ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News AstrologySakat Chauth 2024 Today Moon rise time on 29 Janaury 2024 aaj chand kab niklega

Moonrise Time On 29 January :सकट चौथ पर पुणे, उत्तराखंड में हुए चंद्रदेव के दर्शन, ऐसे दें चंद्रमा को अर्घ्य, यहां देखें अपने शहर की टाइमिंग

Sakat Chauth 2024 Moonrise Timing : सकट चौथ के दिन माताएं संतान की लंबी आयु के लिए निर्जला व्रत रखती हैं और चंद्रोदय को जल अर्घ्य देने के बाद ही कुछ ग्रहण करती हैं। यहां पढ़ें आज के मूनराइज की टाइमिंग

Moonrise Time On 29 January :सकट चौथ पर पुणे, उत्तराखंड में हुए चंद्रदेव के दर्शन, ऐसे दें चंद्रमा को अर्घ्य, यहां देखें अपने शहर की टाइमिंग
Arti Tripathiलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीMon, 29 Jan 2024 10:17 PM
ऐप पर पढ़ें

Sakat Chauth 2024 Moonrise Timing Today On 29 Janury: हिंदू धर्म में सकट चौथ व्रत का बड़ा महत्व है। देशभर के कई हिस्सों में आज माताएं अपने संतान की अच्छे स्वास्थ्य और सुख-सौभाग्य में वृद्धि के लिए सकट चौथ का निर्जला व्रत कर रही हैं। धार्मिक मान्यता है कि सकट चौथ का व्रत रखकर और गणेशजी की पूजा करने से सभी संकटों से मुक्ति मिलती हैं। इस दिन रात में चंद्रोदय के चन्द्रमा को जल अर्घ्य देने और उनकी पूजा किए बिना सकट चौथ का व्रत अधूरा माना जाता है। ऐसे में आइए जानते हैं देश के अलग-अलग शहरों में चंद्रोदय का सही समय...

चंद्रदेव को जल अर्घ्य देते समय न करें ये गलतियां, जानें कानपुर, मेरठ समेत UP के इन जिलों में कब निकलेगा चांद ?

कानपुर :  08:59 पीएम
नई दिल्ली :09:11 पीएम
जम्मू :09:18 पीएम
पुणे :09:29 पीएम
सूरत : 09:32 पीएम
अहमदाबाद : 09:32 पीएम
हैदराबाद :09:11 पीएम
कोलकाता :08:37 पीएम
मेरठ : 09:08 पीएम
चेन्नई : 09 : 05 पीएम
चंडीगढ़ : 09:11 पीएम
राजस्थान : 09:27 पीएम

सकट चौथ आज,जानें कानपुर, मेरठ, गोरखपुर समेत UP के इन जिलों में कब निकलेगा चांद ?

सायंकाल की पूजाविधि :

शाम को पूजा के लिए स्वच्छ कपड़े पहनें।
इसके बाद में गणेशजी की विधिविधान से पूजा करें।
सकट चौथ व्रत कथा पढ़ें और उनकी आरती उतारें।
फिर गणेशजी को तिल के लड्डू और मिठाई का भोग लगाएं।
चांद निकलने के बाद चन्द्रमा को जल अर्घ्य दें।

चंद्रदेव को जल अर्ध्य देने की विधि :

तांबे या पीतल के लोटे में जल,कच्चा दूध,शहद, अक्षत और सफेद फूल डाल लें।
फिर चांद के निकलने के बाद चंद्रदेव को अर्पित करें।
इसके बाद चंद्रदेव फूल, दीप और अक्षत अर्पित करें और उनकी आरती उतारें।

डिस्क्लेमर: इस आलेख में दी गई जानकारियों पर हम दावा नहीं करते कि ये पूर्णतया सत्य है और सटीक है। इन्हें अपनाने से पहले संबंधित क्षेत्र के विशेषज्ञ की सलाह जरूर 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें