Hindi Newsधर्म न्यूज़Rahu will bring immense wealth to the people of this zodiac sign for 18 months horoscope future predictions

18 महीने के लिए राहु इस राशि के लोगों को दिलाएंगे अपार धन, विदेश जाने के भी योग

Rahu gochar: मूल कुंडली में यदि राहु की स्थिति अच्छी है तो राहु और भी सकारात्मक परिवर्तन देता है। अगर मूल कुंडली में राहु की स्थिति ठीक नहीं है, तब इसके सकारात्मक प्रभाव में थोड़ी कमी जरूर आ जाएगी।

Anuradha Pandey ज्योतिर्विद पं दिवाकर त्रिपाठी, नई दिल्लीWed, 22 Nov 2023 07:35 PM
हमें फॉलो करें

Rahu Rashi Parivartan 2023: राहु के मीन राशि एवं केतु के कन्या राशि में गोचर आरम्भ करने से वृषभ लग्न वालों के लिए राहु के साथ-साथ केतु भी व्यापक प्रभाव स्थापित करेगा, क्योंकि राहु का गोचर एकादश स्थान लाभ भाव में होगा तथा केतु का गोचर पंचम भाव अर्थात संतान के भाव पर होगा। राहु का गोचर मंगल की राशि में से देवगुरु बृहस्पति की राशि मीन में होने जा रहा है तथा केतु का परिवर्तन शुक्र की राशि तुला से बुध की राशि कन्या में होने जा रहा है। पराक्रम के कारक ग्रह मंगल की राशि में से देव गुरु बृहस्पति के राशि में गोचर करने से राहु के उग्रता में थोड़ी कमी आएगी तथा सकारात्मक प्रभाव प्राप्त होगा । वही शुक्र की राशि से बुध की राशि में प्रवेश करने के कारण बौद्धिक क्षमता वाले लोगों के लिए सकारात्मक प्रभाव प्रदान करेगा। कार्तिक कृष्ण पक्ष द्वितीया को राहु एवं केतु का गोचरीय दृष्टिकोण से परिवर्तन हो गया है। मीन राशि में राहु तथा कन्या राशि मे केतु 18 मई 2025 तक रहेंगे । दोनों छाया ग्रह है। कल युग मे ये दोनों प्रभाव शाली ग्रह माने जाते है । अगले 18 महीना के लिए अर्थात 18 मई 2025 तक के लिए राहु जल तत्व की राशि में तथा केतु पृथ्वी तत्व की राशि प्रवेश में प्रवेश करेगा। राहु केतु के इस परिवर्तन के परिणाम स्वरुप वृषभ लग्न तथा राशि वालों पर निम्न प्रभाव स्थापित होगा। 

आर्थिक गतिविधियों के लिए राहु का परिवर्तन वृषभ लग्न वालों के लिए बहुत शुभकारक परिणाम प्रदान करेगा । व्यावसायिक विस्तार में वृद्धि। व्यवसाय अच्छा चलने के कारण लाभ में वृद्धि । यश कीर्ति में , परोपकार में समय व्यतीत होगा, अचानक धन प्राप्ति का योग बनेगा। चुनाव जीतने का भी योग बनेगा। पराक्रम एवं सामाजिक क्षेत्र में विस्तार होगा। भाई बहनों तथा मित्रों को लेकर तनाव बढ़ेगा परंतु सहयोग भी प्राप्त होगा। कंधे कमर के दर्द में भी वृद्धि हो सकती है। मानसिक तनाव में वृद्धि हो सकता है। आलस्य में भी वृद्धि की स्थिति बनेगी, दूरस्थ यात्रा का भी योग बनेगा अध्ययन अध्यापन में अवरोध अथवा परिवर्तन की स्थिति बनेगा। संतान पक्ष से शुभ समाचार की स्थिति के साथ-साथ संतान उत्पत्ति का भी संयोग बनेगा। दांपत्य जीवन में सुधार की स्थिति बनेगी परंतु स्वास्थ्य के कारण तनाव की स्थिति भी बनेगी। प्रेम संबंधों में थोड़े विवाद के साथ प्रगति का योग बनेगा ।अर्थात इस अवधि में नोक झोक की स्थिति भी बनी रहेगी। पार्टनरशिप में सावधान रहने की जरूरत है। नसों में दर्द हो सकता है, राहु एवं केतु का यह गोचरीय परिवर्तन धन एवं सामाजिक दृष्टिकोण के साथ साथ राजनीतिक दृष्टिकोण से भी बेहद सकारात्मक होगा। विदेश जाने का भी योग बनेगा। महत्वाकांक्षा में वृद्धि होगा। मूल कुंडली में यदि राहु की स्थिति अच्छी है तो राहु और भी सकारात्मक परिवर्तन देता है। अगर मूल कुंडली में राहु की स्थिति ठीक नहीं है, तब इसके सकारात्मक प्रभाव में थोड़ी कमी जरूर आ जाएगी। इसलिए राहु के प्रभाव में सकारात्मक वृद्धि के लिए उपाय करना आवश्यक होगा।

ऐप पर पढ़ें