DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   धर्म  ›  Raksha Bandhan 2020: भद्रा काल में इस वजह से नहीं बांधते राखी, जानें कब तक नहीं खोलना चाहिए रक्षासूत्र
पंचांग-पुराण

Raksha Bandhan 2020: भद्रा काल में इस वजह से नहीं बांधते राखी, जानें कब तक नहीं खोलना चाहिए रक्षासूत्र

लाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीPublished By: Saumya Tiwari
Mon, 03 Aug 2020 10:17 AM
Raksha Bandhan 2020: भद्रा काल में इस वजह से नहीं बांधते राखी, जानें कब तक नहीं खोलना चाहिए रक्षासूत्र

आज देशभर में रक्षाबंधन (Raksha Bandhan 2020)  का त्योहार मनाया जा रहा है। हिंदू धर्म की मान्यताओं के अनुसार, बहन को हमेशा शुभ मुहूर्त में ही भाई को राखी बांधनी चाहिए। राखी बांधने के लिए राहुकाल और भद्रा के समय से बचना चाहिए। वहीं अक्सर लोगों को जानकारी न होने के कारण वह राखी को तुरंत या कुछ समय बाद निकाल लेते हैं। लेकिन ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, राखी को भी शुभ समय पर निकालना चाहिए। 

भद्रा काल में इस वजह से नहीं बांधनी चाहिए राखी

शास्त्रों के अनुसार, भद्रा काल में रक्षाबंधन पर राखी न बांधने की वजह लंकापति रावण से जुड़ी है। कहते हैं कि रावण की बहन ने उसे भद्राकाल में ही राखी बांधी थी। जिसके एक साल के बाद ही रावण का विनाश हो गया था। इसलिए भद्रा काल में राखी बांधना अशुभ माना गया है।

ये भी पढ़ें: रक्षा बंधन आज, शताब्दी में पहली बार चतुर्योग में रक्षा बंधन, यह है राखी बांधने का शुभ मुहूर्त

किस रंग का होना चाहिए रक्षा सूत्र?

कहते हैं कि रक्षासूत्र हमेशा तीन रंग का ही होना शुभ होता है। सफेद, लाल या पीला। रक्षा सूत्र में चंदन लगाना भी शुभ माना जाता है।

कब तक नहीं निकालनी चाहिए राखी?

मान्यता है कि राखी बंधने के कम से कम एक पक्ष तक इसे नहीं खोलना चाहिए। अगर किसी कारणवश राखी खुल जाती है तो उसे बहते जल में प्रवाहित करना चाहिए या मिट्टी में भी दबा सकते हैं।

ये भी पढ़ें: इस साल भाई को राशि के शुभ रंग के अनुसार बांधे राखी, पलटेगी किस्मत

राखी बंधन का मुहूर्त
शुभ योग : सुबह 9:31 से 10:46 तक
अभिजीत मुहूर्त : दोपहर 12:00 से 12:53 तक
अपराहन मुहूर्त : दोपहर 1:48 से शाम 4:29 तक
लाभ मुहूर्त : दोपहर 3:48 से शाम 5:29 तक
संध्या अमृत मुहूर्त : शाम 5:29 से 7:10 तक
प्रदोष काल : शाम 7:06 से रात 9:14 तक

इस आर्टिकल को शेयर करें
लाइव हिन्दुस्तान टेलीग्राम पर सब्सक्राइब कर सकते हैं।आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं? हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें।

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

सब्सक्राइब
अपडेट रहें हिंदुस्तान ऐप के साथ ऐप डाउनलोड करें

संबंधित खबरें