ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News AstrologyPradosh Budh Pradosh fast on 21 February wonderful coincidence will happen know Shiva worship method auspicious time mantra and remedy

Pradosh: बुध प्रदोष व्रत आज, बनेंगे अद्भुत संयोग, जानें शिव पूजा-विधि, शुभ मुहूर्त, मंत्र और उपाय

Budh Pradosh Fast: पंचांग के अनुसार, प्रदोष व्रत के दिन अद्भुत संयोग बन रहे हैं। इस दिन भगवान शिव और माता पार्वती की प्रदोष काल में आराधना करने से कष्टों का राहत मिल सकती है।

Pradosh: बुध प्रदोष व्रत आज, बनेंगे अद्भुत संयोग, जानें शिव पूजा-विधि, शुभ मुहूर्त, मंत्र और उपाय
Shrishti Chaubeyलाइव हिन्दुस्तान,नई दिल्लीWed, 21 Feb 2024 06:13 PM
ऐप पर पढ़ें

Pradosh: 21 फरवरी, बुधवार को फरवरी का दूसरा प्रदोष व्रत रखा जाएगा। माघ महीने की शुक्ल पक्ष की त्रयोदशी तिथि के दिन प्रदोष व्रत पड़ रहा है, जो महादेव को समर्पित है। बुधवार के दिन पड़ने के कारण इसे बुध प्रदोष व्रत कहा जाएगा। पंचांग के अनुसार, प्रदोष व्रत के दिन अद्भुत संयोग बन रहे हैं। इस दिन भगवान शिव और माता पार्वती की आराधना होगी। धार्मिक मान्यता है कि प्रदोष व्रत करने से मनोकामना पूर्ति का वरदान प्राप्त होता है। इसलिए आइए जानते हैं प्रदोष पूजा की विधि, मंत्र, उपाय और शुभ मुहूर्त-

1 अप्रैल तक ये राशियां रहेंगी मालामाल, Budh की सीधी चाल का कमाल

प्रदोष व्रत पर अद्भुत संयोग 
प्रदोष व्रत के दिन कई शुभ संयोग का निर्माण हो रहा है। इस बार प्रदोष व्रत आयुष्मान् योग, सौभाग्य योग और पुनर्वसु नक्षत्र के संयोग में रखा जाएगा। इस दिन पुनर्वसु नक्षत्र दोपहर 02:18 बजे तक रहेगा, जिसके बाद पुष्य नक्षत्र का निर्माण होगा। वहीं, आयुष्मान् योग सुबह 11:51 तक रहेगा फिर सौभाग्य योग बनेगा, जो अगले दिन तक रहने वाला है। साथ ही 11:41 ए एम से 01:25 पी एम तक अमृत काल रहेगा। 12:20 पी एम से 01:46 पी एम तक राहुकाल का निर्माण भी हो रहा है, जिसमें शुभ कार्यों को करना वर्जित माना जाता है। 

बुध प्रदोष शुभ मुहूर्त- 
त्रयोदशी तिथि प्रारम्भ - फरवरी 21, 2024 को 11:27 ए एम बजे
त्रयोदशी तिथि समाप्त - फरवरी 22, 2024 को 01:21 पी एम बजे
दिन का प्रदोष समय - 06:02 पी एम से 08:33 पी एम
प्रदोष पूजा मुहूर्त - 06:02 पी एम से 08:33 पी एम
अवधि - 02 घण्टे 31 मिनट्स

शनि की राशि में मंगल करेंगे प्रवेश, इन राशियों का पलटेगा भाग्य

बुध प्रदोष पूजा-विधि
स्नान करने के बाद साफ वस्त्र धारण कर लें। शिव परिवार सहित सभी देवी-देवताओं की विधिवत पूजा करें। अगर व्रत रखना है तो हाथ में पवित्र जल, फूल और अक्षत लेकर व्रत रखने का संकल्प लें। फिर संध्या के समय घर के मंदिर में गोधूलि बेला में दीपक जलाएं। फिर शिव मंदिर या घर में भगवान शिव का अभिषेक करें और शिव परिवार की विधिवत पूजा-अर्चना करें। अब प्रदोष व्रत की कथा सुनें। फिर घी के दीपक से पूरी श्रद्धा के साथ भगवान शिव की आरती करें। अंत में ॐ नमः शिवाय का मंत्र-जाप करें। अंत में क्षमा प्रार्थना भी करें।

मंत्र 
ॐ नमः शिवाय, श्री शिवाय नमस्तुभ्यं 

बुध प्रदोष उपाय 
शिव जी की असीम कृपा पाने के लिए पूजन के दौरान शिवलिंग पर चढ़ाएं ये चीजें-
1. घी
2. दही
3. फूल
4. फल
5. अक्षत
6. बेलपत्र
7. धतूरा
8. भांग
9. शहद
10. गंगाजल
11. सफेद चंदन
12. काला तिल
13. कच्चा दूध
14. हरी मूंग दाल
15. शमी का पत्ता

डिस्क्लेमर: इस आलेख में दी गई जानकारियों पर हम यह दावा नहीं करते कि ये पूर्णतया सत्य एवं सटीक हैं। विस्तृत और अधिक जानकारी के लिए संबंधित क्षेत्र के विशेषज्ञ की सलाह जरूर लें। 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें