ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News AstrologySakat Chauth live updates Moonrise time today aaj chand kab niklega tilkuta chauth vrat katha chand time up rajasthan

Moonrise Time , chand kab niklega : दिखाई दिया चांद, महिलाओं ने चंद्रदर्शन कर तोड़ा सकट चौथ का व्रत

Sakat Chauth LIVE updates: चांद का दीदार हो गया है। महिलाओं ने चंद्रदर्शन कर सकट चौथ का व्रत खोला। चंद्रमा दर्शन को सकट चौथ व्रत में अनिवार्य माना जाता है। महिलाओं ने अर्घ्य देकर व्रत का पारण किया।

Moonrise Time , chand kab niklega : दिखाई दिया चांद, महिलाओं ने चंद्रदर्शन कर तोड़ा सकट चौथ का व्रत
Pankaj Vijayलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीMon, 29 Jan 2024 10:17 PM
ऐप पर पढ़ें

Aaj Chand kab niklega , Moonrise Time , Sakat Chauth Vrat LIVE updates : सकट चौथ के चांद का इंतजार खत्म हुआ। संतान की प्राप्ति और उसकी लंबी आयु के लिए सकट चौथ का व्रत रखने वाली महिलाओं ने चंद्र दर्शन किए। दर्शन के बाद चंद्रदेव को अर्घ्य दिया और व्रत तोड़ा। इस व्रत को तिलकुटा चौथ, संकष्टी चतुर्थी, वक्रतुण्डी चतुर्थी और माही चौथ भी कहा जाता है। महिलाओं ने दिन में भगवान श्रीगणेश की पूजा अर्चना की। कहानी सुनी। सकट चौथ के व्रत का पारण करने के बाद भी आज केवल सात्विक भोजन या फलाहार ही ग्रहण करना चाहिए और तामसिक भोजन से परहेज करें। इस व्रत को चंद्रमा को अर्घ्य देने के बाद ही पूर्ण माना जाता है। 

Sakat Chauth LIVE updates: सकट चौथ व्रत लाइव अपडेट 

09:20 PM - उत्तराखंड में दिखाई दिया चांद। ऊपर तस्वीर में आप हल्द्वानी की फोटो देख सकते हैं। राजस्थान की अधिकांश जगहों पर चांद दिख गया है।

09:12 PM - यूपी और राजस्थान में चांद का दीदार होने वाला है। 

05:40 PM - मध्य प्रदेश में चांद निकलने का समय
भोपाल में चांद रात 9:12 बजे निकलेगा।
इंदौर- रात 9:18 बजे
ग्वालियर- रात 9:07 बजे
उज्जैन- रात 9:18 बजे
जबलपुर- रात 9:01 बजे  
सागर- रात 9:06 बजे
रतलाम - रात 9:21 बजे
छत्तरपुर- रात 9:18 बजे
भिंड- रात 9:02 बजे

05:30 PM - बिहार में चांद निकलने का समय
पटना - रात 8:39 बजे
गया -  रात 8:40 बजे
बेगूसराय -  रात 8:35 बजे
दरभंगा - रात 8:35 बजे
मुजफ्फरपुर - रात 8:37 बजे
भागलपुर - रात 8:31 बजे
कटिहार - रात 8:29 बजे
पूर्णिया - रात 8:29 बजे
जुमई - रात 8:34 बजे
नालंदा - रात 8:38 बजे
खगड़िया - रात 8:33 बजे
किशनगंज- रात 8:31 बजे

04:51 PM - यूपी में चांद दिखने का समय ( Moon Rise Time In UP Today )
चांद कब निकलेगा-

नोएडा में चांद 9  बजकर 9 मिनट पर निकलेगा।
गाजियाबाद में चांद 9 बजकर 9 मिनट पर नजर आएगा।
लखनऊ: रात 08 बजकर 55 मिनट पर
कानपुर: रात 08 बजकर 58 मिनट पर
प्रयागराज: रात 08 बजकर 52 मिनट पर
मेरठ- रात 9.08 बजे
वाराणसी      रात 08.48
आगरा      रात 09.07

अलीगढ़- रात 9.07 बजे
मथुरा- रात 9.10 बजे
झांसी : रात 9 बजकर 07 मिनट पर
बरेली : 09 बजकर 01 मिनट पर
गोरखपुर : 08 बजकर 53 मिनट पर

04:36 PM : Aaj Chand kab niklega : राजस्थान के तमाम जिलों में किस समय चांद निकलेगा 
जयपुर में चांद निकलने का समय- 21:17
जोधपुर में चांद निकलने का समय- 21:28
बीकानेर में चांद निकलने का समय- 21:26
अजमेर में चांद निकलने का समय- 21:22
जैसलमेर में चांद निकलने का समय- 21:37
अलवर में चांद निकलने का समय- 21:13
-  कोटा में चांद निकलने का समय- 21:17 बजे
- जैसलमेर में चांद निकलने का समय- 21:37 बजे
- उदयपुर में चांद निकलने का समय- 21:26 बजे
- सीकर में चांद निकलने का समय- 21:19 बजे
- करौली में चांद निकलने का समय- 21:12 बजे
- धौलपुर में चांद निकलने का समय-  21:08 बजे

- हनुमानगढ़ में चांद निकलने का समय- 21:23 बजे
- चित्तौड़गढ़ में चांद निकलने का समय- 21:21 बजे
- चुरू में चांद निकलने का समय- 21:18 बजे
- बांसवाड़ा में चांद निकलने का समय- 21:24 बजे
- नागौर में चांद निकलने का समय- 21:25  बजे
- दौसा में चांद निकलने का समय- 21:15  बजे
- टोंक में चांद निकलने का समय- 21:17 बजे
- सवाईमाधोपुर में चांद निकलने का समय- 21:15  बजे 
- पाली में चांद निकलने का समय- 21:33  बजे 
- राजसमंद में चांद निकलने का समय- 21:25  बजे 

04:09 PM : Moonrise Time Today : आज चांद निकलने का समय
चंडीगढ़- रात 21:12 बजे
लुधियाना-  रात 21:14 बजे
शिमला- रात 21:09 बजे
जम्मू- रात 21:18 बजे
अहमदाबाद- रात 20:54 बजे

04:01 PM : दिल्ली एनसीआर में आज चांद कब निकलेगा ( Aaj chand kab niklega, Karwa Chauth 2024 Moon Time )
दिल्ली- रात 9:10 बजे
गुरुग्राम- रात 9:11 बजे
गाजियाबाद- रात 9:09 बजे
नोएडा- रात 9:10 बजे

02:38 PM :  चंद्रमा को अर्घ्य देते समय इन बातों का जरूर रखें
- अर्घ्य देते समय इस बात का ध्यान रखें कि अर्घ्य के दौरान आपके पैरों में जल के छींटे न पड़ें।
- भगवान गणेश की पूजा में कभी भी तुलसी की पत्ती शामिल नहीं करनी चाहिए। भगवान श्रीगणेश को दूर्वा अतिप्रिय है। इसलिए सकट चौथ पूजन में दूर्वा घास जरूर शामिल करें।

01:52 PM: विभिन्न राज्यों में चांद निकलने का समय
नई दिल्ली- 9 बजकर 10 मिनट पर
यूपी- 8 बजकर 56 मिनट पर
बिहार- 8 बजकर 39 मिनट पर
राजस्थान- 9 बजकर 17 मिनट पर
उत्तराखंड- 9 बजकर 6 मिनट पर
मध्यप्रदेश- 9 बजकर 19 मिनट पर
हरियाणा- 9 बजकर 11 मिनट पर
पंजाब- 9 बजकर 11 मिनट पर।

01:41 PM - गणेश जी की आरती
जय गणेश, जय गणेश, जय गणेश देवा।
माता जाकी पार्वती, पिता महादेवा।।

एकदंत, दयावन्त, चार भुजाधारी,
माथे सिन्दूर सोहे, मूस की सवारी। 
पान चढ़े, फूल चढ़े और चढ़े मेवा,
लड्डुअन का भोग लगे, सन्त करें सेवा।। ..
जय गणेश, जय गणेश, जय गणेश, देवा।
माता जाकी पार्वती, पिता महादेवा।।

अंधन को आंख देत, कोढ़िन को काया,
बांझन को पुत्र देत, निर्धन को माया। 
'सूर' श्याम शरण आए, सफल कीजे सेवा।। 
जय गणेश जय गणेश जय गणेश देवा .. 
माता जाकी पार्वती, पिता महादेवा। 

दीनन की लाज रखो, शंभु सुतकारी। 
कामना को पूर्ण करो जय बलिहारी।

10:58 AM : यूपी में चांद दिखने का समय ( Moon Rise Time In UP Today )
चांद कब निकलेगा-
नोएडा में चांद 9  बजकर 9 मिनट पर निकलेगा।
गाजियाबाद में चांद 9 बजकर 9 मिनट पर नजर आएगा।
लखनऊ: रात 08 बजकर 55 मिनट पर
कानपुर: रात 08 बजकर 58 मिनट पर
प्रयागराज: रात 08 बजकर 52 मिनट पर
मेरठ- रात 8.08 बजे
वाराणसी      रात 08.48
आगरा      रात 09.07

10:47 AM : क्या है चंद्रमा को अर्घ्य देने का मंत्र
गगनार्णवमाणिक्य चन्द्र दाक्षायणीपते।
गृहाणार्घ्यं मया दत्तं गणेशप्रतिरूपक॥

10:47 AM : देश के मुख्य शहरों में चांद निकलने का समय
दिल्ली    रात 09.10
मुंबई    रात 09.32
जयपुर    रात 09.17
आगरा    रात 09.07
लखनऊ    रात 08.56
भोपाल    रात 09.12
रांची    रात 08.39
पटना    रात 08.39
नागपुर    रात 09.06
वाराणसी    रात 08.48
बेंगलुरू    रात 09..15
चंडीगढ़    रात 09.11
 

10:36 AM : यहां देखें राजस्थान के तमाम जिलों में किस समय चांद निकलेगा
जयपुर में चांद निकलने का समय- 21:17
जोधपुर में चांद निकलने का समय- 21:28
बीकानेर में चांद निकलने का समय- 21:26
अजमेर में चांद निकलने का समय- 21:22
जैसलमेर में चांद निकलने का समय- 21:37
अलवर में चांद निकलने का समय- 21:13

10:08 AM : सकट चौथ के दिन चन्द्रोदय समय- रात 09 बजकर 10 बजे होगा। इसी समय चंद्रमा को अर्घ्य दिया जाएगा और व्रत को खोला जाएगा। 

10:01 AM : सकट चौथ व्रत कथा ( Sakat Chauth Vrat Katha )
किसी नगर में एक कुम्हार रहता था। एक बार जब उसने बर्तन बनाकर आंवां लगाया तो आंवां नहीं पका। परेशान होकर वह राजा के पास गया और बोला कि महाराज न जाने क्या कारण है कि आंवा पक ही नहीं रहा है। राजा ने राजपंडित को बुलाकर कारण पूछा। राजपंडित ने कहा, ''हर बार आंवा लगाते समय एक बच्चे की बलि देने से आंवा पक जाएगा।'' राजा का आदेश हो गया। बलि आरम्भ हुई। जिस परिवार की बारी होती, वह अपने बच्चों में से एक बच्चा बलि के लिए भेज देता। इस तरह कुछ दिनों बाद एक बुढि़या के लड़के की बारी आई।

बुढि़या के एक ही बेटा था तथा उसके जीवन का सहारा था, पर राजाज्ञा कुछ नहीं देखती। दुखी बुढ़िया सोचने लगी, ''मेरा एक ही बेटा है, वह भी सकट के दिन मुझ से जुदा हो जाएगा।'' तभी उसको एक उपाय सूझा। उसने लड़के को सकट की सुपारी तथा दूब का बीड़ा देकर कहा, ''भगवान का नाम लेकर आंवां में बैठ जाना। सकट माता तेरी रक्षा करेंगी।''

सकट के दिन बालक आंवां में बिठा दिया गया और बुढ़िया सकट माता के सामने बैठकर पूजा प्रार्थना करने लगी। पहले तो आंवा पकने में कई दिन लग जाते थे, पर इस बार सकट माता की कृपा से एक ही रात में आंवा पक गया। सवेरे कुम्हार ने देखा तो हैरान रह गया। आंवां पक गया था और बुढ़िया का बेटा जीवित व सुरक्षित था। सकट माता की कृपा से नगर के अन्य बालक भी जी उठे। यह देख नगरवासियों ने माता सकट की महिमा स्वीकार कर ली। तब से आज तक सकट माता की पूजा और व्रत का विधान चला आ रहा है।

10:00 AM : ज्योतिषाचार्यों का कहना है कि आज की पूजा में दूर्वा, शमी पत्र, बेल पत्र, गुड़ और तिल के लडडू चढ़ाए जाते हैं। यह व्रत संतान के जीवन में विघ्न बाधाओं को दूर करता है। संकटों तथा दुखों को दूर करने वाला और रिद्धि सिद्धि देने वाला है। इस दिन स्त्रियां निर्जल व्रत रखती हैं। शाम को चन्द्रोदय के समय तिल, गुड़ आदि का अर्ध्य चंद्रमा को दिया जाता है। चंद्र देव की पूजा का विशेष महत्व है। 

10:00 AM : सकट चौथ पूजा मुहूर्त- 
चतुर्थी तिथि प्रारम्भ - जनवरी 29, 2024 को 06:10 ए एम बजे
चतुर्थी तिथि समाप्त - जनवरी 30, 2024 को 08:54 ए एम बजे

09:46 AM : सकट चौथ पूजा- विधि
घर के मंदिर में दीप प्रज्वलित करें।
संभव हो तो इस दिन व्रत भी रखें।
गणपित भगवान का गंगा जल से अभिषेक करें। 
भगवान गणेश को पुष्प अर्पित करें। 
भगवान गणेश को दूर्वा घास भी अर्पित करें। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार दूर्वा घास चढ़ाने से भगवान गणेश प्रसन्न होते हैं।
भगवान गणेश को सिंदूर लगाएं।
भगवान गणेश का ध्यान करें।
गणेश जी को भोग भी लगाएं। आप गणेश जी को मोदक या लड्डूओं का भोग भी लगा सकते हैं।
इस व्रत में चांद की पूजा का भी महत्व होता है। 
शाम को चांद के दर्शन करने के बाद ही व्रत खोलें।
भगवान गणेश की आरती जरूर करें।

08:42 AM : संकष्टी चतुर्थी पूजा सामग्री लिस्ट
भगवान गणेश की प्रतिमा
लाल कपड़ा
दूर्वा
जनेऊ
कलश
नारियल
पंचामृत
पंचमेवा
गंगाजल
रोली
मौली लाल

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें