24 म‍िनट से 27 जुलाई सुबह 02 बजकर 54 म‍िनट तक।

संबंधित खबरें