DA Image
हिंदी न्यूज़ › धर्म › Sawan Somwar : आज है सावन का दूसरा सोमवार, नोट कर लें पूजा का शुभ समय और पूजा- विधि
पंचांग-पुराण

Sawan Somwar : आज है सावन का दूसरा सोमवार, नोट कर लें पूजा का शुभ समय और पूजा- विधि

लाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीPublished By: Yogesh Joshi
Mon, 02 Aug 2021 05:26 AM
Sawan Somwar : आज है सावन का दूसरा सोमवार, नोट कर लें पूजा का शुभ समय और पूजा- विधि

सावन के सोमवार का विशेष महत्व होता है। आज सावन का दूसरा सोमवार है। सावन का माह भगवान शंकर को समर्पित होता है। इस माह में भगवान शंकर की विशेष पूजा- अर्चना की जाती है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार सावन के महीने में भगवान शंकर का वास पृथ्वी लोक में ही होता है। सावन में भगवान शंकर की पूजा- अर्चना करने से सभी मनोकामनाएं पूरी हो जाती है। आइए जानते हैं सावन के दूसरे सोमवार की पूजा- विधि और शुभ मुहूर्त....

पूजा- विधि

  • सुबह जल्दी उठ जाएं और स्नान आदि से निवृत्त होने के बाद साफ वस्त्र धारण करें।
  • घर के मंदिर में दीप प्रज्वलित करें।
  • सभी देवी- देवताओं का गंगा जल से अभिषेक करें।
  • शिवलिंग में गंगा जल और दूध चढ़ाएं।
  • भगवान शिव को पुष्प अर्पित करें।
  • भगवान शिव को बेल पत्र अर्पित करें।
  • भगवान शिव की आरती करें और भोग भी लगाएं। इस बात का ध्यान रखें कि भगवान को सिर्फ सात्विक चीजों का भोग लगाया जाता है। 
  • भगवान शिव का अधिक से अधिक ध्यान करें।

अगस्त के महीने में सूर्य की तरह चमकेगा इन राशियों का भाग्य, देखें क्या आप भी हैं इस लिस्ट में शामिल

सावन में पड़ने वाले सोमवार

  • तीसरा सोमवार-  09 अगस्त    
  • चौथा सोमवार- 16 अगस्त 

भगवान शिव की पूजा में प्रयोग होने वाली सामग्री-

  • पुष्प, पंच फल पंच मेवा, रत्न, सोना, चांदी, दक्षिणा, पूजा के बर्तन, कुशासन, दही, शुद्ध देशी घी, शहद, गंगा जल, पवित्र जल, पंच रस, इत्र, गंध रोली, मौली जनेऊ, पंच मिष्ठान्न, बिल्वपत्र, धतूरा, भांग, बेर, आम्र मंजरी, जौ की बालें,तुलसी दल, मंदार पुष्प, गाय का कच्चा दूध, ईख का रस, कपूर, धूप, दीप, रूई, मलयागिरी, चंदन, शिव व मां पार्वती की श्रृंगार की सामग्री आदि।

सच्चे दोस्त साबित होते हैं ये राशि वाले, हमेशा रहते हैं मदद के लिए तैयार

शुभ मुहूर्त

  • ब्रह्म मुहूर्त- 04:19 ए एम से 05:01 ए एम
  • अभिजित मुहूर्त- 12:00 पी एम से 12:54 पी एम
  • विजय मुहूर्त- 02:42 पी एम से 03:36 पी एम
  • गोधूलि मुहूर्त- 06:58 पी एम से 07:22 पी एम
  • अमृत काल- 08:01 पी एम से 09:49 पी एम

संबंधित खबरें