DA Image
2 अगस्त, 2020|10:40|IST

अगली स्टोरी

Raksha Bandhan 2020: कल है राखी, भूलकर भी भाई की कलाई पर न बांधें इस तरह की राखी

Raksha Bandhan 2020: हिंदू पंचांग के अनुसार रक्षाबंधन का पावन पर्व श्रवण मास की पूर्णिमा को मनाया जाता है। इस वर्ष यह त्योहार सावन के आखिरी सोमवार (03 August 2020)को मनाया जाएगा। खास बात है कि इस रक्षाबंधन पर सावन पूर्णिमा व श्रवण नक्षत्र का महासंयोग भी बन रहा है। इस दिन तीन विशेष संयोग बनने की वजह से बहन-भाइयों को विशेष लाभ मिलने वाला है। राखी के दिन बहनें अपने भाई को रक्षासूत्र बांधती हैं और उसकी लंबी उम्र की कामना करती हैं। इसके बदले में भाई भी अपनी बहन को उसकी रक्षा का वचन देता है। लेकिन कई बार जानें-अनजाने राखी खरीदते या बांधते समय बहनों से कुछ ऐसी गलतियां हो जाती हैं जिसकी वजह से बाद में अशुभ परिणाम देखने को मिल सकते हैं। तो आइए जानते हैं आखिर क्या हैं वो गलतियां जो राखी खरीदते समय भूलकर भी नहीं करनी चाहिए।  

भाई को राखी बांधते समय न करें ये गलतियां-

-कई बार जाने-अनजाने राखी बांधते समय टूट जाती हैं और बहनें उसे वापस जोड़कर भाई को पहना देती हैं। ऐसा बिल्कुल न करें। यदि आपसे कोई राखी खंडित हो जाए तो उसका प्रयोग भाई की कलाई पर ना करें।
-कभी भी भाई को पहनाने के लिए प्लास्टिक वाली राखियों का इस्तेमाल ना करें। प्लास्टिक को केतु का सूचक माना जाता है और ये अपयश बढ़ाता है। यही वजह है कि रक्षाबंधन के दिन प्लास्टिक की राखी खरीदने और पहनाने से बचें। 
-राखी खरीदते समय ध्यान दें कि राखी में कोई धारधार या किसी तरह का कोई हथियार न बना हुआ हो।
-कई बार बाजार में ऐसी राखियां देखने को मिलती हैं जिनमें भगवान के चित्र बने होते हैं। इस तरह की राखियों को शुभ नहीं माना जाता है।ऐसी राखी खरीदने से बचें। 
-बहनें लोहे के काम वाली राखियां भी खरीदने से बचें।  

कैसी राखी होती है शुभ-
बहनों को हमेशा रेशम से बनी, कलावे या सूत से बनी राखी ही भाई को पहनाने के लिए खरीदनी चाहिए। इस तरह की राखी भाइयों को पहनाने से उनके यश में वृद्धि होती है। ज्योतिषियों के अनुसार राखी को हमेशा शुभ मुहूर्त और सही विधि से ही पहनाना चाहिए।

इसके लिए सबसे पहले भाई को पूर्व दिशा की तरफ मुंह करके बैठाना चाहिए। इसके बाद बहन को अच्छे से पूजा की थाली सजानी चाहिए। पूजा की थाली में चावल, रौली, राखी, दीपक होना चाहिए। इसके बाद बहन को भाई के अनामिका उंगली से टीका कर चावल लगाने चाहिए।

अक्षत अखंड शुभता को प्रदर्शित करते हैं। उसके बाद भाई की आरती उतारनी चाहिए और उसके जीवन की मंगल कामना करनी चाहिए। कई जगह बहनें इस दिन अपने भाई की सिक्के से नजर भी उतारती हैं। 

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Raksha Bandhan 2020: Know about the date subh muhurat of rakhi pujan and avoid these things while tying rakhi on brothers wrist