DA Image
हिंदी न्यूज़ › धर्म › Pradosh Vrat 2021: भौम प्रदोष व्रत आज, जानें व्रत नियम, शुभ मुहूर्त और पूजा की थाली में क्या-क्या होना चाहिए
पंचांग-पुराण

Pradosh Vrat 2021: भौम प्रदोष व्रत आज, जानें व्रत नियम, शुभ मुहूर्त और पूजा की थाली में क्या-क्या होना चाहिए

लाइव हिन्दुस्तान टीम,नई दिल्लीPublished By: Saumya Tiwari
Tue, 26 Jan 2021 08:28 AM
Pradosh Vrat 2021: भौम प्रदोष व्रत आज, जानें व्रत नियम, शुभ मुहूर्त और पूजा की थाली में क्या-क्या होना चाहिए

पौष मास के शुक्ल पक्ष की त्रयोदशी को भौम प्रदोष व्रत है। यह तिथि इस साल 26 जनवरी (मंगलवार) को है। मंगलवार के दिन पड़ने वाले प्रदोष व्रत को भौम प्रदोष व्रत कहते हैं। प्रदोष व्रत हर माह कृष्ण पक्ष और शुक्ल पक्ष की त्रयोदशी को रखा जाता है। मान्यता है कि इस व्रत को रखने से भगवान शिव प्रसन्न होते हैं। ज्योतिषाचार्यों के अनुसार, प्रदोष व्रत की पूजा में कुछ खास तरह की चीजें शामिल करने से व्रत का पूरा फल मिलता है। इसके साथ ही व्रती को व्रत के नियमों का पालन करना चाहिए। जानिए इस दिन क्या खाना चाहिए, व्रत नियम और कैसे सजाएं पूजा की थाली-

प्रदोष व्रत के नियम-

1. प्रदोष व्रत करने के लिए व्रती को त्रयोदशी के दिन सुबह जल्दी उठना चाहिए।
2. नहाकर भगवान शिव का ध्यान करना चाहिए।
3. इस व्रत में भोजन ग्रहण नहीं किया जाता है।
4. गुस्सा या विवाद से बचकर रहना चाहिए।
5. प्रदोष व्रत के दिन ब्रह्मचर्य का पालन करना चाहिए।
6. इस दिन सूर्यास्त से एक घंटा पहले नहाकर भगवान शिव की पूजा करनी चाहिए।
7. प्रदोष व्रत की पूजा में कुशा के आसन का प्रयोग करना चाहिए।

आज है भौम प्रदोष व्रत, इस कथा को पढ़ने या सुनने से कष्टों से मुक्ति मिलने की है मान्यता, जानें शुभ मुहूर्त और पूजा विधि

प्रदोष व्रत में क्या खाना चाहिए-

इस व्रत में पूरे दिन अन्न ग्रहण नहीं किया जाता है। सुबह स्नान करने के बाद दूध पी सकते हैं। इसके बाद व्रत का संकल्प लें। प्रदोष काल में भगवान शिन की पूजा के बाद फलाहार कर सकते हैं। प्रदोष व्रत में नमक खाने की मनाही होती है। सिर्फ फल का सेवन करना चाहिए।

पूजा की थाली में क्या-क्या होनी चाहिए सामग्री-

प्रदोष व्रत में पूजा की थाली में अबीर, गुलाल, चंदन, अक्षत, फूल, धतूरा, बिल्वपत्र, जनेऊ, कलावा, दीपक, कपूर, अगरबत्ती और फल होना चाहिए।

इस बार पौष पूर्णिमा पर बन रहा है गुरु पुण्य योग, ये हैं स्नान के मुहूर्त, कल्पवास से मिलता है पुण्य फल

प्रदोष 2021 शुभ मुहूर्त-

त्रयोदशी तिथि का प्रारंभ- 25 जनवरी दिन सोमवार को देर रात 12 बजकर 24 मिनट पर।
त्रयोदशी तिथि समाप्त- 26 जनवरी को देर रात 01 बजकर 11 मिनट पर। 
ऐसे में प्रदोष व्रत 26 जनवरी को रखा जाएगा।
पूजा का समय- शाम 05:56 से रात्रि 08:35 तक रहेगा

संबंधित खबरें