DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

Savan 2019: सावन के पहले सोमवार पर नागपंचमी का त्योहार, पढ़ें पूजन विधि

भोलेनाथ के प्रिय सावन के महीने की शुक्ल पक्ष की पंचमी को मनाया जाता है नाग पंचमी का त्योहार। नागपंचमी और सोमवार दोनों ही दिन भगवान शिव की आराधना के लिए श्रेष्ठ होता है। इस बार सावन का सोमवार नागपंचमी के दिन शुरू हो रहा है जो अपने आप में अद्भूद संयोग है।

माना जाता है सावन के महीने में नाग की पूजा करने, नाग पंचमी के दिन दूध पिलाने से नाग देवता प्रसन्न होते हैं। यह भी मान्यता है कि नाग की पूजा करने से नागदंश का भय नहीं रहता है।

Sawan 2019 : यहां वर्षा की बूंदों से स्वत: हो जाता है महादेव का जलाभिषेक

कई वर्षों के बाद 15 अगस्त और रक्षाबंधन श्रवण नक्षत्र के संयोग में मनाया जाएगा। एक अगस्त को पहला सिद्धि योग, दूसरा शुभ योग, तीसरा गुरु पुष्यामृत योग, चौथा सर्वार्थ सिद्धि योग और पांचवां अमृत सिद्धि योग का संयोग है। 

Sawan 2019: जानें कहां है शिव की सादगी और दिव्य स्वरूप का वर्णन

नागपंचमी के दिन सुबह सबसे पहले नहा धोकर प्रसाद के लिए सेवई और चावल बना लें। इसके बाद एक लकड़ी के तख्त पर नया कपड़ा बिछाकर उस पर नागदेवता की मूर्ति या तस्वीर रख दें। फिर जल, सुगंधित फूल, चंदन से अर्ध्य दें। नाग प्रतिमा का दूध, दही, घृ्त, मधु ओर शर्कर का पंचामृ्त बनाकर स्नान कराएं। प्रतिमा पर चंदन, गंध से युक्त जल अर्पित करें। नए वस्त्र, सौभाग्य सूत्र, चंदन, हरिद्रा, चूर्ण, कुमकुम, सिंदूर, बेलपत्र, आभूषण और पुष्प माला, सौभाग्य द्र्व्य, धूप दीप, नैवेद्ध, ऋतु फल, तांबूल चढ़ाएं और आरती करें।

इस आलेख में दी गई जानकारियां धार्मिक आस्थाओं और लौकिक मान्यताओं पर आधारित हैं, जिसे मात्र सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर प्रस्तुत किया गया है

 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Savan 2019: The festival of Nagpanchami on the first Monday of Savan Read Pooja vidhi
Astro Buddy