Hindi Newsधर्म न्यूज़Sankashti Chaturthi 2023 : date and time of Sankashti Chaturthin 2023 and Poojavidhi aur mantras

Sankashti Chaturthi 2023: संकष्टी चतुर्थी आज, जानें शुभ मुहूर्त, पूजाविधि और मंत्र

Sankashti Chaturthi 2023 Date: कल करवा चौथ के साथ संकष्टी चतुर्थी भी मनाई जाएगी। यह दिन गणेशजी को समर्पित है। संकष्टी चतुर्थी के दिन गणेश जी की पूजा-अर्चना से भक्तों की सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं।

moon rise time today 10th jan sakat chauth chand nikalne ka time
Arti Tripathi लाइव हिन्दुस्तान, नई दिल्लीWed, 1 Nov 2023 03:27 PM
हमें फॉलो करें

Sankashti Chaturthi 2023: इस साल 1 नवंबर 2023 को करवा चौथ के दिन संकष्टी चतुर्थी व्रत भी रखा जाएगा। संकष्टी चतुर्थी का व्रत गणेश जी को समर्पित है। इस दिन गणेश जी की पूजा-उपासना का बड़ा महत्व है। धार्मिक मान्यता है कि संकष्टी चतुर्थी के दिन गणेश जी की पूजा करने और व्रत रखने से साधक के जीवन के सभी कष्ट दूर होते हैं और जीवन में सुख-समृद्धि और खुशहाली आती हैं। इस साल करवा चौथ व्रत के दिन सर्वार्थ सिद्धि और शिव योग का संयोग भी बन रहा है। शास्त्रों के अनुसार, इस शुभ संयोग में पूजा-अर्चना और व्रत रखने से साधक को दोगुना फल मिलता है। ऐसे में आइए संकष्टी चतुर्थी का शुभ मुहूर्त, पूजाविधि और मंत्र जानते हैं।

संकष्टी चतुर्थी का शुभ मुहूर्त: इस साल कार्तिक माह की चतुर्थी तिथि का आरंभ  31 अक्टूबर 2023 को रात 9:30 पीएम पर होगा और 1 नवंबर 2023 को 9:19 पीएम पर समाप्त होगा।

गणेशजी की पूजाविधि:

संकष्टी चतुर्थी के दिन सुबह सूर्योदय से पहले उठें। 
मंदिर की साफ-सफाई करें। गणेश जी की प्रतिमा के सामने दीपक जलाएं।
गणेश जी को फल, फूल, दूर्वा, मोदक, पान, सुपारी और धूप-दीप नैवेद्य अर्पित करें।
इसके बाद गणेश जी की विधि-विधान से पूजा करें और मंत्रों का जाप करें।
अंत में गणेश जी के साथ सभी देवी-देवताओं की आरती उतारें।
घर के सदस्यों को प्रसाद वितरित करें और स्वंय भी खाएं।
इसके साथ ही सुख-समृद्धि की कामना करते हुए पूजा समाप्त करें।

इन मंत्रों का करें जाप: धार्मिक मान्यता है कि भगवान गणेश के मंत्रों का जाप करने से जीवन के सभी संकट दूर होते हैं। घर में सुख-समृद्धि आती है और सफलता में आ रही बाधाएं दूर होती हैं। इसलिए गणेशजी की पूजा के दौरान उनके मंत्रों का जाप जरूर करें।

'ऊँ गं गणपतये सर्व कार्य सिद्धि कुरु कुरु स्वाहा'

'ऊँ ह्रीं ग्रीं ह्रीं'

'ऊँ गं गणपतये नमः'

डिस्क्लेमर: इस आलेख में दी गई जानकारियों पर हम दावा नहीं करते कि ये पूर्णतया सत्य है और सटीक है। इन्हें अपनाने से पहले संबंधित क्षेत्र के विशेषज्ञ की सलाह जरूर लें।

ऐप पर पढ़ें