ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News AstrologyRashifal Horoscope Shani Gochar Surya SaturnSun will increase the tension of 3 zodiac signs

सूर्य-शनि 3 राशियों की बढ़ाएंगे टेंशन, जीवन में खूब मचेगी हलचल

Shani-Surya: कुंभ राशि में सूर्य के गोचर करने से शनि और सूर्य की युति बनी हुई है, जो 15 मार्च तक रहेगी। सूर्य-शनि मित्र ग्रह नहीं हैं, ऐसे में बाप-बेटे की ये युति कुछ राशियों के लिए शुभ नहीं रहने वाली

सूर्य-शनि 3 राशियों की बढ़ाएंगे टेंशन, जीवन में खूब मचेगी हलचल
Shrishti Chaubeyलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीWed, 21 Feb 2024 11:22 PM
ऐप पर पढ़ें

Rashifal Shani-Surya: हाल ही में ग्रहों के राजा सूर्य में अपने पुत्र की राशि में गोचर किया है। 13 फरवरी के दिन सूर्य के राशि परिवर्तन करते ही कुंभ राशि में शनि और सूर्य की युति बनी हुई है। ज्योतिष विद्या के अनुसार, दोनों ग्रह का आपस में अच्छा संबंध नहीं माना जाता है। ऐसे में सूर्य और शनि की युति से कुछ राशियों को दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है। ये युति 13 मार्च तक रहेगी। ऐसे में आइए जानते हैं सूर्य और शनि की इस युति से किन राशियों को अलर्ट रहने की जरूरत है साथ ही पढ़ें इस युति के बुरे प्रभाव को कम करने के उपाय-

शनि की राशि में मंगल करेंगे प्रवेश, इन राशियों का पलटेगा भाग्य

धनु राशि 
धनु राशि के जातकों के लिए सूर्य ग्रह का गोचर बहुत फायदेमंद नहीं रहने वाला है। करियर में कलीग्स के साथ वाद-विवाद की स्थिति पैदा हो सकती है। आर्थिक तौर पर परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। खर्च की अधिकता मन को परेशान कर सकती है। बेवजह का स्ट्रेस लेने से बचें।

कर्क राशि
सूर्य का गोचर कर्क राशि वालों के लिए लाभदायक नहीं माना जा रहा है। आर्थिक स्थिति में बदलाव हो सकता है। धन हानि होने की संभावना है। नेगेटिव फील कर सकते हैं। पार्टनर के साथ मनमुटाव की स्थिति पैदा हो सकती है। सेहत भी खराब हो सकती है।

कन्या राशि
कन्या राशि के जातकों आपके लिए सूर्य का गोचर बेहद शुभ नहीं माना जा रहा है। आर्थिक जीवन में उतार-चढ़ाव बना रहेगा। जीवन में चुनौतियों का सामना करना पड़ सकता है। काम पूरा करने में रुकावटें आ सकती हैं। सेहत पर विशेष ध्यान देने की जरूरत है।

1 अप्रैल तक ये राशियां रहेंगी मालामाल, Budh की सीधी चाल का कमाल

उपाय 
शनि और सूर्य की युति के बुरे प्रभाव को कम करने के लिए आपको रोजाना शनि चालीसा और सूर्य चालीसा का पाठ करना चाहिए। पीपल के पेड़ और शमी के पेड़ की पूजा करनी चाहिए। शनिवार को पीपल के पेड़ और शमी के पेड़ में जल चढ़ाएं। संध्या के समय सरसों के तेल में काला तिल मिलाकर पेड़ के समक्ष दीपक जलाएं। रोजाना सूर्य को अर्घ्य दें। 

डिस्क्लेमर: इस आलेख में दी गई जानकारियों पर हम यह दावा नहीं करते कि ये पूर्णतया सत्य एवं सटीक हैं। विस्तृत और अधिक जानकारी के लिए संबंधित क्षेत्र के विशेषज्ञ की सलाह जरूर लें। 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें