DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   धर्म  ›  Pradosh Vrat June 2021: जून के दूसरे प्रदोष व्रत के दिन बन रहा खास संयोग, भगवान शिव के साथ हनुमान जी का भी मिलेगा आशीर्वाद
पंचांग-पुराण

Pradosh Vrat June 2021: जून के दूसरे प्रदोष व्रत के दिन बन रहा खास संयोग, भगवान शिव के साथ हनुमान जी का भी मिलेगा आशीर्वाद

लाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीPublished By: Saumya Tiwari
Mon, 14 Jun 2021 12:00 PM
Pradosh Vrat June 2021: जून के दूसरे प्रदोष व्रत के दिन बन रहा खास संयोग, भगवान शिव के साथ हनुमान जी का भी मिलेगा आशीर्वाद

हिंदू धर्म में त्रयोदशी को बेहद शुभ माना जाता है। शास्त्रों के अनुसार, त्रयोदशी तिथि के दिन भगवान शिव की पूजा-अर्चना करने से शुभ फलों की प्राप्ति होती है। शिव भक्त इस दिन भोलेनाथ को प्रसन्न करने के लिए व्रत रखने के साथ ही कई तरह के उपाय भी करते हैं। हर माह दो त्रयोदशी तिथि पड़ती है। त्रयोदशी तिथि के दिन प्रदोष व्रत रखा जाता है। इस तरह से महीने में कुल 2 और साल में कुल 24 प्रदोष व्रत पड़ते हैं।

हिंदू पंचांग के अनुसार, ज्येष्ठ मास के शुक्ल पक्ष की त्रयोदशी तिथि 22 जून, दिन मंगलवार को है। ऐसे में जून का दूसरा और आखिरी प्रदोष व्रत 22 जून को रखा जाएगा। मंगलवार के दिन पड़ने वाले प्रदोष व्रत को भौम प्रदोष व्रत कहा जाता है। मंगलवार का दिन हनुमान जी का होता है। हनुमान जी को भी भगवान शिव का अवतार माना जाता है। ऐसे में इस दिन भगवान शंकर के साथ हनुमान जी की उपासना का शुभ संयोग बन रहा है।

प्रदोष व्रत के दिन बन रहे दो शुभ संयोग-

प्रदोष व्रत के दिन सिद्धि व साध्य योग बन रहे हैं। सुबह 10 बजकर 22 मिनट तक सिद्धि योग रहेगा। इसके बाद साध्य योग लग जाएगा। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, सिद्धि व साध्य योग में किए गए कार्यों में सफलता हासिल होती है। ये मांगलिक व शुभ कार्यों के लिए शुभ योग हैं।

ग्रहों की स्थिति-

ज्येष्ठ मास के दूसरे प्रदोष के दिन चंद्रमा तुला राशि पर संचार करेगा। सुबह 09 बजे के बाद चंद्रमा वृश्चिक राशि पर विराजमान हो जाएगा। इस दिन सूर्य मिथुन राशि पर संचार करेगा।

प्रदोष व्रत पूजा विधि-

प्रदोष व्रत के दिन स्नान के बाद पूजा के लिए बैठें। भगवान शिव और माता पार्वती को चंदन, पुष्प, अक्षत, धूप, दक्षिणा और नैवेद्य अर्पित करें। महिलाएं मां पार्वती को लाल चुनरी और सुहाग का सामान चढ़ाएं। मां पार्वती को श्रृंगार का सामान अर्पित करना शुभ माना जाता है। इसके बाद भगवान शिव व माता पार्वती की आरती उतारें। पूरे दिन व्रत-नियमों का पालन करें। इस दौरान हनुमान जी की भी विधि-विधान से पूजा-अर्चना करें। 


 

संबंधित खबरें