Rakshabandhan is on purna amrit and ruchak mahapurash yog this year - पूर्ण अमृत और रुचक महापुरुष योग में है इस बार रक्षाबंधन DA Image
17 नबम्बर, 2019|5:47|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पूर्ण अमृत और रुचक महापुरुष योग में है इस बार रक्षाबंधन

rakshi bandhan 2018

इस बार रक्षाबंधन पूर्ण अमृत और रुचक नामक महापुरुष योग में आ रहा है। भाई-बहनों का पवित्र पर्व रक्षाबंधन 26 अगस्त को है। रविवार को पूर्णिमा तिथि सुखद और फलदायी है। रक्षाबंधन को लेकर राखी और मिठाई बाजार गुलजार हैं। 

तेज और प्रताप बढ़ानेवाला योग : ज्योतिषाचार्य सुधानंद झा बताते हैं कि पूर्णिमा और रविवार का संयोग वरदान बनकर आया है। ब्राह्मण यजमान को और बहन भाई को राखी बांधे तो उनका तेज, प्रताप और शक्ति बढ़ेगी। संस्कार और धन संपत्ति में वृद्धि होगी।

सुबह से देर रात तक है मुहुर्त : आचार्य ने बताया कि इस बार रक्षाबंधन में भद्रा और मतांतर नहीं है। सुंदर योग में रक्षाबंधन का मुहुर्त भी उत्कृष्ट है। ब्रह्ममुहुर्त से पहले देर रात तक राखी बांधी जाएगी। सुबह पांच से रात 11.35 बजे रक्षाबंधन का मुहुर्त है।

भोजली शोभा यात्रा 26 को : लोधी क्षत्रिय महासभा का भोजली शोभा यात्रा न्यू सीपी क्लब सोनारी से शुरू होगी। दोपहर तीन बजे भाइयों द्वारा उज्जैना के बाद बहनें माथे पर भोजली लेकर शोभा यात्रा निकलेंगी। भाइयों की रक्षा के लिए कपाली घाट में भोजली विसर्जित करेंगी। 

वरुण देव की पूजा जरूर करें : आचार्य ने बताया कि अपने शत्रुओं को परास्त करने के लिए रक्षाबंधन के दिन वरुण देव की पूजा जरूर करें। भगवान विष्णु ने वामन अवतार धारण कर बलि राजा के अभिमान को इसी दिन तोड़ा था। प्राचीनकाल से रक्षासूत्र बांधने का प्रचलन जीवंत है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Rakshabandhan is on purna amrit and ruchak mahapurash yog this year