Savan month chanting of 108 names of Lord Shiva Shiv Shankar - सावन में भोलेनाथ के इन 108 नामों का करें जाप, पूरी होगी हर मनोकामना DA Image
8 दिसंबर, 2019|8:40|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

सावन में भोलेनाथ के इन 108 नामों का करें जाप, पूरी होगी हर मनोकामना

bhagwan shiv

हिन्दू धर्म में भगवान शिव को सबसे ऊंचा दर्जा दिया गया है। हालांकि कई लोग अपने ईष्ट देव को सर्वोपरी मानते हैं। अगर भोले नाथ की बात करें तो वो सब पर अपनी कृपा बरसाते हैं। उन्हें प्रसन्न करना बहुत आसान है। उनका ध्यान कभी भी किया जा सकता है। लेकिन ऐसा माना जाता है कि सावन के महीने में महादेव की पूजा-अर्चना का अधिक फल मिलता है। उमापति शंकर को सावन का महीना बहुत प्रिय है। यही वजह है कि उनके भक्त इस मास में कावड़ यात्रा पर निकलते हैं।

सावन के महीने में भोलेनाथ की पूजा-अर्चना का विशेष ध्यान रखा जाता है। इस दौरान महामृत्युंजय मंत्र के जाप को भी महत्वपूर्ण माना गया है। इसके साथ ही एक अहम बात यह है कि उनके नामों का जाप करने का भी फल मिलते है। भोले के कई नाम हैं। मगर भक्तगण यदि उनके 108 नामों का जाप करते हैं तो उनकी मनोकामना पूरी होती है।  

Read Also : Guru purnima 2019: गुरु पूर्णिमा पर महायोग, धनु-मकर राशि वाले बरतें संयम

सावन के महीने में शंकर भगवान के इन 108 नामों का करें जाप...

हर-हर महादेव, रुद्र, शिव, अंगीरागुरु, अंतक, अंडधर, अंबरीश, अकंप, अक्षतवीर्य, अक्षमाली, अघोर, अचलेश्वर, अजातारि, अज्ञेय, अतीन्द्रिय, अत्रि, अनघ, अनिरुद्ध, अनेकलोचन, अपानिधि, अभिराम, अभीरु, अभदन, अमृतेश्वर, अमोघ, अरिंदम, अरिष्टनेमि, अर्धेश्वर, अर्धनारीश्वर, अर्हत, अष्टमूर्ति, अस्थिमाली, आत्रेय, आशुतोष, इंदुभूषण, इंदुशेखर, इकंग, ईशान, उन्मत्तवेष, उमाकांत, उमानाथ, उमेश, उमापति, उरगभूषण, ऊर्ध्वरेता, ऋतुध्वज, एकनयन, एकपाद, एकलिंग, एकाक्ष, कपालपाणि, कमंडलुधर, कलाधर, कल्पवृक्ष, कामरिपु, कामारि, कामेश्वर, कालकंठ, कालभैरव  

Read Also : सावन में महामृत्युंजय मंत्र का जाप करने पर मिलता है 10 गुना अधिक फल, जानें क्या है इसके फायदे

काशीनाथ, कृत्तिवासा, केदारनाथ, कैलाशनाथ, क्रतुध्वसी, क्षमाचार, गंगाधर, गणनाथ, गरलधर, गिरिजापति, गिरीश, गोनर्द, चंद्रेश्वर, चंद्रमौलि, चीरवासा, जगदीश, जटाधर, जटाशंकर, जमदग्नि, ज्योतिर्मय, तरस्वी, तारकेश्वर, तीव्रानंद, त्रिचक्षु, त्रिधामा, त्रिपुरारि, त्रियंबक, त्रिलोकेश, त्र्यंबक, दक्षारि, नंदिकेश्वर, नंदीश्वर, नटराज, नटेश्वर, नागभूषण, निरंजन, नीलकंठ, नीरज, परमेश्वर, पूर्णेश्वर, पिनाकपाणि, पिंगलाक्ष, पुरंदर, पशुपतिनाथ, प्रथमेश्वर, प्रभाकर, प्रलयंकर, भोलेनाथ, बैजनाथ।

इस आलेख में दी गई जानकारियों पर हम यह दावा नहीं करते कि ये पूर्णतया सत्य व सटीक हैं। तथा इन्हें अपनाने से अपेक्षित परिणाम मिलेगा। ये मान्यताओं  पर आधारित हैं। इन्हें अपनाने से पहले संबंधित क्षेत्र के विशेषज्ञ की सलाह जरूर लें।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Savan month chanting of 108 names of Lord Shiva Shiv Shankar